कोरोना का असर: महंगे नहीं बल्कि किफायती आशियाने में रहना चाहते हैं लोग

कोरोना ने घर खरीदने के रवैये को प्रभावित किया है.
कोरोना ने घर खरीदने के रवैये को प्रभावित किया है.

कोरोना वायरस के बीच अब आम लोग अब ज्यादा खर्च करने की मूड में नहीं है. यही कारण है कि अब वो महंगे मकानों के बजाय बजट अनुकूल घरों को तवज्जो दे रहे हैं. हालांकि, लॉकडाउन की वजह से रियल एस्टेट प्रोजेक्ट्स भी प्रभावित हुए हैं.

  • Share this:
चेन्नई. कोविड-19 की वजह से लागू लॉकडाउन के बीच लोगों को घर से काम (वर्क फ्रॉम होम) करना पड़ रहा है. रियल्टी कंपनियों का कहना है कि ऐसे में खरीदार अपनी जेब अधिक ढीली करने को तैयार नहीं हैं, और वे लक्जरी यानी महंगे मकानों के बजाय बजट अनुकूल घरों की खरीद करना चाहते हैं.

डेवलपर्स के लिए अवसर
अक्षय होम्स लि. के संस्थापक टी चिट्टी बाबू ने कहा, ‘‘पहले जो लोग ‘पेइंग गेस्ट’ के रूप में रहना चाहते थे, अब वे अपने बजट में अपार्टमेंट खरीदना चाहते हैं.’’ उन्होंने कहा कि इस महामारी ने डेवलपर्स और लोगों के लिए काफी अवसर पैदा किए हैं. बाबू ने कहा कि अब ग्राहकों को अपने घर की जरूरत समझ आ गई है. डेवलपर्स के लिए इससे बेशक लक्जरी नहीं, लेकिन बजट खंड में मांग पैदा होगी.

यह भी पढ़ें: जानें पिछली कंपनी का PF नए अकाउंट में घर बैठे कैसे कर सकते हैं ट्रांसफर!
बजट में घर खरीदना चाह रहे युवा


बाबू ने कहा कि अब लोगों ने जान लिया है कि उन्हें चुनौती के साथ रहना सीखना होगा. ऐसे में उन्हें पैसा बचाने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि पहले लोग अपने बजट को बढ़ाकर बड़ा अपार्टमेंट खरीदना चाहते थे, लेकिन अब वे अपने बजट में ही घर खरीदना चाहते हैं. बाबू ने कहा कि युवा पीढ़ी अब शहरों का रुख कर रही है और पेइंग गेस्ट के रूप में नहीं रहना चाहती. उन्होंने कहा, ‘‘वे अनजान लोगों के साथ नहीं रहना चाहते. वे ऐसा घर खरीदना चाहते हैं, जो उनके बजट के अनुकूल हो.’’

यह भी पढ़ें: FD कराने जा रहे हैं तो पहले देख लें कौन सा बैंक दे रहा है कितना ब्‍याज

लॉकडाउन ने रियल एस्टेट प्रोजेक्ट्स को प्रभावित किया
गौरतलब है कि लॉकडाउन की वजह से रियल एस्टेट प्रोजेक्ट्स पर भी असर पड़ा है. लिहाजा, घर खरीदारों को भी झटका लगा है. दरअसल, लॉकडाउन की वजह से अधिकतर प्रोजेक्ट्स पूरे नहीं हो सके हैं. हरियाणा के गुरुग्राम में घर खरीदारों ने तो यह भी दावा किया कि उनके मामलों की सुनवाई नहीं हो रही है. अनलॉक के दौरान भी मजदूरों के आभाव और सरकार के गाइडलाइंस के मद्देनजर रियल एस्टेट प्रोजेक्ट्स पर काम तो शुरू हो गया है, लेकिन यहां भी पूरी क्षमता से काम नहीं हो रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज