COVID-19 Impact: टाटा मोटर्स ने प्लांट में कर्मचारियों की संख्या सीमित की, जानिए वजह

महाराष्ट्र सरकार के दिशानिर्देशों के तहत टाटा मोटर्स ने कामकाज में बदलाव किया

महाराष्ट्र सरकार के दिशानिर्देशों के तहत टाटा मोटर्स ने कामकाज में बदलाव किया

टाटा मोटर्स (Tata Motors) ने 15 अप्रैल से पुणे के अपने प्लांट में कुछ वाहनों के विनिर्माण (manufacturing) काम पर रोक लगा दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 16, 2021, 5:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोनावायरस (COVID-19 Impact) की वजह से टाटा मोटर्स (Tata Motors) ने 15 अप्रैल से पुणे के अपने प्लांट में कुछ गाड़ियों के विनिर्माण (manufacturing) काम पर रोक लगा दी है. मैन्युफैक्चरिंग 30 अप्रैल तक बंद रखी जाएगी. इस बात की जानकारी टाटा मोटर्स ने एक पत्र के जरिए दी है.

टाटा मोटर्स ने पुणे के भौसारी (Bhosari) में एमआईडीसी पुलिस स्टेशन को लिखे गए पत्र में कहा है कि महाराष्ट्र सरकार के कोरोना वायरस से निपटने के आदेश के मुताबिक, हमने 15 अप्रैल 2021 से 30 अप्रैल 2021 तक कुछ वाहनों का विनिमार्ण (vehicle manufacturing) का काम बंद कर दिया है. हमने सभी कर्मचारियों को घर पर रहने की सलाह दी है. टाटा मोटर्स ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार के ब्रेक द चेन के तहत दिए दिशानिर्देशों का कंपनी कड़ाई से पालन कर रही है. सीमित संख्या में कर्मचारी सभी सुरक्षा प्रोटोकॉल को फॉलो कर रहे हैं. अनिवार्य परीक्षण के अलावा, संयंत्र के गेटाें पर स्क्रीनिंग की जा रही है.

यह भी पढ़ें : नौकरी की बात :  इंटरव्यू में नई स्किल के बेहतर प्रदर्शन से मिलेगी जॉब की गारंटी, जानिए ऐसे ही अहम मंत्र

Youtube Video



आवश्यक सेवाओं के लिए कंपनी ने बसें चलाने की मांगी अनुमति

पत्र में आगे कहा गया है कि सुरक्षा को सुनिश्चित करने और फ्री शिफ्ट बेसिस पर बिजली, पानी और एयरलाइन की सुविधा बनाए रखने के लिए हम अपने कर्मचारियों को हर शिफ्ट में आवश्यक सर्विस बनाए रखने के लिए ही बुला रहे हैं. इन आवश्यक सेवाओं में DG set operation, अग्निशमन, पानी की आपूर्ति, 22Kv substation, security vigilance प्रदूषण प्लांट को चलाने वाले लोग शामिल है.



यह भी पढ़ें : भारत की कंपनियां इस फार्मूले पर देती हैं जॉब, अच्छी नौकरी पाने के लिए जानें यह तरीका



महाराष्ट्र में एक दर्जन बड़ी ऑटोमेकर कंपनियों के प्लांट

राज्य में कम से कम 6 कंस्ट्रक्शन इक्यूपमेंट बनाने वाले यूनिट हैं. जहां पर क्रेन, गड्ढ़ा खोदने वाली मशीन बनाने वाली यूनिट, कुछ ट्रैक्टर बनाने वाली यूनिट, कई ऑटो प्लांट बनाने वाली कंपनिया, टायर बनाने वाली कंपनियां महाराष्ट्र में स्थिति है. महाराष्ट्र में टाटा मोटर्स, महिंद्र एंड महिंद्र, वेक्सवैगन, बजाज ऑटो, स्कोडा ऑटो, मर्सिडीज बेंज, जगुआर लैंड रोवर, फीएट क्राइसलर, Piaggio Vehicles और फोर्स मोटर्स समेत एक दर्जन से अधिक ऑटोमेटिव प्लांट हैं.

यह भी पढ़ें :  कोरोना वैक्सीन बनाने वाली सीरम ने इस बड़ी कंपनी में किया निवेश, जानें सब कुछ 

सरकार ने मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के लिए गाइलाइंस दी थी

13 अप्रैल को महाराष्ट्र में उद्धव सरकार ने राज्य में लॉकडाउन के लिए नोटिफिकेशन की घोषणा की, जिसमें मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के लिए गाइलाइंस दी गई थी. इस गाइडलाइंस के मुताबिक, कम कर्मचारियों के साथ मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स को चालू रखा जा सकता है. गौरतलब है कि 14 अप्रैल तक महाराष्ट्र के पुणे जिले में सबसे अधिक कोरोना संक्रमित मरीज सामने आए हैं. पुणे जिले में 112,213 एक्टिव मामले थे और 14 अप्रैल को 7887 नए मामले सामने आए थे. देश के सबसे कोरोना संक्रमित प्रभावित शहरों में पुणे शामिल है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज