लाइव टीवी

मूडीज ने कहा-कोरोना वायरस से भारत के एक सेक्टर को बड़ा खतरा, कंपनियां हो सकती है दिवालिया

News18Hindi
Updated: March 20, 2020, 5:32 PM IST
मूडीज ने कहा-कोरोना वायरस से भारत के एक सेक्टर को बड़ा खतरा, कंपनियां हो सकती है दिवालिया
चीन में बढ़ सकते है आपराधिक मामले

मूडीज के मुताबिक, भारत में संपत्ति आधारित सिक्योरिटीज (ABS- Asset Bases Securities) लेनदेन पर दिवालिया होने का सबसे बड़ा खतरा है. बता दें कि इसी के आधार पर भारत में कॉ​मर्शियल व्हीकल और छोटे कारोबार चलते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2020, 5:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ​COVID-19 की वजह से भारत में व्यवस्थित वित्तीय लेनदेन (Structured Finance Transaction) पर बड़ा असर पड़ सकता है. मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस (Moody's Investors Service) ने अपनी एक रिपोर्ट में यह बात कही है. भारत की तुलना में जापान में यह समस्या कम होगी और अन्य देशों पर इसका कुछ खास असर नहीं होगा. इस बारे में मूडीज ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा, 'वैश्विक स्तर पर कोरोना वायरस के फैलने की वजह से आर्थिक सुस्ती का असर देखने को मिलेगा. एशिया पैसिफिक क्षेत्र के देशों पर इसका असर विशेष तौर पर देखने को मिलेगा.'

यह भी कहा गया कि यह असर इस बात पर निर्भर करता है कि यहां कोरोना वायरस (Coronavirus) आखिर कब तक एक्टिव रहता है. वर्तमान में मूडीज का अनुमान है कि प्रतिदिन आधार पर यह अभी बढ़ेगा.

यह भी पढ़ें: 2000 रुपये से ज्यादा Pay करने के लिए अब जरुरी होगा OTP, RBI ने बदला नियम

चीन, ऑस्ट्रेलिया और कोरिया पर भारत के मुकाबले कम असर



मूडीज के मुताबिक, भारत में संपत्ति आधारित सिक्योरिटीज (ABS- Asset Bases Securities) लेनदेन पर दिवालिया होने का सबसे बड़ा खतरा है. बता दें कि इसी के आधार पर भारत में कॉ​मर्शियल व्हीकल और छोटे कारोबार चलते हैं. मूडीज ने यह भी कहा है कि चीन, ऑस्ट्रेलिया और ​कोरिया में स्ट्रक्चर्ड फाइनेंस सेक्टर्स पर भी असर पड़ेगा. लेकिन भारत की तुलना में यह कम होगा.

खराब होगी कंज्यूमर लोन की एसेट क्वालिटी
रिपोर्ट के मुताबिक, 'इन देशों में, आवासीय मॉर्टगेज, ऑटो लोन, और क्रेडिट कार्ड कोलेटरल के तौर पर लिए जाने वोल कंज्यूमर लोन सबसे अधिक हैं. ऐसे में यहां अब कंज्यूमर लोन की एसेट क्वालिटी खराब होगी.' मु​डीज ने कहा है कि एसेटी क्वालिटी और लेनदेन पर यह निर्भर करेगा कि इसका कितना बुरा असर पड़ता है.

उदारहण के तौर पर देखें तो चीन में वित्त वर्ष 2020 की पहली छमाही में इस तरह के आपराधिक मामलों की संख्या बढ़ी और ऑटो लोन ABS एसेट क्वालिटी की स्थिति खराब हुई. यह स्थिति इस बात पर भी निर्भर करेगी कि चीन की अर्थव्यवस्था पर कोरोना वायरस का कितना बड़ा असर होता है.

यह भी पढ़ें: कोरोना की वजह से हर महीने खाते में पैसे भेजेगी सरकार, शुरू कर सकती है नई स्कीम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 20, 2020, 5:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर