अपना शहर चुनें

States

इस एयरलाइन के पायलटों को नहीं मिलेगी अप्रैल और मई की सैलरी, इन्हें मिलेगा वेतन

अप्रैल और मई की सैलरी नहीं
अप्रैल और मई की सैलरी नहीं

स्पाइसजेट (SpiceJet) ने अपने पायलटों को कहा है कि उनको अप्रैल और मई की सैलरी नहीं मिलेगी लेकिन कार्गो फ्लाइट उड़ाने वाले पायलटों को वेतन मिलेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2020, 2:08 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लो-कॉस्ट एयरलाइन स्पाइसजेट (SpiceJet) ने अपने पायलटों को कहा है कि उनको अप्रैल और मई की सैलरी नहीं मिलेगी लेकिन कार्गो फ्लाइट उड़ाने वाले पायलटों को वेतन मिलेगा. स्पाइसजेट के चीफ ऑफ फ्लाइट ऑपरेशंस ने एक मेल में कहा, हमारे 16 फीसदी विमान और हमारे 20 प्रतिशत पायलट उड़ान भर रहे हैं. स्पाइसजेट के एक प्रवक्ता ने कहा कि एयरलाइन एक बयान जारी करेगी. बता दें कि कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) से निपटने के लिए जारी देशव्यापी लॉकडाउन से उड़ानें बंद हैं, जिससे विमानन कंपनियों को नुकसान हो रहा है.

अप्रैल और मई की सैलरी नहीं
मनीकंट्रोल डॉट कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक, लॉकडाउन के चलते स्पाइसजेट ने पहले ही कर्मचारियों के वेतन में कटौती कर दी थी. अपने प्रवासी पायलटों को बंद कर दिया था और अपने कुछ कर्मचारियों को बिना सैलरी छुट्टी पर भेज दिया था. अब कंपनी ने अप्रैल और मई की सैलरी नहीं देने का फैसला किया है.

ये भी पढे़ं: UPA सरकार की फोन बैंकिंग का फायदा उठाने वालों ने जानबूझकर नहीं चुकाए लोन- वित्त मंत्री
चीफ ऑफ फ्लाइट ऑपरेशंस ने कहा, लॉकडाउन बढ़ने की वजह से अप्रैल में उड़ानें बंद हैं और यह अभी स्पष्ट नहीं है कि सरकार एयरलाइंस को परिचालन शुरू करने देगी. इस बीच, एयरलाइन कार्गो परिचालन पर ध्यान केंद्रित कर रही है. हम अपने पांच कार्गो एयरक्राफ्ट को उड़ा रहे हैं और अपने यात्री विमानों पर भी अधिक माल उठा रहे हैं. उन्होंने कहा, आने वाले हफ्तों में हम उड़ान भरने वाले विमानों की संख्या 50 फीसदी से अधिक और पायलटों की संख्या 100 फीसदी तक बढ़ाने का इरादा रखते हैं.



एक वरिष्ठ कार्यकारी ने कहा कि 24 मार्च से स्पाइसजेट के 200 से अधिक पायलट 550 उड़ानों में उड़ान भर चुके हैं. उन्होंने 4,200 टन से अधिक आवश्यक दवाओं को 37 से अधिक गंतव्यों तक पहुंचाया है.

लॉकडाउन से कंपनियों के रेवेन्यू पर असर
स्पाइसजेट के अलावा अन्य कंपनियों ने भी अपने कर्मचारियों के लिए बिना पैसे छुट्टी पर जाने का ऐलान किया था. दरअसल, देशभर में लॉकडाउन के बीच विमान सेवाएं भी पूरी तरह से बंद हैं. ऐसे में कंपनियों की रेवेन्यू पर इसका खासा असर पड़ रहा है. यही कारण है कि ​प्राइवेट विमान कंपनियों को कॉस्ट कटिंग का सहारा लेना पड़ रहा है.

स्पाइसजेट के चेयरमैन की कटेगी 30% सैलरी
स्पाइसजेट प्रबंधन ने मार्च में सभी कर्मचारियों के वेतन में 10-30 प्रतिशत के बीच कटौती करने का फैसला किया है. हमारे चेरमैन और प्रबंध निदेशक (अजय सिंह) ने 30 प्रतिशत की उच्चतम कटौती का विकल्प चुना है. ई-मेल में कहा गया है, यह बहुत कठिन समय हैं और असाधारण चुनौतियों से मुकाबले के लिए समुचित और असाधारण उपाए समय की मांग हैं.

ये भी पढ़ें: कोरोना से लोगों को बचाने के लिए Amul ने लांच किया हल्दी वाला दूध, जानिए क्या होगी कीमत?

इंडिगो नहीं करेगी वेतन में कटौती
दूसरी तरफ बजट एयरलाइन इंडिगो (IndiGo) ने अपने कर्मचारियों को घरेलू उड़ानों के निलंबित रहने की अवधि में वेतन और छुट्टी नहीं कटने का भरोसा दिया है. इंडिगो के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रंजय दत्ता ने कर्मचारियों को भेजे एक ई-मेल में कहा था कि कंपनी के पास अप्रैल के लिए पहले से ‘ठीकठाक’ अग्रिम बुकिंग है. इंडिगो कम क्षमता के साथ ही फिर से उड़ान भरने के लिए तैयार है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज