लाइव टीवी

अब भारत में आफत लाया कोरोना वायरस! 70 फीसदी तक बढ़े जरूरी दवाइयों के दाम

News18Hindi
Updated: February 17, 2020, 10:03 PM IST
अब भारत में आफत लाया कोरोना वायरस! 70 फीसदी तक बढ़े जरूरी दवाइयों के दाम
पैरासीटामोल की कीमतों में 40 फीसदी तक इजाफा

कोरोना वायरस (Corona Virus) की वजह से दुनियाभर की अर्थव्यवस्थाओं (World Economy) के लिए चुनौती बढ़ गई है. मीडिया रिपोर्ट्स में जानकारों के हवाले से कहा गया है कि कई प्रमुख दवाओं की कीमतों में भारी इजाफा हुआ है. मोबाइल फोन के उत्पादन पर भी इसका असर पड़ा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 17, 2020, 10:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चीन में कोरोना वायरस (Corona Virus) आपदा के बाद अब दुनिया की दूसरी सबसे अधिक आबादी वाली देश में मोबाइल फोन से लेकर जरूरी दवाओं की कीमतों में भारी बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. भारत में सबसे अधिक इस्तेमाल किए जाने वाले दवाओं में से एक पैरासिटामोल (Paracetamol ) की कीमतों में 40 फीसदी से अधिक का इजाफा हो चुका है. वहीं, बैक्टिरियल इन्फेक्शन (Bacterial Infection) से बचने के लिए इस्तेमाल होने वाली दवा एजिथ्रोमाइसिन (Azithromycin) भी 70 फीसदी तक महंगा हो चुका है. फार्मा कंपनी Zydus Cadila के चेयरमैन पंकज पटेल ने यह जानकारी दी है.

पटेल ने कहा ​लाइव मिंट को कहा कि अगर अगले महीने की पहले सप्ताह तक दवाओं की सप्लाई दुरुस्त नहीं की गई तो इससे अप्रैल महीने में फार्मा इंडस्ट्री (Pharma Industry) दवाओं की भारी कमी से जूझ सकता है.

यह भी पढ़ें: कर्ज में डूबी Air India दे रही बस 799 रुपये में हवाई सफर का मौका, जानें ऑफर







मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर को तगड़ा झटका
कोरोना वायरस आपदा में अब तक 1 हजार से अधिक लोगों की जान जा चुकी है. अब दुनियाभर की अर्थव्यवस्थाओं को इसका खतरा सता रहा है. वैश्विक अर्थव्यवस्था के साथ-साथ भारत के लिए भी यह चिंताजनक स्थिति है, जो कि पहले से आर्थिक सुस्ती (Economic Slowdown) के दौर से गुजर रहा है. चीन में लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया गया है, जिसके बाद से उत्पादन सेक्टर (Manufacturing Sector) को तगड़ा झटका लगा है. भारत कच्चे माल से लेकर कई इंटरमीडिएट उत्पादों के लिए चीन पर निर्भर रहता है. ऐसे में चीन की ये आपदा, भविष्य में भारत की मुश्किलें बढ़ा सकता है.

दुनियाभर में जेनेरिक दवाएं निर्यात करता है भारत
दवाएं बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाली कई प्रमुख वस्तुओं की कीमतों में भारी इजाफा हुआ है. संभावना है कि इसके लिए इस्तेमाल होने वाले कई बेसिक चीजें छोटी और मध्यम अवधि में कम पड़ सकती हैं. दुनियाभर में सबसे अधिक जेनेरिक दवाएं भारत से ही निर्यात की जाती हैं. अमेरिकी बाजार तक में इस्तेमाल होने वाली कुल दवाओं का 12 फीसदी उत्पादन भारत में ही किया जाता है. इन दवाओं को बनाने के लिए API की जरुरतों को पूरा करने के लिए चीन पर निर्भर रहता है. लेकिन, दिलचस्प बात है कि कारोना वायरस से केवल दवाएं ही नहीं, बल्कि अन्य उत्पादों पर भी असर पड़ा है.

यह भी पढ़ें: EPFO ने किया अलर्ट! इन ऑफर्स से रहें सावधान, नहीं तो लग सकता है चूना



मोबाइल फोन उत्पादन पर असर
भारत की कई मोबाइल निर्माता कंपनियों को भी उत्पादन में अब परेशानियां हो रही हैं. इस मामले से जुड़े जानकारों का कहना है कि अगर चीजें जल्द ही बेहतर नहीं होती हैं तो भविष्य परेशानियां हो सकती हैं. इनका कहना है कि मौजूदा इन्वेन्टरी अगले दो सप्ताह तक के लिए ही हैं. इसके बाद उत्पादन को नुकसान हो सकता है. मोबाइल मैन्युफैक्वचर करने के लिए इस्तेमाल होने वाले प्रिंटेड सर्किट बोर्ड, कैमरा मॉड्यूल्स, से​मी कंडक्टर्स, रजिस्टर्स समेत कई जरूरी उत्पादों की कमी हो सकती है.

वित्त वर्ष 2017-18 में भारत 555 अरब डॉलर कीमत की इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादों का आयात किया था. एक सरकारी आंकड़े के मुताबिक, मार्च 2018 तक भारत में सेल्युलर मोबाइल हैंडसेट के उत्पादन संख्या बढ़कर सालाना 22.5 करोड़ तक पहुंच गई थी, जोकि साल 2015 तक 6 करोड़ यूनिट्स ही था.

यह भी पढ़ें: SBI में है खाता तो 10 दिन में निपटा लें ये काम, वरना नहीं निकाल पाएंगे पैसे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 17, 2020, 9:46 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading