बाजार में हाहाकार, सेंसेक्स 470 अंक गिरकर बंद, निवेशकों के डूबे ₹1.69 लाख करोड़

बाजार में हाहाकार, सेंसेक्स 470 अंक गिरकर बंद, निवेशकों के डूबे ₹1.69 लाख करोड़
बाजार में बिकवाली हावी, सेंसेक्स 500 अंक टूटा

सेंसेक्स (Sensex) करीब 470 अंक टूटकर 36,093.47 के स्तर पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी (Nifty) 136 अंक गिरकर 10,705 के स्तर पर क्लोज हुआ.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 19, 2019, 4:01 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. घरेलू शेयर बाजार (Share Market) में गिरावट का सिलसिला लगातार जारी है. यूएस फेडरल रिजर्व (US Fed) ने उम्मीद के मुताबिक ब्याज दरों में 0.25 फीसदी की कटौती की है. हालांकि इस साल दरें और घटाने को लेकर साफ संकेत नहीं हैं. आगे दरें घटाने को लेकर फेड के सदस्य एकमत नहीं हैं. ग्लोबल मार्केट से मिले संकेतों के बीच कारोबार के दौरान सेंसेक्स 626 अंकों तक टूटा गया. निफ्टी 136 अंक फिसल गया. कारोबार के अंत में सेंसेक्स करीब 470 अंक टूटकर 36,093.47 के स्तर पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी 136 अंक गिरकर 10,705 के स्तर पर क्लोज हुआ. बाजार में गिरावट से निवेशकों को करोड़ों का नुकसान हुआ है.

रिकॉर्ड हाई से 11 फीसदी टूटा बाजार
इकोनॉमिक स्लोडाउन, अमेरिका-चीन ट्रेड वार की चिंता, जियोपॉलिटिकल टेंशन और खराब अर्निंग की वजह से मंदी का डर जैसे फैक्टर्स से शेयर बाजार रिकॉर्ड हाई से अब तक 11 फीसदी टूट गया है. जून 2019 में बाजार ने रिकॉर्ड हाई बनाया था.


निफ्टी 7 महीने के निचले स्तर पर


निफ्टी 7 महीने के निचले स्तर पर बंद हुआ है. सेंसेक्स के 30 में से 26 शेयरों में गिरावट देखने को मिल रही है जबकि निफ्टी के 50 में से 43 शेयरों में बिकवाली दिखी. वहीं बैंक निफ्टी के सभी 12 शेयरों में बिकवाली रही.

ये भी पढ़ें: इनकम टैक्स विभाग का अलर्ट! अगर आया है ये SMS तो खाली हो सकता है आपका बैंक अकाउंट

निवेशकों को 1.69 लाख करोड़ डूबे
बाजार में गिरावट से निवेशकों को करोड़ों का नुकसान हुआ है. बुधवार को बीएसई पर लिस्टेड कुल कंपनियों का मार्केट कैप 1,40,19,877.32 करोड़ रुपये था, जो आज 1,69,335.47 करोड़ रुपये घटकर 1,38,50,541.85 करोड़ रुपये हो गया.

बाजार में गिरावट की वजह
>> एक्सपर्ट्स का कहना है कि यूएस फेड ने ब्याज दरों में कटौती की है. लेकिन इस साल दरें और घटाने को लेकर साफ संकेत नहीं दिए हैं. आगे दरें घटाने को लेकर फेड के सदस्य एकमत नहीं है. कुछ सदस्य दरों में एक बार और कटौती के पक्ष में हैं. इससे अमेरिकी बाजार दरें घटाने के फैसले से खुश नहीं हुए और बाजार मिला-जुला बंद हुआ.
> उधर ईरान पर आर्थिक सख्ती बढ़ाने के ट्रंप के आदेश से क्रूड कीमतों पर दबाव देखने को मिल रहा है. इस बीच ईरान-सऊदी में तनाव बढ़ता नजर आ रहा है. सऊदी अरब की तरफ से कहा गया है कि हमले में ईरान के शामिल होने के सबूत हैं. वहीं ट्रेड डील को लेकर ट्रंप ने चीन को चेतावनी देते हुए कहा है कि चीन चुनाव तक ट्रेड डील का इंतजार ना करे. चुनाव के बाद डील हुई तो ज्यादा सख्ती होगी. इसका भी बाजार पर असर दिख रहा है.

ये भी पढ़ें: 22 रुपये रोज खर्च कर खरीदें LIC की ये पॉलिसी, ज्यादा मुनाफे के साथ होंगे ये 4 फायदे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज