लाइव टीवी

कोरोना वायरस संकट- देश में बेरोजगारी तीन गुना बढ़कर 23 फीसदी हुई- CMIE रिपोर्ट

News18Hindi
Updated: April 7, 2020, 1:37 PM IST
कोरोना वायरस संकट- देश में बेरोजगारी तीन गुना बढ़कर 23 फीसदी हुई- CMIE रिपोर्ट
लॉकडाउन से बढ़ी बेरोज़गारी

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE-Centre for Monitoring Indian Economy) के साप्ताहिक सर्वे के आंकड़ों के मुताबिक, 15 मार्च तक देश की बेरोजगारी दर (India Unemployment Rate) 8.4 फीसदी थी जो कि 5 अप्रैल तक बढ़कर 23 फीसदी हो गई है

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी का असर अब देश की अर्थव्यवस्था पर दिखने लगा है. सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE-Centre for Monitoring Indian Economy) के साप्ताहिक सर्वे के आंकड़ों के मुताबिक, 15 मार्च तक देश की बेरोजगारी दर (India Unemployment Rate)  8.4 फीसदी थी जो कि 5 अप्रैल तक बढ़कर 23 फीसदी हो गई है. वहीं, भारत में इस साल मार्च में जॉब हायरिंग में 18 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. लीडिंग जॉब पोर्टल नौकरी डॉट डॉम (Naukri Dot Com)के मुताबिक ट्रैवेल, एविएशन रिटेल और हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में जॉब हायरिंग में सबसे ज्यादा 56 फीसद की गिरावट दर्ज की गयी है. आपको बता दें कि CMIE की नौकरियों का सर्वे एक पैनल करता है. जो कि नियमित तौर पर लोगों में सर्वे करता रहता है. जो अभी नए सर्वे आए हैं इसमें तकरीबन 9,000 लोग शामिल थे.

आंकड़ों पर एक नज़र-सीएमओआई के वीकली ट्रैकर सर्वे में दो हफ्ते तक स्थिरता रही है. 5 अप्रैल को खत्म हफ्ते के बाद 6 अप्रैल को नए आंकड़े जारी किए गए. CMIE के अनुमान के मुताबिक, मार्च के मध्य में आंकड़ा 8.4 फीसदी था, जो कि बढ़कर अभी 23 फीसदी है. आपको बता दें कि  भारत में सप्ताहिक या मासिक आधार पर तेजी से बेरोजगारी के आंकड़े जुटाने का कोई आधिकारिक जरिया नहीं है. इसके चलते CMIE के आंकड़े को लेकर राजनीतिक स्तर पर काफी विवादस्पद रहे हैं. सरकार ने CMIE के आंकड़ों के मानक पर सवाल उठाए हैं.

लॉकडाउन के बाद देश में बढ़ सकती है बेरोजगारी-लाइव मिंट की खबर के मुताबिक,  जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी, दिल्ली के एसोसिएट प्रोफेसर ऑफ इकोनॉमिक्स हिमांशू ने बताया है कि बेरोजगारी दर भारत ही नहीं दुनियाभर में तेजी से बढ़ सकती है.  उन्होंने कहा कि ऐसे में लॉकडाउन खत्म होने के बाद बेरोजगारी दर कितनी बढ़ेगी.



हिमांशू के मुताबिक, देश की लगभग एक-तिहाई नौकरियां अस्थाई होती है, जिनके पास इकोनॉमिक सेफ्टी और सिक्योरिटी नहीं होती है. इससे अर्थव्यवस्था पर बुरा असर पड़ सकता है. ऐसे में सरकार को लॉकडाउन के बाद अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए उचित कदम उठाने होंगे.



Drdo, drdo jobs, drdo graduate apprentice jobs 2020, drdo jobs 2020, sarkari jobs, govt jobs, गवर्मेंट जॉब, government jobs, government, government jobs 2020, सरकारी जॉब, गवर्नमेंट जॉब, सरकारी नौकरी, sarkari job, सरकारी जॉब सरकरी नौकरी, sarkari naukri, नौकरियां, recruitment 2020, Government Jobs Photos, Latest Government Jobs Photographs, Government Jobs Images, Latest Government Jobs

भारत के सांख्यिकीविद प्रनब सेन के मुताबिक अगर एक अनुमानित कैलकुलेशन के आधार पर लॉकडाउन के पिछले दो हफ्तों में करीब 50 मिलियन यानी 5 करोड़ लोगों बेरोजगार हुए हैं.

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के चलते ज्यादातर लोग अपने घरों को वापस चले गए हैं. ऐसे में आने वाले कुछ महीनों में बेरोजगारी दर में अनुमानित आंकड़ों से कहीं ज्यादा का इजाफा देखा जा सकता है. मतलब लॉकडाउन के खत्म होने का बाद बेरोजगारी दर के सटीक आंकड़ों का पता लग सकेगा.

जॉब हायरिंग में आई 18 फीसदी की बड़ी गिरावट- जॉब पोर्टल नौकरी डॉट डॉम के मुताबिक ट्रैवेल, एविएशन रिटेल और हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में जॉब हायरिंग में सबसे ज्यादा 56 फीसदी की गिरावट दर्ज की गयी है. रिपोर्ट के मुताबिक, रिटेल सेक्टर - 50 फीसदी, ऑटो/एंसीलरी - 38 फीसदी, फार्मा -26 फीसदी, इंश्योरेंस -11 फीसदी, अकाउंटिंग/फाइनेंस - 10 फीसदी, आईटी सॉफ्टवेयर -9 फीसदी, बीएफएसआई - 9 फीसदी की गिरावट देखी गई है.

किस शहर में हायरिंग में कितनी गिरावट- दिल्ली एनसीआर में हायरिंग एक्टिविटी में सबसे ज्यादा 66 फीसदी की गिरावट देखी जा रही है. 13 साल से ज्यादा एक्सपीरियंस की हायरिंग में 29 फीसदी की गिरावट दर्ज की है. जीरो से 7 साल के एक्सपीरियंस की हायरिंग में 29 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 7, 2020, 1:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading