कोरोना प्रभाव: विदेशी निवेशकों ने मई में अब तक शुद्ध रूप से 4,444 करोड़ रुपये निकाले

share market

share market

नई दिल्ली. विदेशी निवेशकों ने कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर और भारतीय अर्थव्यवस्था पर उसके पड़ने वाले प्रभाव की चिंता में मई में अब तक भारतीय बाजारों से 4,444 करोड़ रुपये की निकासी की है.

  • Share this:

नई दिल्ली. विदेशी निवेशकों ने कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर और भारतीय अर्थव्यवस्था पर उसके पड़ने वाले प्रभाव की चिंता में मई में अब तक भारतीय बाजारों से 4,444 करोड़ रुपये की निकासी की है.

डिपोजिटरी आंकड़ों के अनुसार विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने एक से 21 मई के दौरान शेयर बाजार से 6,370 करोड़ रुपये निकाले जबकि बांड में 1,926 करोड़ रुपये लगाये.

इस प्रकार, शुद्ध रूप से एफपीआई ने 4,444 करोड़ रुपये की निकासी की.

कोरोना की कारण निकासी 
मार्निंग स्टार इंडिया के एसोसिएट निदेशक-प्रबंधक अनुसंधान-हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर और उसका भारतीय अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर चिंता से विदेशी निवेशक बाजार से थोड़ी दूरी बनाकर चल रहे हैं और शेयर बाजार में बड़ी राशि निवेश करने से बच रहे हैं.’’

उन्होंने कहा कि हालांकि पिछले दो सप्ताह से कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर स्थिति में सुधार के संकेत हैं. इससे कुछ राहत मिली है तथा शुद्ध रूप से निकासी संख्या उल्लेखनीय रूप से घटी है.

यह भी पढ़ें- दुनिया का सबसे बड़ा Cryptocurrency माइनिंग हब है चीन, फिर क्यों क्रिप्टोकरेंसी पर कस रहा शिकंजा



उभरते बाजारों से पूंजी निकाल रहे एफीपीआई

इससे पहले, अप्रैल में भारतीय पूंजी बाजार से शुद्ध रूप से 9,435 करोड़ रुपये निकाले गये थे. कोटक सिक्योरिटीज लि. के कार्यकारी उपाध्यक्ष (इक्विटी तकनीकी शोध) श्रीकांत चौहान ने कहा कि मुद्रास्फीति में वृद्धि और कर्ज स्तर बढ़ने की चिंता से उभरते बाजारों से एफपीआई पूंजी निकाल रहे हैं.

उन्होंने कहा कि उभरते बाजारों में दक्षिण कोरिया और ताइवान में इस माह अबतक क्रमश: 825 करोड़ डॉलर और 344 करोड़ डॉलर निकाले गये. हालांकि इसके उलट इंडोनेशिया में इस दौरान 4.6 करोड़ डॉलर का निवेश हुआ.

यह भी पढ़ें- कोरोना के घटते मामले और लॉकडाउन हटने की उम्मीद के चलते पिछले हफ्ते 3 प्रतिशत उछला बाजार

वहीं, 21 मई को समाप्त हुए कारोबारी हफ्ते में बाजार में 3 प्रतिशत की बढ़त देखने को मिली. देश में कोरोना के रोजाना के मामले लगातार 3 लाख से कम दर्ज हो रहे हैं. कुछ राज्यों में लॉकडाउन हटाये जा रहे हैं. साथ ही, कंपनियों के बेहतर तिमाही नतीजे आ रहे हैं. लिहाजा सकारात्मक रुझानों के सपोर्ट से बेंचमार्क इंडेक्स ने मेजर लेवल को पार किया है.

विगत कारोबारी हफ्ते के दौरान BSE Sensex 1,807.93 अंकों या 3.70 प्रतिशत की बढ़त के साथ 50,540.48 के स्तर पर बंद हुआ जबकि Nifty50 497.5 अंकों या 3.38 प्रतिशत की बढ़त के साथ 15,175.3 के स्तर पर बंद हुआ.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज