Home /News /business /

Budget 2022 : बजट के बाद सस्ते हो सकते हैं एसी और टीवी जैसे होम अप्लायंसेस, जानें पूरी डिटेल्स

Budget 2022 : बजट के बाद सस्ते हो सकते हैं एसी और टीवी जैसे होम अप्लायंसेस, जानें पूरी डिटेल्स

सिएमा ने सरकार से एसी और टीवी जैसे होम अप्लायंसेस पर जीएसटी की दर घटाने की मांग की है.

सिएमा ने सरकार से एसी और टीवी जैसे होम अप्लायंसेस पर जीएसटी की दर घटाने की मांग की है.

GST on AC and TV : सरकार इस बजट में एसी पर जीएसटी को 28 फीसदी से घटाकर 18 फीसदी कर सकती है. इसके अलावा, टीवी (105 सेंमी स्क्रीन वाले) पर भी जीएसटी घटाने की मांग की गई है.

नई दिल्ली. Budget 2022 : कोरोना महामारी के प्रकोप से उबर रहे आम लोगों के लिए सरकार इस बजट में कई राहतों की घोषणाएं कर सकती है. पांच दिन बाद पेश होने वाले बजट में एसी (AC) और टीवी (TV) जैसे होम अप्लायंसेस को लेकर भी अहम घोषणा होने वाली है. इसके बाद एसी और टीवी जैसे इलेक्ट्रॉनिक्स सामान सस्ते हो सकते हैं.

उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स एवं उपकरण विनिर्माता संघ (CEAMA) का कहना है कि इस बजट में उद्योग जगत के साथ आम लोगों को भी राहत मिलने की उम्मीद है. ऐसे में हमने बजट पूर्व सुझाव में सरकार से एसी और टीवी जैसे होम अप्लायंसेस पर जीएसटी की दर घटाने की मांग की है.

ये भी पढ़ें- TCS ने रचा इतिहास, अमेरिकी कंपनी IBM को पीछे छोड़ बनी दुनिया की दूसरी सबसे मूल्यवान आईटी ब्रांड

एसी और टीवी पर जीएसटी घटा सकती है सरकार
CEAMA के अध्यक्ष एरिक ब्रेगेंजा का कहना है कि आने वाले पांच साल के लिए एलईडी उद्योग के लिहाज से कर संरचना की रूपरेखा बनाने पर जोर देना चाहिए. इससे निवेश और नीतिगत हस्तक्षेप के लिए उचित योजना तैयार की जा सकेगी. उन्होंने कहा कि सरकार इस बजट में एसी पर जीएसटी को 28 फीसदी से घटाकर 18 फीसदी कर सकती है. इसके अलावा, टीवी (105 सेंमी स्क्रीन वाले) पर भी जीएसटी घटाने की मांग की गई है. गोदरेज अप्लायंसेज में कारोबार प्रमुख और कार्यकारी उपाध्यक्ष कमल नंदी ने कहा कि एसी अब भी 28 फीसदी के सबसे ऊंचे दायरे में आता है. हम उम्मीद करते हैं कि इसे 18 फीसदी के दायरे में लाया जाएगा.

ये भी पढ़ें- बजट 2022 : कोरोना से प्रभावित छोटे दुकानदारों के लिए हो सकती है राहतों की बारिश, सरकार दे सकती है वित्तीय मदद

आयात शुल्क बढ़ाने की मांग
CEAMA ने कहा कि करीब 75,000 करोड़ रुपये का उद्योग घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए सरकार को तैयार माल पर आयात शुल्क बढ़ाने की मांग कर रहा है. पर विचार करना चाहिए. ब्रेगेंजा ने कहा कि स्थानीय विनिर्माताओं को और प्रोत्साहन देने के लिए कलपुर्जों और तैयार माल के बीच 5 फीसदी की शुल्क भिन्नता होनी चाहिए. इससे विनिर्माताओं को अत्यावश्यक प्रोत्साहन मिलेगा और भारत में विनिर्माण आधार तैयार करने में मदद मिलेगी.

Tags: Budget, Gst

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर