Home /News /business /

म्यूचुअल फंड और सोने से भी ज्यादा रिटर्न देगी चांदी, 36 महीने में हो सकते हैं मालामाल

म्यूचुअल फंड और सोने से भी ज्यादा रिटर्न देगी चांदी, 36 महीने में हो सकते हैं मालामाल

चांदी आने वाले समय में म्यूचुअल फंड और सोने के मुकाबले कई गुना ज्यादा रिटर्न दे सकती है.

चांदी आने वाले समय में म्यूचुअल फंड और सोने के मुकाबले कई गुना ज्यादा रिटर्न दे सकती है.

Commodity Market High Return in Silver : इस साल चांदी 80,000 रुपये तक का स्तर छू लेगी. इसके बाद वर्ष 2024 तक यह 1.50 लाख रुपये के स्तर पर पहुंच सकती है.

नई दिल्ली. Investment Tips : आमतौर पर सोने में निवेश (Gold Investment) को बेहतर माना जाता है. जोखिम के साथ ज्यादा रिटर्न के लिए लोग म्यूचुअल फंड में भी निवेश (Mutual Funds Investment) करते हैं. क्या आपको पता है कि चांदी आने वाले समय में म्यूचुअल फंड और सोने के मुकाबले कई गुना ज्यादा रिटर्न दे सकती है. अगर इस समय आप चांदी में निवेश (Invest in Silver) करते हैं तो आने वाले समय में यह आपको मालामाल कर सकती है.

दरअसल, भारत समेत दुनियाभर में ब्याज दरें बढ़ने की आशंका है. इक्विटी मार्केट में कभी भी गिरावट आ सकती है. बाजार विश्लेषकों का मानना है कि इस साल की तीसरी तिमाही तक कोरोना महामारी खत्म होने के बाद अनिश्चितता कम होगी, जिससे सोने में निवेश घट सकता है. तेजी को देखते हुए लोग चांदी की ओर आकर्षित होंगे.

ये भी पढ़ें- Tax Saving : ELSS में करते हैं निवेश तो अधिकतम कितना बचा सकते हैं टैक्स? जानें पूरी कैलकुलेशन

1.50 लाख पहुंचेगी चांदी, दे सकती है 250 फीसदी रिटर्न
विश्लेषकों का मानना है कि 2022 और अगले कुछ वर्षों तक चांदी में भारी तेजी रहने का अनुमान है. केडिया एडवाइजरी के प्रबंध निदेशक अजय केडिया का कहना है कि इस साल चांदी 80,000 रुपये तक का स्तर छू लेगी. इसके बाद वर्ष 2024 तक यह 1.50 लाख रुपये के स्तर पर पहुंच सकती है. चांदी फिलहाल 61,000 के आसपास है. इस लिहाज से यह इस 33 फीसदी और वर्ष 2024 तक 250 फीसदी तक रिटर्न दे सकती है.

ये भी पढ़ें- Budget 2022 में सरकार ने मानी ये मांग तो घट जाएगा प्रीमियम और सस्ता होगा Health Insurance

इन वजहों से आ सकती है तेजी
अजय केडिया का कहना है कि जिस हिसाब से मांग बढ़ रही है, उतनी तेजी चांदी के खनन में वृद्धि नहीं हो रही है. 2018-20 तक चांदी का खनन लगातार घटता रहा है. उन्होंने बताया कि ऑटोमोबाइल, सोलर और इलेक्ट्रिक वाहन इंडस्ट्री से चांदी की अतिरिक्त मांग निकल रही है. यह सालाना आधार पर लगातार बढ़ रही है. इसके अलावा, अमेरिका ग्रीन टेक्नोलॉजी को सपोर्ट कर रहा है. पर्यावरण के अनुकूल टेक्नोलॉजी में चांदी का ज्यादा इस्तेमाल होता है.

30 फीसदी तक बढ़ सकती है डिमांड
लंदन स्थित सिल्वर इंस्टीट्यूट का दावा है कि पिछले पांच साल से चांदी की वैश्विक मांग लगातार बढ़ रही है. हालांकि, महामारी की वजह से वर्ष 2020 में मांग नहीं रही. इसके उलट, 2017 से चांदी के खनन में लगातार गिरावट आ रही है. सिर्फ 2021 में इसमें बढ़ोतरी दर्ज की गई थी. आंकड़ों के मुताबिक, 2022-24 के दौरान चांदी की मांग में 25-30 फीसदी तक इजाफा होगा. इसके उलट खनन में महज 8 फीसदी तेजी का अनुमान है.

(Disclaimer: यहां बताए गए निवेश के अवसर ब्रोकरेज हाउसेज / एडवाइजरी की सलाह पर आधारित हैं. यदि आप इनमें से किसी में भी पैसा लगाना चाहते हैं तो पहले सर्टिफाइड इनवेस्‍टमेंट एडवायजर से परामर्श कर लें. आपके किसी भी तरह के लाभ या हानि के लिए News18 जिम्मेदार नहीं होगा.)

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर