• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने कोक, पेप्सी और बिसलेरी पर लगाया भारी जुर्माना, जानें क्या है मामला

सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने कोक, पेप्सी और बिसलेरी पर लगाया भारी जुर्माना, जानें क्या है मामला

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने भारी जुर्माना लगाने वाली कंपनियों को नोटिस भेजे हैं.

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने भारी जुर्माना लगाने वाली कंपनियों को नोटिस भेजे हैं.

बिसलेरी पर 10.75 करोड़ रुपये, पेप्सीको इंडिया होल्डिंग्स और हिंदुस्तान कोका-कोला बिवरेज पर 8.7 करोड़ रुपये और 50.66 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (Central Pollution Control Board) ने बिवरेज मेकर्स कोक (Coke), पेप्सी (Pepsi) और बोतलबंद पानी बनाने वाली कंपनी बिसलेरी (Bisleri) पर प्लास्टिक कचरे के डिस्पोजल और कलेक्शन की जानकारी सरकारी बॉडी को नहीं देने के मामले में भारी जुर्माना लगाया है.

    हिंदुस्तान कोका-कोला बिवरेज पर 50.66 करोड़ रुपये का जुर्माना
    प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने भारी जुर्माना लगाने वाली कंपनियों को नोटिस भेजे हैं. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, बिसलेरी पर 10.75 करोड़ रुपये, पेप्सीको इंडिया होल्डिंग्स और हिंदुस्तान कोका-कोला बिवरेज पर 8.7 करोड़ रुपये और 50.66 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है.

    ये भी पढ़ें- FM निर्मला सीतारमण ने कहा-केंद्र क्रिप्‍टोकरेंसी पर पाबंदी को लेकर अडिग, सिर्फ सरकारी ई-करेंसी को दी जा सकती है छूट

    पतंजलि पर भी एक करोड़ का जुर्माना
    कोक, पेप्सी और बिसलेरी के अलावा योगगुरु बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि पर भी जुर्माना लगाया गया है. पतंजलि पर एक करोड़ रुपये और टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट लिमिटेड और पेप्सिको की ज्वाइंट वेंचर Nourishco Beverages पर 85.9 लाख रुपये का जुर्माना लगा है.

    बिसलेरी का प्लास्टिक का कचरा करीब 21500 टन रहा है. कंपनी पर 5000 रुपये प्रति टन के हिसाब से जुर्माना लगा है. वहीं पेप्सिको का कचरा 11,194 टन था.

    ये भी पढ़ें- Amazon यूजर्स ध्‍यान दें! कहीं आप भी तो बेवजह नहीं कर रहे Paid Subscriptions का भुगतान, जानें कैसे करें कैंसल

    कंपनियों को 15 दिनों में भरना होगा जुर्माना
    गौरतलब है प्लास्टिक कचरों के मामलों में एक्सटेंडेड प्रोड्यूसर रिस्पांसिबिलिटी (Extended Producer Responsibility) एक पॉलिसी पैमाना है, जिसके आधार पर प्लास्टिक बनाने वाली कंपनियों को प्रोडक्ट के डिस्पोजल की जिम्मेदारी लेनी होती है. सीपीसीबी ने कहा कि इन सभी कंपनियों को 15 दिनों के अंदर  ही जुर्माने की रकम का पेमेंट करना होगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज