कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच भी नियुक्तियां कर रहीं कंपनियां, टेक कंपनियों में पसंद की जा रही अस्‍थायी भर्ती

कोरोना संकट के बीच कंपनियों की ओर से नई भर्तियों का सिलसिला जारी है.

कोरोना संकट के बीच कंपनियों की ओर से नई भर्तियों का सिलसिला जारी है.

ट्रैवल और हॉस्पिटैलिटी सेक्‍टर (Travel and Hospitality Sector) को छोड़कर सभी सेक्टर्स में नए कर्मचारियों की नियुक्तियों (Recruitment) को लेकर सामान्य स्थिति है. वहीं, टेक्नोलॉजी कंपनियां (Tech Companies) अस्‍थायी भर्तियों को तरजीह दे रही हैं.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. ग्लोबल ह्यूमन रिसोर्स कंपनी रैंडस्टैड (Randstad) की भारतीय इकाई रैंडस्टैड इंडिया (Randstad India) का कहना है कि कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के बावजूद कंपनियों में नई नियुक्तियों की रफ्तार बरकरार है. रैंडस्‍टैड ने इसका कारण टेक्नोलॉजी कंपनियों को बताया है. रैंडस्‍टैड के मुताबिक, टेक कंपनियां अस्‍थायी स्‍टाफ की भर्ती को तरजीह दे रही हैं. रैंडस्टैड इंडिया में ऑर्गेनाइजेशन से जुड़े बदलाव किए जा रहे हैं. कंपनी के मौजूदा मैनेजिंग डायरेक्टर एंड सीईओ पॉल ड्युपुइस जल्द ही रैंडस्टैड जापान की कमान संभालेंगे, जबकि रैंडस्टैड इंडिया के मौजूदा सीएफओ विश्वनाथ पीएस 1 जुलाई 2021 से मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ बन जाएंगे.

पिछले साल के मुकाबले बेहतर स्थिति में है हायरिंग

ड्युपुइस और विश्वनाथ ने कहा कि कंपनियों की ओर से हायरिंग पर अभी तक कोई बड़ा असर नहीं पड़ा है. ड्युपुइस का कहना था कि पिछले साल की तुलना में इस बार काफी अंतर है. अप्रैल 2020 में हायरिंग पर पूरी तरह रोक लग गई थी. इस बार हायरिंग सामान्य रफ्तार से हो रही है. उन्होंने बताया कि रैंडस्टैड में लगभग 65,000 अस्‍थायी कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्स समेत किसी की नौकरी नहीं गई है. उनका कहना है कि कारोबार सामान्य रफ्तार से चल रहा है. हम स्‍थायी और अस्‍थायी नौकरियां दोनों में सभी सेक्टर्स के लिए हायरिंग कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- कोरोना मरीजों के लिए बड़ी राहत! रेलवे ने तैयार किए 70,000 आइसोलेशन बेड, जानें किन शहरों को मिली सुविधा
कंपनियां खुद को डिजिटल बनाने में कर रही हैं निवेश

सेक्टर्स को लेकर ट्रेंड पर विश्वनाथ ने बताया कि ट्रैवल और हॉस्पिटैलिटी को छोड़कर लगभग सभी सेक्टर्स में हायरिंग हो रही है. उन्होंने कहा, 'कंपनियां मान रही हैं कि डिजिटल तौर पर मौजूदगी अहम है. इस वजह से कंपनियों की ओर से खुद डिजिटल बनाने में निवेश किया जा रहा है. टेक्नोलॉजी कंपनियां टेम्परेरी स्टाफ रख रही हैं. बड़े सेक्टर्स में एजुकेशन टेक्नोलॉजी, फार्मास्युटिकल, हेल्थकेयर और इंश्योरेंस में रिक्रूटमेंट हो रहा है. बता दें कि देश में रैंडस्टैड टॉप स्टाफिंग फर्मों में शामिल है. इसका मुकाबला टीमलीज सर्विसेज और क्वेस जैसी कंपनियों से है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज