अपना शहर चुनें

States

कोरोना वायरस में ठप्प हुए होटल-रेस्टोरेंट के बिजनेस को इस तरह मिल रहा बूस्ट

कोरोना वायरस में ठप्प हुए होटल-रेस्टोरेंट के बिजनेस
कोरोना वायरस में ठप्प हुए होटल-रेस्टोरेंट के बिजनेस

देशभर में फैले कोरोना वायरस के बीच कैफे (Cafe), रेस्टोरेंट्स (Restaurants) और होटलों (Hotels) के बिजनेस (Business) को बड़ा नुकसान उठाना पड़ा हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 1, 2020, 10:55 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: देशभर में फैले कोरोना वायरस के बीच कैफे (Cafe), रेस्टोरेंट्स (Restaurants) और होटलों (Hotels) के बिजनेस (Business) को बड़ा नुकसान उठाना पड़ा हैं. इस कारण फूड व बिवरेज इंडस्ट्री (Food and Beverage Industry) के साथ-साथ वर्टिकल सेक्टर (Vertical Sector) ने रफ्तार पकड़ना शुरू कर दिया. इन वर्टिकल वर्किंग क्षेत्रों की वजह से कैफे, रेस्टोरेंट और होटलों को फिर से अपना बिजनेस चलाने में काफी मदद मिली.

यह रेस्टोरेंट को डिजिटल पीओएस सोल्यूशंस सेवा दे रहे हैं. साथ ही फूड डिवलरी (Food Delivery) और टेकअवे (Takeaway) जैसी सुविधा से होटल के बिजनेस को पटरी पर लाने का प्रयास किया जा रहा है. कई होटल ने फूड डिलीवरी मोबाइल एप की भी शुरुआत कर ली है.

यह भी पढ़ें: पोस्ट ऑफिस खाताधारकों के लिए बड़ी खबर, 11 दिसंबर से बदलने वाला है ये नियम



हॉस्टपिटैलिटी इंडस्ट्री हुई ठप
इशारा के फाउंडर प्रशांत इसर ने कहा, 'कोरोना वायरस के कारण हॉस्टपिटैलिटी इंडस्ट्री पर बड़ा असर पड़ा है. जिस कारण होम डिलवरी और टेकअवे जैसी सुविधाओं का सहारा लेना पड़ रहा है. बतौर उद्यमी मैंने पहले ही कई स्थितियों से निपटने की तैयारी कर ली है और इसलिए मेरा ध्यान इनोवेशन और नए प्रोडक्ट्स पर है.'



फाइव स्टार होटल में पहली बार हुआ ऐसा
वहीं, कलिनरी के निदेशक पॉल किन्नी का कहना है,' ऐसा पहली बार हो रहा है जब फाइव-स्टार होटल को भी टेकअवे और होम डिलीवरी करते देखा जा रहा है. वहीं, कंपनी ने इसके लिए एक मोबाइल एप की भी मदद ली है.' बता दें कि इंडिया होटल कंपनी लिमिटेड ने 'क्विम' नाम एक मोबाइल एप लॉन्च किया है. जिसमें मुंबई के ताज होटल से सिग्नेचर डिशेज की होम डिलीवरी की जा रही है.

क्यूआर मैन्यू की बड़ी डिमांड
कोविड-19 से पहले बड़े-बड़े रेस्टोरेंट तकनीक और डिजिटल सोल्यूंश के जरिए काम करते थे लेकिन मौजूदा हालत को देखते हुए अब यह क्यूआर मैन्यू पर निर्भर हो गए हैं. माई मैन्यू के सीईओ अभिषेक बोस का ने कहा,' क्यूआर मैन्यू अब हमारी पहली प्राथमिकता बन गई है, जैसा कि रेस्टोरेंट हाइजीन बने रहने के लिए प्रोडक्ट डिलीवरी पैटर्न को अपना रहे है. इसने हमारे बिजनेस को बढ़ाया है और इस वक्त हम एक हजार से ज्यादा रेस्टोरेंट के लिए काम कर रहे हैं.'

यह भी पढ़ें: भूल कर भी ना करें ये गलती, नहीं तो आपके पेरेंट्स को आएगा इनकम टैक्‍स नोटिस

मॉडर्न डिजिटल डिस्पले सोल्यूशन बेहद प्रभावी
पिछले कुछ वर्षों में डिजिटलीकरण पहले से ही शुरू हो गया था लेकिन महामारी की वजह से इसने रफ्तार पकड़ी है. टैगटॉक के सीईओ और को-फाउंडर, गौतम भिरानी मॉडर्न डिजिटल डिस्पले सोल्यूशन इन दिनों रेस्टोरेंट और होटल के लिए काफी मददगार साबित हो रहे हैं. हम महामारी में 5 से 12 शहरों के 500 से 2000 कैफे और रेस्टोरेंट सेवा दे रहे हैं. सच में हमने मैन्यू के लिए क्यूआर (QR Code), ऑफर्स और पेमेंट, रियल-टाइम पीओएस ऑफर्स जैसी कई सुविधाएं शुरू की हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज