3 मई तक सभी यात्री ट्रेनें रद्द, टिकट कैंसिल कराने पर कितना होगा नुकसान

वापस नहीं होगी ये रकम

वापस नहीं होगी ये रकम

COVID-19: जिन यात्रियों ने 15 अप्रैल से यात्री ट्रेन सेवाएं शुरू होने की उम्मीद में टिकट बुक करवाए थे, उनको अब अपना टिकट कैंसिल कराना होगा. टिकट कैंसिल कराने पर यात्रियों को कुछ नुकसान भी हो सकता है. आइए जानते हैं कितना होगा नुकसान...

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 14, 2020, 12:35 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए लॉकडाउन (Lockdown) को 3 मई तक बढ़ा दिए हैं. पीएम मोदी के लॉकडाउन बढ़ाने के फैसले के बाद रेलवे ने भी 3 मई तक अपनी यात्री ट्रेनें रद्द कर दी हैं. इससे पहले 21 दिनों के लॉकडाउन के तहत रेलवे ने अपनी यात्री ट्रेनें 14 अप्रैल तक रद्द की थी. जिन यात्रियों ने 15 अप्रैल से यात्री ट्रेन सेवाएं शुरू होने की उम्मीद में टिकट बुक करवाए थे, उनको अब अपना टिकट कैंसिल कराना होगा. टिकट कैंसिल कराने पर यात्रियों को कुछ नुकसान भी हो सकता है. आइए जानते हैं कितना होगा नुकसान...

रेलवे ने प्रीमियम ट्रेन, मेल/एक्सप्रेस ट्रेन, पैसेंजर ट्रेन, सबर्बन ट्रेन, कोलकाता मेट्रो रेल और कोंकण रेलवे आदि को 3 मई तक के लिए निलंबित कर दिया है. इसके साथ ही आगे कोई भी टिकट बुकिंग नहीं होगी. इसके अलावा IRCTC ने पहले ही अपनी 3 प्राइवेट ट्रेन की बुकिंग्स 30 अप्रैल तक स्थगित करने का ऐलान कर दिया है. ये तीन ट्रेन वाराणसी-इंदौर रूट पर चलने वाली काशी महाकाल एक्सप्रेस, लखनऊ-नई दिल्ली तेजस और अहमदाबाद-मुंबई तेजस हैं.

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन पार्ट-2: रेलवे ने 3 मई तक कैंसल की सभी यात्री ट्रेन, नहीं कर सकेंगे सफर

मिलेगा टिकट का पूरा रिफंड
IRCTC के मुताबिक, 15 अप्रैल के बाद की जिन यात्रियों ने टिकट बुक कराई है, उन सभी को पूरा रिफंड मिलेगा. इससे पहले, 22 मार्च से 14 अप्रैल तक लागू लॉकडाउन के दौरान बुक ट्रेन टिकट ऑटोमेटिक कैंसिल हो गए थे. रेलवे ने कहा था कि यात्रियों को अपना टिकट कैंसिल करने की जरूर नहीं, वो ऑटोमेटिक कैंसिल हो जाएंगे. अगर आप खुद टिकट कैंसिल करते हैं तो आपको नुकसान होगा.

वापस नहीं होगी ये रकम

रेलवे की सब्सिडियरी IRCTC ट्रेन टिकट बुकिंग पर नॉमिनल सुविधा शुल्क लेता है, जो नॉन-एसी क्लास की बुकिंग के लिए प्रति टिकट 15 रुपये और एसी और प्रथम श्रेणी के टिकट के लिए 30 रुपये प्रति टिकट है. लेकिन ट्रेन टिकट कैंसिल किए जाने पर IRCTC कभी भी सुविधा शुल्क (Convenience Charges) नहीं लौटाती. IRCTC का कहना है कि वह ट्रेन यात्रा के लिए यात्रियों को ई-टिकट बुकिंग की सुविधा देती है और एक व्यक्ति घर, ऑफिस या यहां तक मोबाइल फोन के इस्तेमाल से चौबीसों घंटे टिकट बुक कर सकता है.



ये भी पढ़ें-

लॉकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री ने कही बड़ी बात-किसी को नौकरी से न निकालें...

महिला जनधन खातों में जमा हुए 500 रुपये वापस ले लेगी सरकार? जानें यहां

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज