अपना शहर चुनें

States

कभी पानी के लिए परेशान थी यहां की जनता, आज इस तरह स्ट्रॉबेरी की खेती करके हो रही कमाई

स्ट्रॉबेरी की खेती करके हो रही कमाई
स्ट्रॉबेरी की खेती करके हो रही कमाई

बुंदेलखंड (Bundelkhand) में एक समय ऐसा था जब वहां पर पीने के पानी के लिए भी लोग परेशान थे. वहां पीने का पानी भी ट्रेन के जरिए पहुंचाया जाता था. लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए टैंकरों से पानी की सप्लाई की जाती थी और आज वहां पर एक नई इबारत देखने को मिल रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 21, 2021, 12:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: बुंदेलखंड (Bundelkhand) में एक समय ऐसा था जब वहां पर पीने के पानी के लिए भी लोग परेशान थे. वहां पीने का पानी भी ट्रेन के जरिए पहुंचाया जाता था. लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए टैंकरों से पानी की सप्लाई की जाती थी. और आज वहां पर एक नई इबारत देखने को मिल रही है. एक समय में जहां पानी की किल्लत थी आज वहां पर स्ट्रॉबेरी (Strawberry) का उत्पादन किया जा रहा है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने यहां की स्ट्रॉबेरी को नई पहचान और बाजार देने के लिए स्ट्रॉबेरी महोत्सव का आयोजन किया है.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने शौर्य और संस्कार की धरती पर स्ट्रॉबेरी उगाए जाने को किसानों की मेहनत का नतीजा बताया है. सीएम का कहना है कि बुंदेलखंड में स्ट्रॉबेरी का उत्पादन किसी चमत्कार से कम नहीं है. स्ट्रॉबेरी की खेती अब बुंदेलखंड को एक नई पहचान दिलाएगी. पानी के चलते होने वाले यहां के लोगों का पलायन रोकेगी.

यह भी पढ़ें: नोएडा में आज से होने जा रही 341 प्लॉट्स की ऑनलाइन बिक्री, जानें इनकी लोकेशन और साइज



इसके साथ ही सीएम ने स्ट्रॉबेरी उगाने वाले किसानों को दिल से मुबारकबाद दी. उन्होंने कहा कि जिस तरह से स्ट्रॉबेरी की खेती को बढ़ावा देने के लिए स्ट्रॉबेरी महोत्सव आयोजित हो रहा है, उसी तर्ज पर सिद्धार्थनगर में कालानमक और चंदौली, बाराबंकी, कौशांबी और प्रयागराज के उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए भी महोत्सव आयोजित किये जाने चाहिए.
बुंदेलखंड में अदरक संग ऐसे उगाई स्ट्रॉबेरी
झांसी के डीएम आंद्रा वामसी का कहना है कि बुंदेलखंड की धरती कभी फलों के लिए नहीं जानी गई है. झांसी ज़िले का यह इलाका दलहन, तिलहन और अदरक की पैदाइश के लिए जाना जाता है. पहली बार बिना किसी सरकारी मदद के दो परिवारों ने इस तरह की पैदावार में सफलता हासिल की है. इन परिवारों ने ड्रिप इरिगेशन और स्प्रिंकल के माध्यम से इस क्षेत्र में स्ट्रॉबेरी की खेती करके दिखा दिया कि झांसी और बुंदेलखंड में स्ट्रॉबेरी उगाई जा सकती है.

यह भी पढ़ें: सोना खरीदने से पहले चेक कर लें आज के लेटेस्ट रेट्स, जानें महंगा हुआ या सस्ता...!

ऐसे में यह सोचा गया कि यदि झांसी में स्ट्रॉबेरी की खेती को बढ़ावा दिया जाये तो किसानों को बेहतर आमदनी का एक नया जरिया मिल सकेगा. इसके चलते ही झांसी में स्ट्रॉबेरी फेस्टिवल का आयोजन करने का फैसला किया गया. इस आयोजन में लोगों को बताया जाएगा कि स्ट्रॉबेरी की खेती कैसे करें और इसकी खेती करने के उनकी आमदनी में कैसे इजाफा होगा. गांव और शहरों में लोग अपने आंगन में स्ट्रॉबेरी का पौधा लगाएं, इसके लिए जिला प्रशासन लोगों को स्ट्रॉबेरी के पौधे भी मुहैया कराएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज