अपना शहर चुनें

States

कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण का पूरा खर्च उठाएगी सरकार, बजट में हो सकता है रोडमैप का ऐलान

फरवरी आखिर तक टीकाकरण शुरू करने का लक्ष्य
फरवरी आखिर तक टीकाकरण शुरू करने का लक्ष्य

India's Covid-19 Vaccine plan: न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, सरकार कोरोना टीकाकरण का पूरा खर्च उठाएगी. साथ ही, आने वाले बजट 2021 में इसके रोडमैप का ऐलान हो सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2020, 4:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने कोरोना महामारी से बचाने के लिए वैक्सीन के टीकाकरण को लेकर रोडमैप बना लिया है. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, सरकार कोरोना टीकाकरण (Covid-19 Vaccine plan) का पूरा खर्च उठाएगी. साथ ही, आने वाले बजट 2021 (Budget 2021) में इसके रोडमैप का ऐलान हो सकता है. एजेंसी की मानें तो सरकार ने इस संबंध में पूरी योजना तैयार कर ली है. एस्ट्राजेनिका से बल्क में वैक्सीन लेने की तैयारी है. अनुमान के मुताबिक देश के एक नागरिक को कोरोना वैक्सीन डोज देने पर 6-7 डॉलर करीब 500 रुपये से ज्यादा का खर्च आएगा. यही वजह है कि सरकार ने 130 करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन देने के लिए 500 अरब रुपये का बजट तय किया है. इस बजट का इंतजाम मौजूदा वित्तीय वर्ष के आखिर में किया जाएगा. जिसके बाद वैक्सीन मुहैया कराने में फंड की कमी नहीं होगी.

फरवरी आखिर तक टीकाकरण शुरू करने का लक्ष्य- रॉयटर्स की खबर के मुताबिक, सरकार वैक्सीन टीकाकरण का पूरा खर्च उठाने की तैयारी में. इस संबंध में आम बजट में ऐलान किया जा सकता है. माना जा रहा है कि फरवरी के अंत से टीकाकरण भी शुरू हो सकता है.

ये भी पढ़ें-खुले बाजार में MSP जरूरी क्यों? आखिर निजी क्षेत्र के लिए एमएसपी को अनिवार्य करने से सरकार का क्या नुकसान है? 



केंद्र सरकार कोरोना (Coronavirus) के बढ़ते प्रकोप से चिंतित है और इसे नियंत्रित करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है. इसी क्रम में वैक्सीन (Vaccine) टीकाकरण का पूरा खर्च उठाने की योजना पर काम चल रहा है. बताया जा रहा है कि इस संबंध में सहमति बन गई है और बजट में इसकी घोषणा की जा सकती है.


कोरोना वायरस महामारी से जूझ रही दुनिया को वैक्‍सीन का ही सहारा है. कोविड के 150 से भी ज्‍यादा टीकों पर दुनियाभर में रिसर्च और ट्रायल हो रहे हैं. अभी तक किसी भी वैक्‍सीन को ग्‍लोबल यूज के लिए अप्रूव नहीं किया गया है. केवल रूस ने एक वैक्‍सीन Sputnik V को अगस्‍त में मंजूरी दी थी जिसके बड़े पैमाने पर फेज-3 ट्रायल के नतीजों का दुनिया इंतजार कर रही है. भारत में भी कोविड के तीन टीकों का फेज 2/3 ट्रायल चल रहा है. इनमें से दो वैक्‍सीन भारतीय वैज्ञानिकों ने ही डेवलप की हैं.

कोविड-19 वैक्‍सीन पोर्टल हो चुका लॉन्‍च-स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने 28 सितंबर को कोविड-19 वैक्‍सीन पोर्टल लॉन्‍च किया था. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने यह पोर्टल बनाया है. इस पर लोगों को भारत में कोविड-19 वैक्‍सीन से जुड़ी जानकारी दिखेगी. धीरे-धीरे अलग-अलग बीमारियों की वैक्‍सीन से जुड़ा सारा डेटा यहां पर उपलब्‍ध करा दिया जाएगा. आप देख पाएंगे कि कौन सी वैक्‍सीन ट्रायल के किस स्‍टेज में है और उसके पहले के नतीजे क्‍या रहे हैं. ICMR ने यह पोर्टल भारत में होने वाली सभी वैक्‍सीन डेवलपमेंट्स से जुड़ी सारी जानकारी को एक जगह जुटाने के लिए बनाया है.

हषवर्धन कई मंचों से कह चुके हैं कि कोरोना वैक्‍सीन उपलब्‍ध होने पर सबसे पहले हेल्‍थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स को मिलेगी. इसके बाद बुजुर्गों और गंभीर बीमारियों वाले मरीजों को प्राथमिकता दी जाएगी. फिर उपलब्‍ध डोज के आधार पर सबको टीका लगाने की कवायद शुरू होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज