Home /News /business /

Omicron के बढ़ते खतरे के बीच सरकार का बड़ा फैसला, 28 फरवरी तक जारी रहेगी इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर रोक

Omicron के बढ़ते खतरे के बीच सरकार का बड़ा फैसला, 28 फरवरी तक जारी रहेगी इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर रोक

अंतरराष्ट्रीय कार्गो विमानों और डीजीसीए की मंजूरी वाली उड़ानों पर पाबंदी लागू नहीं होगी

अंतरराष्ट्रीय कार्गो विमानों और डीजीसीए की मंजूरी वाली उड़ानों पर पाबंदी लागू नहीं होगी

India Extends ban on International Flights : डीजीसीए ने कहा कि कोविड-19 के खतरे को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय व्यावसायिक उड़ान सेवा पर अब 28 फरवरी 2022 तक के लिए रोक लगाई जा रही है. कार्गो विमानों पर असर नहीं होगा.

नई दिल्ली. दुनियाभर में ओमिक्रॉन (Omicron) के लगातार बढ़ रहे मामलों को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर लगी पाबंदी (Suspension on International Flights) को और आगे बढ़ा दिया गया है. डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) ने एक सर्कुलर के जरिये इसकी जानकारी दी. इसमें कहा गया है कि कोविड-19 के खतरे को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय व्यावसायिक उड़ान सेवा (International Commercial Passenger Services) पर अब 28 फरवरी 2022 तक के लिए रोक लगाई जा रही है.

कोरोना के लगातार बढ़ने मामलों को देखकर अंदाजा लगाया जा रहा था कि पाबंदी फिर से बढ़ाई जा सकती है. हालांकि, इसका असर अंतरराष्ट्रीय कार्गो विमानों (International Cargo Flights) पर नहीं होगा. डीजीसीए की मंजूरी वाली उड़ानों (DGCA Approved Flights) पर भी पाबंदी लागू नहीं होगी. इसके साथ ही एयर बबल (Air Bubble) के अंतर्गत उड़ान भरने वाली फ्लाइट पर भी रोक नहीं होगी. इससे पहले डीजीसीए ने 31 जनवरी 2022 तक अंतरराष्ट्रीय उड़ान सेवाओं पर रोक लगाने का फैसला किया था.

ये भी पढ़ें- Stock Market में करते हैं निवेश तो इन कंपनियों के शेयर करा सकते हैं बंपर कमाई

मार्च 2020 से ही बंद हैं उड़ानें
महामारी को देखते हुए भारत आने-जाने वाली सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें 23 मार्च 2020 से ही बंद हैं. हालांकि, पिछले जुलाई 2020 से करीब 28 देशों के साथ हुए एयर बबल समझौते के तहत विशेष अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें संचालित हो रही हैं. सरकार का कहना है कि कोरोना पर पूरी तरह काबू पाने तक हमें सख्ती का पालन करना होगा.

ये भी पढ़ें- Budget 2022 : एनपीएस सब्‍सक्राइबर्स को टैक्स में मिल सकती है बड़ी छूट! फंड पर आपको पूरा अधिकार दे सकती है सरकार

हो सकता है 20000 करोड़ का घाटा
महामारी की तीसरी लहर और विमान ईंधन (एटीएफ) की कीमतों में तेजी से एयरलाइन कंपनियों (Airlines Companies) का घाटा चालू वित्त वर्ष में बढ़कर रिकॉर्ड 20,000 करोड़ पहुंच सकता है. क्रिसिल (Crisil) के मुताबिक, विमानन कंपनियां इस वित्त वर्ष 20,000 करोड़ रुपये से ज्यादा के अपने अब तक के सबसे बड़े शुद्ध घाटे की ओर बढ़ रही हैं. यह घाटा पिछले वित्त वर्ष में 13,853 करोड़ के मुकाबले 44 फीसदी ज्यादा है. घरेलू उड़ानों में कुल मिलाकर 75 फीसदी हिस्सेदारी रखने वाली इंडिगो, स्पाइसजेट और एयर इंडिया पर आधारित रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि इस घाटे से एयरलाइन कंपनियों का सुधार 2022-23 तक टल जाएगा.

देश में बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले
देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 282970 नए मामले सामने आए हैं. 441 लोगों की मौत हो गई. अब तक कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट के 8,961 मामले सामने आ चुके हैं. देश में दैनिक पॉजिटिविटी रेट 15.13 फीसदी है. सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 1831000 पहुंच गई है, जो 232 दिनों में सबसे ज्यादा है.

Tags: India, Omicron

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर