होम /न्यूज /व्यवसाय /

Inflation : खरीदने हैं तो अभी खरीद लो AC, फ्रिज, और पंखे, जल्‍द ही बढ़ने वाले हैं दाम

Inflation : खरीदने हैं तो अभी खरीद लो AC, फ्रिज, और पंखे, जल्‍द ही बढ़ने वाले हैं दाम

Electronic Product के दाम कंपनियां पहले ही तीन बार बढ़ा चुकी हैं.

Electronic Product के दाम कंपनियां पहले ही तीन बार बढ़ा चुकी हैं.

पहले कोरोना महामारी और अब रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध (Russia-Ukraine War) की वजह से ग्‍लोबल मार्केट में कमोडिटीज के दाम लगातार बढ़ रहे हैं. एल्‍युमीनियम और कॉपर जैसी धातुओं के दाम डेढ़ गुना तक बढ़ने से इलेक्‍ट्रॉनिक कंज्‍यूमर उत्‍पादों की कीमतों में 10 फीसदी तक इजाफा हो सकता है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. अगर आप गर्मियों में एसी, फ्रिज और पंखे (AC, refrigerator and Fan) खरीदने की प्‍लानिंग कर रहे हैं, तो जरा जल्‍दी कीजिए. बढ़ती लागत की वजह से कंपनियां अगले कुछ दिनों में इनकी कीमतें बढ़ाने पर विचार कर रही हैं.

दरअसल, रूस-यूक्रेन युद्ध (Russia-Ukraine War) के चलते ग्‍लोबल मार्केट में कॉपर, एल्‍युमीनियम के दाम रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गए हैं. इसका बोझ एसी, फ्रीज और पंखें बनाने वाली कंपनियों पर भी पड़ रहा है और बढ़ी लागत वसूलने के लिए अगले कुछ दिनों में इनकी कीमतों में 7 से 10 फीसदी का बड़ा इजाफा हो सकता है. पिछले दो साल में कंपनियां तीन बार कीमतें पहले ही बढ़ा चुकी हैं.

ये भी पढ़ें – Stock Market : बाजार की मजबूत शुरुआत, सेंसेक्‍स 56 हजार के करीब खुला, निफ्टी में भी तेजी

एक साल में डेढ़ गुना से ज्‍यादा बढ़ी लागत
ग्‍लोबल मार्केट में एल्‍युमीनियम और कॉपर की कीमतें पिछले एक साल में डेढ़ गुने से भी ज्‍यादा बढ़ चुकी हैं. पिछले साल फरवरी में एल्‍युमीनियम का भाव 1.61 लाख रुपये प्रति टन था, जो अब 2.80 लाख रुपये पहुंच गया है. इसी तरह, कॉपर की कीमतें भी 5.93 लाख रुपये प्रति टन से बढ़कर 7.72 लाख प्रति टन हो गई.

कंपनियां दे रहीं मार्जिन घटने का हवाला
कंज्‍यूमर इलेक्‍ट्रॉनिक कंपनियों का कहना है कि वे अभी तक अपना मार्जिन घटाकर काम चला रहीं थी, लेकिन कमोडिटी के बढ़ते दाम की वजह से अब यह संभव नहीं है. पिछले दो साल में उत्‍पादों की कीमतें 15 फीसदी तक बढ़ चुकी हैं, जिसमें एक बार फिर 10 फीसदी तक बढ़ोतरी की गुंजाइश दिख रही है. इनपुट कॉस्‍ट और उत्‍पादों की बाजार कीमत में 10 फीसदी का अंतर दिख रहा है, जिसे पाटने के लिए दाम बढ़ाना जरूरी हो गया है.

ये भी पढ़ें – पैकेट देखकर समझ जाएंगे कितना Healthy है आपका Food, सरकार की बड़ी तैयारी

महामारी और महंगाई का दबाव
कंपनियों को अब भी कोरोना के तीसरी लहर का डर है जिसके कारण वे पर्याप्‍त उत्‍पादन नहीं कर पा रही हैं. इसके अलावा क्रूड के बढ़ते भाव से पेंट और प्‍लास्टिक जैसे उत्‍पाद सीधे तौर पर महंगे हो रहे. इसका असर भी कंज्‍यूमर इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स के उत्‍पादन पर दिख रहा. ईंधन की महंगाई से माल ढुलाई की लागत में भी इजाफा हुआ है. लिहाजा कुलमिलाकर कंपनियों पर उत्‍पादन लागत बढ़ा तो इसका बोझ उपभोक्‍ताओं पर आना तय है.

Tags: Air Conditioner, Inflation

अगली ख़बर