कोरोनाकाल में आपकी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए ITC बनाएगा खास प्रोडक्ट, बाकी कंपनियों को देगा टक्कर

कोरोनाकाल में आपकी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए ITC बनाएगा खास प्रोडक्ट, बाकी कंपनियों को देगा टक्कर
ई-चौपाल 4.0 पहल के तहत 10,000 किसानों को किया शामिल

आईटीसी लिमिटेड (ITC Limited) बागवानी पोर्टफोलियो को आगे बढ़ाने के लिए कृषि परियोजनाओं के तहत औषधीय और सुगंधित पौधों को लगाने की तैयारी कर रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. विभिन्न क्षेत्रों में कारोबार करने वाली कंपनी आईटीसी लिमिटेड (ITC Limited) कोरोना संक्रमण के चलते फलों और सब्जियों की मांग को देखते हुए इम्यूनिटी बढ़ाने वाले प्रोडक्ट बनाने की तैयारी कर रही है. इसके लिए कंपनी बागवानी पोर्टफोलियो को आगे बढ़ाने के लिए कृषि परियोजनाओं के तहत औषधीय और सुगंधित पौधों को लगाने की तैयारी कर रहा है. कोविड-19 के कारण उपभोक्ताओं की रूचि डिब्बाबंद ताजे फलों और सब्जियों की और बढी है. आईटीसी अपने बी ब्रांड के जूस के लिए किसानों से सीधे ताजा फल और अपने फार्मलैंड ब्रांड के लिए ताजी सब्जियां खरीदता है.

योजना में 10,000 किसानों को किया शामिल
आईटीसी के कृषि और आईटी व्यवसाय के प्रमुख, एस शिवकुमार ने कहा कि मध्य प्रदेश में चल रहे, औषधीय और सुगंधित पौधों की परियोजना में ई-चौपाल 4.0 पहल के तहत 10,000 किसानों को शामिल किया गया है. इसका मुख्यालय कोलकाता में है. उन्होंने कहा कि इस दशक पुराने एग्री इकोसिस्टम ई-चौपाल का मुख्य मकसद इंटरनेट के माध्यम से किसानों को सीधे खरीदी करने में सक्षम बनाता है.

ये भी पढ़ें:- भारत को नुकसान पहुंचाने के लिए चीन ने चली नई चाल, अब बढ़ाने जा रहा है इस जरूरी सामान के दाम
फल और सब्जी क्लस्टर बनाने की योजना


शिवकुमार, दो दशक पुराने एग्री इकोसिस्टम ई-चौपाल के पीछे का मस्तिष्क, जो आईटीसी को इंटरनेट के माध्यम से किसानों से सीधे खरीद करने में सक्षम बनाता है. इसके अलावा कंपनी अपनी बागवानी पहल के लिए फल और सब्जी क्लस्टर बनाने की योजना भी बना रही है. शिवकुमार ने कहा कि हम ताजे फलों और सब्जियों की खरीद पर ध्यान केंद्रित करेंगे. फ्रोजन फूड कारोबार में नए प्रोडक्ट और नए इलाके में इसे बढ़ाने की रणनीति के तहत ITC उतर चुका है.

मसला कंपनी का किया अधिग्रहण
पिछले महीने आईटीसी ने कहा था कि वह मसाले बनाने वाली कंपनी सनराइज फूड्स प्राइवेट लिमिटेड (SFPL) का अधिग्रहण करेगी. कंपनी ने कहा कि उसने एसएफपीएल के साथ एक शेयर खरीद समझौते (SPA) पर हस्ताक्षर किया है. इससे उसके उत्पादों का पोर्टफोलियो बढ़ेगा और मसालों के कारेाबार में उसकी स्थिति मजबूत होगी. आईटीसी के 'Aashirvaad' रेंज के मसाले तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में मार्केट लीडर है. कंपनी भारत के प्रमुख उत्पादकों और उच्च गुणवत्ता वाले खाद्य सुरक्षित मसालों के निर्यातकों में से एक है.

ये भी पढ़ें:- LIC Tech Term Policy: रोजाना 48 रुपये के निवेश पर मिलेंगे 1 करोड़ रुपए!

आईटीसी ने कमाया इतना मुनाफा
वित्त वर्ष 2019 में आईटीसी का नेट रेवेन्यू 44,415 करोड़ रुपये और प्रॉफिट 12,464 करोड़ रुपये रहा. एफएमसीजी और इससे संबंधित बिजनेस से रेवेन्यू 12,505.28 करोड़ रुपये रहा. अपने FMCG सेगमेंट के तहत, ITC Sunfeast बिस्कुट, Yippee नूडल्स, B नेचुरल जूस, Vivel साबुन और बिंगो चिप्स (Bingo chips) जैसे पैकेज्ड फूड, पर्सनल केयर और स्टेशनरी हाउसिंग ब्रांड बेचता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज