कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर को पटरी पर लौटने में मदद करेगा Captech का eForce ऐप, लेबर कॉन्‍ट्रेक्‍टर करा सकते हैं फ्री रजिस्‍ट्रेशन

कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर को पटरी पर लौटने में मदद करेगा Captech का eForce ऐप, लेबर कॉन्‍ट्रेक्‍टर करा सकते हैं फ्री रजिस्‍ट्रेशन
कैपटेक टेक्‍नोलॉजीज ने कंस्‍ट्रक्‍शन इंडस्‍ट्री के लिए खास ऐप तैयार ि‍किया है. इसकी मदद से कंपनियों को स्किल्‍ड लेबर मिलने में आसानी होगी.

कैपटेक टेक्‍नोलॉजीज (Captech technology) के ई-फोर्स ऐप पर श्रमिक ठेकेदार रजिस्‍ट्रेशन कराकर कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर को स्किल्‍ड लेबर उपलब्‍ध करा सकते हैं. कंपनी के मुताबिक, कोई भी लेबर कॉन्‍ट्रेक्‍टर ई-फोर्स ऐप पर 6 महीने के लिए मुफ्त रजिस्‍ट्रेशन करा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 5, 2020, 3:56 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना संकट (Coronavirus in india) के बीच ज्‍यदातर प्रवासी मजदूरों (Migrant Labor) के अपने गृह राज्‍य लौट जाने के कारण कंस्‍ट्रक्‍शन इंडस्‍ट्री (Construction Industry) के सामने श्रमिकों के मिलने की समस्‍या खड़ी हो गई है. बहुत सी कंस्‍ट्रक्‍शन कंपनियों के लिए स्किल्‍ड लेबर (Skilled Labor) ढूंढना चुनौती बन गया है. ऐसे में एक कंपनी ने सामान्‍य ठेकेदारों, प्रोजेक्‍ट डेवलपर्स, प्रवासी मजदूरों, स्‍पेशलाइज्‍ड वेंडर्स के बीच की खाई पाटने के लिए एक बेहतरीन टेक प्‍लेटफॉर्म तैयार किया है.

लेबर कॉन्‍ट्रेक्‍टर 6 महीने के लिए करा सकता है फ्री रजिस्‍ट्रेशन 
दरअसल, कैपटेक (Captech) ने ऐसा ई-फोर्स ऐप तैयार किया है, जिस पर श्रमिक ठेकेदार रजिस्‍ट्रेशन कराकर कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर को स्किल्‍ड लेबर पलब्‍ध करा सकते हैं. कंपनी के मुताबिक, कोई भी लेबर कॉन्‍ट्रेक्‍टर ई-फोर्स ऐप पर 6 महीने के लिए मुफ्त रजिस्‍ट्रेशन करा सकता है. लॉकडाउन में छूट मिलने के बाद कंस्‍ट्रक्‍शन कंपनियों ने अपने प्रोजेक्‍ट्स का काम फिर शुरू कर दिया है, लेकिन उनके सामने विशेषज्ञ ठेकेदार और पर्याप्‍त संख्‍या में मजदूरों को खोजना मुसीबत का कारण बन गया है. ऐसे में कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर से जुड़े लोगों के बीच ज्‍यादा पारदर्शी और बेहतर संबंधों वाली व्‍यवस्‍था की दरकार महसूस की जा रही है ताकि सभी जरूरी चीजें व लोगों को जुटाकर तेजी से परियोजनाओं को पूरा किया जा सके.

ये भी पढ़ें- लॉकडाउन में लोगों का पेट भरने को लुटा दी अपनी पूंजी, अब उन्‍हीं के लिए क्राउडफंडिंग से जुटाए गए 30 लाख रुपये
कैपटेक टेक्‍नोलॉजीज का ई-फोर्स ऐप कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में मौजूदा चलन को पूरी तरह से बदल सकता है. ई-फोर्स ऐप पर रजिस्‍ट्रेशन कराने वालों को काम की तलाश में इधर-उधर भटकने की जरूरत नहीं होगी. इस पर ठेकेदार ही नहीं श्रमिक भी रजिस्‍ट्रेशन करा सकते हैं. इससे कंस्‍ट्रक्‍शन कंपनियों को मजदूर और श्रमिकों को काम मिलने में आसानी होगी. टेक्‍नोलॉजी ने पूरी दुनिया को बदलकर रख दिया है. कंस्‍ट्रक्‍शन इंडस्‍ट्री भी इससे अछूती नहीं रही है. कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में भी तकनीक का जमकर इस्‍तेमाल हो रहा है.



ये भी पढ़ें- हापुड़ में 500 करोड़ का निवेश करेगी कोडेक टीवी इंडिया, हजारों लोगों को मिलेगा रोजगार

वैश्विक महामारी ने सप्‍लाई चेन को बुरी तरह प्रभावित किया है. हालांकि, अब तमाम उद्योग धीमे-धीमे पटरी पर लौटने की कोशिश कर रहे हैं. उम्‍मीद है कि अगले 2 से 3 महीने के भीतर मांग और आपूर्ति में तेजी आएगी. भारत जैसी उभरती हुई बड़ी अर्थव्‍यवस्‍थाओं के टेक सॉल्‍यूशंस सेक्‍टर में निवेश का ये सबसे अच्‍छा समय है. इसमें तेजी से बढ़ रही स्‍मार्टफोन की संख्‍या और इंटरनेट स्‍पीड काफी मदद करेंगी. अब ज्‍यादा आम लोगों के हाथों में स्‍मार्टफोन और इंटरनेट पहुंच चुका है. ऐसे में टेक सॉल्‍यूशंस सेक्‍टर में निवेश फायदे का सौदा साबित होगा.

ये भी पढ़ें- राम मंदिर निर्माण में आर्थिक मदद कर बचा सकते हैं इनकम टैक्‍स, इस धारा के तहत मिलेगी छूट

कैपटेक टेक्‍नोलॉजी के फाउंडर और सीईओ आसुतोष कत्‍याल ने कहा कि भारत में कंस्‍ट्रक्‍शन दूसरा सबसे बड़ा रोजगार उपलब्‍ध कराने वाला सेक्‍टर है. फिलहाल इस सेक्‍टर पर अनिश्चितता के बादल मंडरा रहे हैं. हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती अपने शहरों को लौट चुके प्रवासी मजदूरों को वापस लाना है. ई-फोर्स ऐप ठेकेदारों, डेवलपर्स, श्रमिक ठेकेदारों और सेपशलाइज्‍ड वेंडर्स के बीच पुल का काम करेगा. हमें उम्‍मीद है कि हमारी इस पहल से देश के कंस्‍ट्रक्‍शन उद्योग को रफ्तार मिलेगी. इससे उद्योग तेजी से पटरी पर लौट सकेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज