होम /न्यूज /व्यवसाय /Success Story: सिर्फ 3 साल में CoinDCX हुई 1 अरब डॉलर की कंपनी, बनी पहली भारतीय यूनिकॉर्न क्रिप्‍टोएक्‍सचेंज

Success Story: सिर्फ 3 साल में CoinDCX हुई 1 अरब डॉलर की कंपनी, बनी पहली भारतीय यूनिकॉर्न क्रिप्‍टोएक्‍सचेंज

CoinDCX के सीईओ सुमित गुप्‍ता ने बताया कि जुटाए गए फंड का इस्‍तेमाल क्रिप्‍टो-अवेयरनेस के लिए किया जाएगा.

CoinDCX के सीईओ सुमित गुप्‍ता ने बताया कि जुटाए गए फंड का इस्‍तेमाल क्रिप्‍टो-अवेयरनेस के लिए किया जाएगा.

Success Story: भारतीय क्रिप्‍टोएक्‍सचेंज क्‍वाइन-डीसीएक्‍स (CoinDCX) की शुरुआत 2018 में हुई थी. इस समय इसके पास 35 लाख ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्‍ली. किप्‍टोकरेंसी एक्‍सचेंज क्‍वाइन-डीसीएक्‍स (CoinDCX) यूनिकॉर्न क्‍लब में शामिल होने वाला पहला भारतीय किप्‍टोएक्‍सचेंज (Indian Unicorn Crypto-Exchange) बना गया है. इसकी शुरुआत 2018 में हुई थी और इस समय इसके यूजर्स की संख्‍या 35 लाख हो गई है. सीरीज-सी फंडिंग राउंड में कंपनी ने 9 करोड़ डॉलर जुटाए थे. इससे कंपनी की वैल्‍यूएशन 1.1 अरब डॉलर पहुंच गया और भारत में किप्‍टोकरेंसीस के भविष्‍य को लेकर तमाम अनिश्चितताओं के बीच क्‍वाइन-डीसीएक्‍स देश का पहला यूनिकॉर्न क्रिप्‍टोएक्‍सचेंज बनने में सफल हुआ. बता दें कि जिन कंपनियों या स्टार्टअप की वैल्युएशन 1 अरब डॉलर पर पहुंच जाती है, उन्हें यूनिकॉर्न कहा जाता है.

    कहां होगा जुटाए गए फंड का इस्‍तेमाल
    सीरीज-सी फंडिंग का नेतृत्‍व फेसबुक (Facebook) के को-फाउंडर एडुआर्डो सेवरिन (Eduardo Saverin) के बी कैपिटल ग्रुप ने की. फंडिंग के इस राउंड में मौजूदा निवेशक क्‍वाइनबेस वेंचर्स (Coinbase Ventures), पॉलिचेन कैपिटल (Polychain Capital), ब्‍लॉक डॉट वन (Block.one) और जम्‍प कैपिटल (Jump Capital) ने भी हिस्‍सा लिया था. क्‍वाइन-डीसीएक्‍स ने कहा कि इस फंड के बड़े हिस्‍से का इस्‍तेमाल भारत में क्रिप्‍टोकरेंसी को लेकर लोगों में जागरूकता (Crypto Awareness) बढ़ाने के लिए किया जाएगा.

    ये भी पढ़ें- अगर आपके हैं एक से ज्यादा बैंक अकाउंट तो हो सकता है बड़ा नुकसान, बचने के लिए करें ये काम

    कौन-से प्रोडक्‍ट्स लॉन्‍च करेगी कंपनी
    एक्‍सचेंज के को-फाउंडर और मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी (CEO) सुमित गुप्‍ता ने कहा कि हम क्रिप्‍टो इंवेस्‍टर्स की संख्‍या और रिसर्च एंड डेवलपमेंट सुविधा बढ़ाने के लिए फाइनेंशियल टेक्‍नोलॉजी स्‍टार्ट-अप्‍स (FinTech Startups) के साथ साझेदारी करने की योजना बना रहे हैं. उन्‍होंने बताया कि कंपनी आने वाले महीनों में हाई-नेटवर्थ वाले व्‍यक्तिगत निवेशकों (HNI Individuals) और संस्‍थानों के लिए क्‍वाइन-डीसीएक्‍स प्राइम इनिशिएटिव (CoinDCX Prime Initiative) लॉन्‍च करेगी. इसके अलावा कंपनी ग्‍लोबल ट्रेडिंग प्रोडक्‍ट के तौर पर कॉसमेक्‍स (Cosmex) को भी लॉन्‍च करने की तैयारी कर रही है.

    ये भी पढ़ें- उज्ज्वला योजना 2.0 में 1 करोड़ परिवारों को मिलेगा मुफ्त LPG कनेक्‍शन, जानें कैसे उठाएं फायदा

    बढ़ रही है क्रिप्‍टोकरेंसी की डिमांड
    साल 2021 में अब तक 22 भारतीय कंपनियां और स्टार्टअप यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हो चुके हैं. सुमित गुप्‍ता ने कहा कि हम अनुकूल नियम, शिक्षा की पेशकश और हायरिंग पहलों को तेज करने के लिए सरकार के साथ मिलकर काम कर रहे हैं. साथ ही कहा कि देश में क्रिप्‍टोकरेंसी और डिजिटल एसेट्स की डिमांड तेजी से बढ़ रही है. इसके एवज में बहुत कम प्‍लेटफॉर्म लोगों को उनकी उम्‍मीदों के मुताबिक क्षमता, सुरक्षा दे पा रहे हैं. उन्‍होंने कहा कि जुटाए गए फंड को विस्‍तार के लिए आवंटित किया जाएगा ताकि ज्‍यादा से ज्‍यादा भारतीयों को क्रिप्‍टो की ओर आकर्षित किया जा सके. क्‍वाइन-डीसीएक्‍स भारत में शीर्ष 4 क्रिप्‍टोएक्‍सचेंज में शामिल है. पहले तीन पायदान पर वजीर-एक्‍स (WazirX), क्‍वाइन-स्विच कुबेर (CoinSwitch Kuber) और ज़ेब-पे (ZebPay) हैं.

    Tags: Bitcoin, Business news in hindi, Cryptocurrency, Earn money, Success Story

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें