कोरोना से जंग: भारत में बनी दुनिया की सबसे आरामदायक पीपीई किट, कोरोना वॉरियर्स को अब नहीं बहाना पड़ेगा पसीना

देश में पहली ऐसी पीपीई किट बनाई गई है जिसे पहनकर पसीना नहीं आएगा और पूरे शरीर को ताजा हवा मिलेगी.

देश में पहली ऐसी पीपीई किट बनाई गई है जिसे पहनकर पसीना नहीं आएगा और पूरे शरीर को ताजा हवा मिलेगी.

कोरोना वॉरियर्स और डॉक्‍टरों की समस्‍याओं को देखने के बाद मैसूर की ग्‍लोट्रोनिक्‍स नाम की कंपनी ने ऐसी पीपीई किट बनाई है जो साफ़ हवा को पूरे शरीर तक पहुंचाने में सक्षम है. इसे पहनने के बाद लोगों को पसीने की समस्या नहीं आएगी और वो अपने शरीर को ताजा रख सकेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 16, 2021, 5:22 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. एक तरफ भारत में कोरोना के मामले (Corona Cases in India) रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं वहीं दूसरी ओर इससे निपटने के लिए एक से एक प्रयास भी किए जा रहे हैं. कोरोना की इस जंग में वैक्‍सीन (Vaccine) बनाने, मास्‍क और पीपीई किट (PPE Kit) के निर्यात के साथ ही एक और उपलब्धि भारत के नाम दर्ज हो गई है. देश में दुनिया की सबसे आरामदायक पीपीई किट ‘ग्‍लोएयर’  बनाई गई है. लिहाजा यहां के कोरोना वॉरियर्स (Corona Warriors) को अब मरीजों के इलाज के दौरान और पसीना नहीं बहाना होगा.

पिछले साल से फैले कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के दौरान मरीजों (Patients) को इलाज करने वाले डॉक्‍टरों और स्‍वास्‍थ्‍य कर्मचारियों (Healthcare Workers) को सुरक्षा कवच के रूप में पीपीई किट पहनाई गई थी. हालांकि इस दौरान कुछ ऐसे मामले सामने आए जब पीपीई (PPE) ही कोरोना वॉरियर्स के लिए मुसीबत बन गई. इसकी वजह इसके अंदर हवा का न जाना, पसीने से भीगे रहना और आखिर में घबराहट और बेचेनी पैदा हो जाना था लेकिन मैसूर स्थित एक कंपनी ने अब इसका तोड़ निकाल लिया है.

Youtube Video


कोरोना वॉरियर्स और डॉक्‍टरों (Doctors) की समस्‍याओं को देखने के बाद मैसूर की ग्‍लोट्रोनिक्‍स नाम की कंपनी ने ऐसी पीपीई किट बनाई है जो साफ़ हवा को पूरे शरीर तक पहुंचाने में सक्षम है. इसे पहनने के बाद लोगों को पसीने की समस्या नहीं आएगी और वो अपने शरीर को ताजा रख सकेंगे. कंपनी के डायरेक्टर जगन गुप्ता ने दावा किया है कि इस खोज की वजह से अब डॉक्टर्स और कोविड वारियर्स पहले के मुकाबले साधारण पीपीई किट की वजह से आने वाली किसी भी समस्या (सांस लेने में कठिनाई और पसीना) से निजात मिलेगी. साथ ही वे लंबे समय तक काम कर सकेंगे.
कोरोना वॉरियर्स के लिए बनाई गई इस किट को पहनने के बाद पसीना, घुटन और सांस न ले पाने की समस्‍याओं से निजात मिल जाएगी. (सांकेतिक तस्वीर)
कोरोना वॉरियर्स के लिए बनाई गई इस किट को पहनने के बाद पसीना, घुटन और सांस न ले पाने की समस्‍याओं से निजात मिल जाएगी. (सांकेतिक तस्वीर)


ऐसे आया यह पीपीई किट बनाने का आईडिया

गुप्ता बताते हैं, ‘हम लगातार उन डॉक्टर्स के संपर्क में थे जो कोविड के मरीजों का इलाज कर रहे थे. सभी ने हमें पीपीई किट संबंधी उन समस्याओं के बारे में बताया जिसके अनुसार लम्बे समय तक ताज़ी हवा की कमी के वजह से उन्हें थकान और ऊर्जा की कमी जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा था. जिसको समझते हुए हमने ऐसे पीपीई किट के निर्माण का काम जारी रखा जिसमें ताज़ी और स्वच्छ हवा पूरे शरीर में आसानी से पहुंच सके.

100 घंटे तक हो सकती है इस्‍तेमाल

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज