बिजली क्षेत्र की बढ़ी मांग को पूरा करने के लिए पूरी तरह तैयार Coal India

सांकेतिक फोटो

सांकेतिक फोटो

मौजूदा वित्त वर्ष में 199 गीगावॉट प्रतिदिन के कोयला आधारित बिजली उत्पादन कार्यक्रम में से 133 गीगावॉट का उत्पादन कोल इंडिया लिमिटेड (Coal India Ltd) के कोयले से हो रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोल सेक्टर की दिग्गज कोल इंडिया लिमिटेड (Coal India Ltd) ने कहा है कि वह बिजली क्षेत्र की किसी भी बढ़ी मांग को पूरा करने के लिए तैयार है. कोल इंडिया का यह बयान ऐसे समय आया है जबकि शुक्रवार को बिजली की मांग 187.3 गीगावॉट के अपने ऑल टाइम हाई पर पहुंच गई थी.

सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी कोल इंडिया ने बयान में कहा, ''कोल इंडिया बिजली क्षेत्र की बढ़ी हुई मांग को पूरा करने के लिए तैयार है. विशेष रूप से यह देखते हुए कि हमारी खानों के मुहाने पर 6.3 करोड़ टन का भंडार है.''

ये भी पढ़ें- रेल यात्रियों को मिलेगी राहत, IRCTC अगले महीने फिर से शुरू करेगी E-कैटरिंग सर्विस

कंपनी अपना उत्पादन बढ़ाने तथा कोयला आधारित बिजली प्लांट्स को आपूर्ति बढ़ाने का भी प्रयास कर रही है. देश में कुल कोयला आधारित बिजली उत्पादन में कोल इंडिया की आपूर्ति का हिस्सा करीब 67 फीसदी है. मौजूदा वित्त वर्ष में 199 गीगावॉट प्रतिदिन के कोयला आधारित बिजली उत्पादन कार्यक्रम में से 133 गीगावॉट का उत्पादन कोल इंडिया के कोयले से हो रहा है.
ये भी पढ़ें- RIL Q3 Results: तीसरी तिमाही में रिलायंस का मुनाफा रिकॉर्ड 41.6% फीसदी बढ़ा, शुद्ध लाभ 15 हजार करोड़ पर पहुंचा

एल्युमिनियम और सोलर सेक्टर में उतरेगी कोल इंडिया

हाल ही में कोल इंडिया ने कहा था कि उसके निदेशक मंडल ने एल्युमीनियम और सोलर सेक्टर में जाने तथा विशेष उद्देश्यीय कंपनी गठित करने की सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है. कंपनी ने शेयर बजार को दी सूचना में कहा था, ''कोल इंडिया के निदेशक मंडल की बैठक में एल्युमीनियम वैल्यू चेन और सोलर पावर वैल्यू चेन  में जाने की सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज