अपना शहर चुनें

States

भारत में अप्रैल तक आ जाएगी कोरोना की वैक्सीन: आदर पूनावाला

भारत में अप्रैल तक आ जाएगी हो कोरोना की वैक्सीन: आदर पूनावाला
भारत में अप्रैल तक आ जाएगी हो कोरोना की वैक्सीन: आदर पूनावाला

सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) के सीईओ आदर पूनावाला (Adar Poonawala) ने कहा कि अप्रैल 2021 तक लोगों को ऑक्सफोर्ड कोविड-19 वैक्सीन (Oxford Covid-19 Vaccine) उपलब्ध करा देनी चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 20, 2020, 10:54 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वैक्सीन (Vaccine) बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) के सीईओ आदर पूनावाला (Adar Poonawala) ने कहा कि अप्रैल 2021 तक लोगों को ऑक्सफोर्ड कोविड-19 वैक्सीन (Oxford Covid-19 Vaccine) उपलब्ध करा देनी चाहिए. वह हिंदुस्तान टाइम्स लीडरशिप समिट 2020 (Hintustan Times Leadership Summit 2020) में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि फरवरी 2021 तक देश के हेल्थकेयर वर्कर्स (Healthcare Workers) और बुजुर्गों (Elderly People) का टीकाकरण (Vaccination) किया जाना जरुरी है. उन्होंने यह भी कहा कि आम लोगों के लिए वैक्सीन की दो डोज की कीमत 1 हजार रुपये तक होगी. आदर के मुताबिक साल 2024 तक देश के हर नागरिक का टीकाकरण हो जाएगा.

वैक्सीन इम्यूनिटी और एंटीबोडीज के लिहाज से बेहतर-समिट में बोलते हुए पूनावाला ने कहा कि भारत में हर नागरिक का टीकाकरण करने में तकरीबन दो से तीन साल तक का समय लग जाएगा. उन्होंने इसका कारण सप्लाई के साथ-साथ बजट, लॉजिस्टिक, इंस्फ्रास्ट्रक्चर को बताया. समिट में ऑक्सफोर्ड एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन के प्रभाव के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने इसे  खासकर बुजु्र्गों के लिए प्रभावी बताया. उन्होंने यह भी कहा, 'यह वैक्सीन इम्यूनिटी और एंटीबोडीज के लिहाज से बेहतर है, लेकिन यह समय बताएगा कि यह वैक्सीन लंबे समय तक प्रभावी रहेगी या नहीं, मुझे लगता है कि आज कोई भी कंपनी वैक्सीन के लंबे समय तक के प्रभाव की गारंटी नहीं दे सकती.'

अभी तक नहीं आई कोई शिकायत-वैक्सीन के सुरक्षा पहलू पर बोलते हुए पूनावाला ने कहा, 'वैक्सीन को लेकर अभी तक कोई बड़ी शिकायत और प्रतिक्रिया नहीं आई है, हमे अभी थोड़ा इंतजार करने की जरूरत है, क्योंकि भारतीय ट्रायल में इसकी प्रभावकारिता और प्रतिरक्षात्मकता के परिणाम लगभग ढ़ेड़ महीने में सामने आ जाएंगे. यह पूछे जाने पर कि कंपनी इमरजेंसी ऑथोराइजेशन के लिए कब अप्लाई करेगी? इस पर पूनावाला ने कहा कि यूके ऑथोरिटिस और यूरोपियन मेडिसिन्स एव्युलोशन एजेंसी बहुत जल्द हमे इसके लिए अप्रूवल दे देगी लेकिन यह भारत में इमरजेंसी में इस्तेमाल करने के लिए ड्रग कंट्रोलर्स के हाथों में होगी.



वैक्सीन अफोर्डेबल और सुरक्षित-पूनावाला ने कहा, 'यह फ्रंटलाइन और हेल्थकेयर वर्कर्स के साथ-साथ बुजुर्गों के लिए सीमित रूप से उपयोग की जाएगी. वहीं, बच्चों के लिए अभी थोड़ा और इंतजार करना होगा, पर अच्छी बात यह है कि इस वायरस का बच्चों पर कम असर है.' पूनावाला के मुताबिक, ऑक्सफोर्ड वैक्सीन अफोर्डेबल और सुरक्षित है और साथ ही उसे दो से आठ डिग्री सेल्सियस तापमान में आसानी से स्टोर किया जा सकता है. बता दें कि सीरम इंस्टिट्यूट फरवरी से हर महीने 10  करोड़ डोज बनाने की योजना बना रहा है.
Adar poonawalla
सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला (फाइल फोटो)


भारत में 400 मिलियन डोज की जरुरत-यह पूछे जाने पर कि भारत में कितनी डोज उपलब्ध कराई जानी है. इस पर पूनावाला ने कहा 'भारत में जुलाई तक लगभग 400 मिलियन डोज की जरूरत पड़ेगी, मुझे नहीं पता कि यह सभी डोज हमारे यहां से ली जाएगी या नहीं, हम भारत में ज्यादा से ज्यादा डोज देने के लिए तैयार हैं, भारत सरकार से इस पर चर्चा चल रही है, लेकिन हमारे पास अभी कोवेक्स को जुलाई और अगस्त तक 100 मिलियन डोज पहुंचाने का भी ऑफर है, लेकिन अभी कोई समझौता नहीं किया है.'

भारत पहली प्राथमिकता-पूनावाला ने आगे कहा, 'हमारी कंपनी इस वक्त भारत के अलावा किसी भी अन्य देश के साथ  समझौता नहीं करना चाहती है, हमने अभी बांग्लादेश से अलग किसी भी देश के साथ समझौता नहीं किया है, दरअसल पर्याप्त स्टोक न होने की वजह से हम ज्यादा देशों के साथ समझौता नहीं कर सकते हैं. हमारी पहली प्राथमिकता भारत है और फिर अफ्रीका, इसके बाद हम अन्य देशों पर ध्यान देंगे. मैं आपको बता दूं कि 2021 की पहली तिमाही तक 30 से 40 करोड़ डोज भारत में उपलब्ध करा दी जाएगी.

फाइजर वैक्सीन को स्टोर करना चुनौतीपूर्ण-वहीं, समिट के अगले सेशन में एम्स के डायेक्टर डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा, 'फाइजर और भारत सरकार के बीच अभी बातचीत चल रही है लेकिन मॉडर्ना के साथ नहीं, बता दूं कि जहां तक फाइजर वैक्सीन का सवाल है इसे माइनस 70 डिग्री सेल्सियस तापमान में ही प्रभावी रूप से स्टोर किया जा सकता है जो भारत के लिए बहुत चुनौतीपूर्ण है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज