कोरोना वायरस इलाज के लिए Cipla ने लॉन्च की दवा, 2 दिन में तीन कंपनियों को मिली मंजूरी

कोरोना वायरस इलाज के लिए Cipla ने लॉन्च की दवा, 2 दिन में तीन कंपनियों को मिली मंजूरी
सिप्ला ने भी कोरोना इलाज के लिए दवा लॉन्च कर दी है.

सिप्ला को रेमडेसिवीर (Remdesivir) दवा के लिए DCGI से मंजूरी मिल गई है. कंपनी ने रविवार को इस बारे में जानकारी दी है. इसके पहले ग्लेनमार्क और हेटेरो ने भी कोरोना के इलाज के लिए दवा लॉन्च कर दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 21, 2020, 10:25 PM IST
  • Share this:
मुंबई. लगातार दो फार्मा कंपनियों द्वारा कोविड-19 की दवा लॉन्च करने के बाद अब सिप्ला (Cipla Limited) को भी DCGI से रेमडेसिवीर (Remdesivir) दवा पेश करने की अनुमति मिल गई है. सिप्ला इस दवा को बाजार में CIPREMI के ब्रांड नाम से उतारेगी. बीते 2 दिन में 3 कंपनियों ने कोरोना इलाज के लिए दवा लॉन्च कर दिया है. सबसे पहले ग्लेनमार्क (Glenmark) ने और फिर हेटेरो (Hetero Drugs) ने ऐसी दवा लॉन्च की है. US FDA ने इमरजेंसी यूज ऑथोराइजेशन (EUA) के तहत गिलीड साइंसेज इंक (Gilead Scinces Inc.) को कोरोना इलाज के लिए रेमडेसिवीर का इस्तेमाल करने की मंजूरी दी थी. पिछले महीने ही गिलीड साइंसेज ने सिप्ला को इस दवा की विनिर्माण और विपणन (Manufacturing and Marketing) की नॉन-एक्सक्लुसिव मंजूरी दी थी.

दवा के इस्तेमाल के लिए ट्रेनिंग देगी सिप्ला
अब सिप्ला को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से भी मंजूरी मिल गई है, जिसके बाद कंपनी ने CIPREMI ब्रांड नाम से इस दवा को लॉन्च किया है. रिस्क मैनेजमेंट प्लान के तहत, सिप्ला इस दवा का इस्तेमाल करने के लिए ट्रेनिंग देगी और मरीजों को एक फॉर्म भी भरना होगा. पोस्ट मार्केट सर्विलांस के अतिरिक्त कंपनी मरीजों पर चौथे चरण का ​क्लिनिकल ट्रायल भी करेगी.

ट्रायल में रेमडेसिवीर का रिस्पॉन्स बेहतर
रेमडेसिवीर का ट्रायल अमेरिका, यूरोप और एशिया के 60 सेंटर्स में 1063 मरीजों पर किया गया था. इस ट्रायल में हॉस्पिटल में रखे गए मरीजों पर दवा ने बेहतरी रिकवरी करने में मदद की है. इसमें से अधिकतर मरीज ऑक्सीजन पर थे. रेमडेसिवीर दिए जाने वाले मरीजों में मृत्यु दर 7.1 फीसदी रहा.





यह भी पढ़ें: कोरोना के इलाज के लिए भारत में दूसरी दवा को मिली मंजूरी, अब Hetero पेश करेगी इंजेक्शन

अब इस दवा को लॉन्च करने के बाद संभावी मांग और उपलब्धता को देखते हुए सिप्ला अपने फैसिलिटीज और पार्टनर्ड साइ्टस के जरिए इसे कॉमर्शियलाइज करेगी. इस दवा की सप्लाई सरकारी व ओपेन मार्केट चैनल के जरिए की जाएगी. कंपनी यह सुनिश्चित करना चाहती है कि इस दवा का पर्याप्त वितरण हो सके.

ग्लेनमार्क ने लॉन्च की है टैबलेट
गौरलतब है कि बीते दिन ही ग्लेनमार्क ने भी माइल्ड कोविड-19 वाले मरीजों के लिए एक दवा को लॉन्च किया है. शुक्रवार को इस दवा के लिए ग्लेनमार्क को DCGI से मंजूरी मिली थी. ग्लेनमार्क ने FabiFlu नाम की इस दवा की कीमत 103 रुपये प्रति टैबलेट रखी है. FabiFlu कोविड-19 की इलाज के लिए मंजूरी प्राप्त करने वाली पहली Favipiravir दवा है. इस दवा का इस्तेमाल पहले दिन डॉक्टर्स की सलाह पर 1,800 mg दो बार किया जा सकता है. इसके बाद अगले 14 दिन तक 800 mg का डोज़ (FabiFlu Dose) दिन में दो बार दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें: भारतीय कंपनी ने बना ली कोरोना की दवा, 103 रुपये प्रति टैबलेट है कीमत

हेटरो ने भी लॉन्च की दवा
इसके बाद रविवार को ही दवा कंपनी हेटेरो (Hetero) कोविड-19 के इलाज के लिए वायरल रोधी परीक्षणगत दवा रेमडेसिवीर लॉन्च करने का ऐलान किया. हेटेरो ने बयान में कहा कि कंपनी को DCGI से रेमडेसिवीर के विनिर्माण और विपणन की अनुमति मिल गई है. रेमडेसिवीर के जेनेरिक संस्करण की भारत में ब्रिकी ‘कोविफोर’ ब्रांड नाम से की जाएगी. बयान में कहा गया है कि DCGI ने बालिगों और बच्चों में संदिग्ध या पुष्ट कोविड-19 के मामलों या फिर इसके संक्रमण की वजह से अस्पताल में भर्ती लोगों के इलाज के लिए इस दवा को अनुमति दे दी है. कंपनी ने कहा कि भारत में कोविड-19 के मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज