कोरोना संकट से देश में गईं करोड़ लोगों की नौकरियां, 22 फीसदी रोजगार में आई कमी

कोरोना संकट से देश में गईं करोड़ लोगों की नौकरियां, 22 फीसदी रोजगार में आई कमी
लॉकडाउन के कारण सबसे ज्यादा नुकसान युवाओं को उठाना पड़ा

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) के अनुसार कोरोना संक्रमण के चलते लगे लॉकडाउन के कारण सबसे ज्यादा नुकसान युवाओं को उठाना पड़ा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 26, 2020, 10:04 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना संकट दुनिया के अन्य देशों की तरह ही भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए भी भारी पड़ रहा है. कोराना की वजह से हुए लॉकडाउन के कारण देश में करीब 1.89 करोड़ लोगों की नौकरियां चली गई हैं. सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) के मुताबिक कोविड-19 महामारी का युवाओं की नौकरियों पर सबसे ज्यादा असर पड़ा है. CMIE की रिपोर्ट के अनुसार जिन लोगों की नौकरी गई उनमें सबसे ज्यादा युवा शामिल हैं. अगर सिर्फ जुलाई माह की बात करें तो इस महीने में ही 50 लाख लोगों की नौकरियां चली गईं.

CMIE के एमडी और सीईओ महेश व्यास ने कहा, "अप्रैल से जुलाई 2020 के बीच 2019-20 की तुलना में औसतन 1.11 करोड़ रोजगार में कमी आई है. नौकरी गवाने वालों में ज्यादातर लोग 40 साल से कम उम्र के हैं. CMIE के अनुसार, अप्रैल 2020 तक 1.77 करोड़ लोग नौकरी गंवा चुके थे. इसके बाद मई में करीब 1 लाख लोगों की नौकरी गई. जून में लॉकडाउन खुलने के बाद 39 लाख नौकरियां बढ़ीं, लेकिन जुलाई में फिर 50 लाख लोग नौकरी से हाथ धो बैठे.

ये भी पढ़ें : COVID-19 रोगी के लिए हर नगरपालिका को सरकार दे रही है डेढ़ लाख रुपये? जानें सच



वेतनभोगी लोगों की नौ​करियां जाना चिंता का विषय है. CMIE ने कंपनियों के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि 1,560 कंपनियों के वेतन बिल में एक साल पहले की समान तिमाही की तुलना में जून 2020 की तिमाही में 2.9% की वृद्धि दर्ज की गई.
ये भी पढ़ें : RBI की रिपोर्ट: कोरोना संकट के कारण घटेगी जीडीपी ग्रोथ, बढ़ेगी महंगाई 

व्यास ने युवाओं के लिए नौकरियों में आई इस गिरावट के कई कारण बताए. उन्होंने कहा कि युवा कम अनुभवी होता है, इसलिए उन्हें आसानी से हटाया जा सकता है. लॉकडाउन के कारण कंपनियों ने नए कर्मचारियों की भारती पर रोक लगा रखी है. नई भारती नहीं होना एक बेहद चिंता का विषय है. CMIE के एमडी एवं सीईओ महेश व्यास ने कहा, 2019-20 के पूरे साल और जुलाई 2020 की तुलना करें तो ग्रामीण और शहरी सभी इलाकों में वेतनभोगी लोगों की नौकरियां गई हैं. ग्रामीण इलाकों में नौकरियों में 21.8 तो शहरी इलाके में 22.2 फीसदी तक की गिरावट आई है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading