अपना शहर चुनें

States

खुशखबरी! बेरोजगारों को मिलेगी राहत, इस रिटेल पॉलिसी से 4 साल में पैदा होंगी 30 लाख नौकरियां

CII के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए
CII के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए

नेशनल कमेटी के चेयरमैन शाश्‍वत गोयनका (Shashwat Goenka) ने कहा कि नेशनल रिटेल पॉलिसी सेक्‍टर में जान फूंक सकती है. इससे देश में 2024 तक 30 लाख रोजगार के अवसर पैदा होंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2020, 12:09 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सीआईआई इंडिया रिटेल समिट-2020 (CII India Retail Summit 2020) में नेशनल कमेटी के चेयरमैन शाश्‍वत गोयनका (Shashwat Goenka) ने कहा कि नेशनल रिटेल पॉलिसी सेक्‍टर में जान फूंक सकती है. इससे देश में 2024 तक 30 लाख रोजगार के अवसर पैदा होंगे. उन्होंने कहा कि आने वाले सालों में जोरदार ग्रोथ दर्ज कर पाएगा. बता दें कि गोयनका आरपी-संजीव गोयनका समूह के प्रमुख (Retail & FMCG) भी हैं. उद्योग के अनुमान के अनुसार, देश के संगठित रिटेल सेक्‍टर में पांच करोड़ लोगों को रोजगार मिला हुआ है.

सरकार को लाना चाहिए एक मजबूत रिटेल पॉलिसी-
शाश्‍वत बोले कि आगे चलकर जब उद्योग अपने निचले स्तर से उबरेगा. ऐसे समय में सुधार की प्रक्रिया को तेज करने के लिए नए और उभरते मॉडल पर चर्चा करने की जरूरत होगी. उद्योग अभी तक मांग में कमी की वजह से हुए नुकसान से उबर नहीं पाया है. ऐसे में उपभोक्ताओं का भरोसा कायम करने के लिए सक्रिय कदमों की जरूरत होगी. उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.

ये भी पढ़ें : कर्मचारियों को लगेगा झटका! रेलवे कर रहा ट्रैवल और ओवर टाइम अलाउंस में 50% कटौती की तैयारी
उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए. गोयनका ने कहा कि आज पहले की तुलना में कहीं अधिक नेशनल रिटेल पॉलिसी के साथ अनुकूल वातावरण पैदा करने की जरूरत है. सरकार मजबूत रिटेल पॉलिसी लाकर इस क्षेत्र की सेक्‍टर की ग्रोथ बढ़ा सकती है. इससे 2024 तक 30 लाख अतिरिक्त रोजगार के अवसर पैदा हो सकते हैं. इसके अलावा इससे जुड़े क्षेत्रों में रोजगार के अप्रत्यक्ष अवसर भी पैदा किए जा सकते हैं.





6,500 करोड़ रु के निवेश से पैदा होंगे 2-3 लाख अतिरिक्त रोजगार-
उन्होंने बताया कि शोध से पता चलता है कि रिटेल से जुड़े बुनियादी इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर जैसे वेयरहाउस और कोल्‍ड स्‍टोरेज इत्‍याद‍ि में सिर्फ 6,500 करोड़ रुपये के निवेश से दो से तीन लाख अतिरिक्त रोजगार पैदा किए जा सकते हैं. इसी कार्यक्रम में उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के संयुक्त सचिव अनिल अग्रवाल ने बताया कि सरकार रिटेल पॉलिसी पर काम कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज