लाइव टीवी

सरकार का बड़ा कदम, अब 50 करोड़ लोगों की मुफ्त में होगी कोरोना की जांच और इलाज

News18Hindi
Updated: April 4, 2020, 6:04 PM IST
सरकार का बड़ा कदम, अब 50 करोड़ लोगों की मुफ्त में होगी कोरोना की जांच और इलाज
गुजरात में कोविड-19 से मरने वालों की संख्या 11 हो गई है

केंद्र सरकार ने कहा है कि COVID-19 का इलाज आयुष्मान भारत - प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (AB-PM JAY) के तहत इलाज किया जा सकेगा. इसके तहत अब 50 करोड़ लोगों की जांच और इलाज लिस्टेड प्राइवेट हॉस्पिटल्स में होगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. COVID-19 महामारी (Coronavirus Pandemic) से जंग में केंद्र सरकार ने कहा है कि कोरोना वायरस संक्रमण की जांच और इलाज आयुष्मान भारत - प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (AB-PM JAY) के तहत किया जाएगा. इसके पहले से ही सरकारी अस्पतालों में COVID-19 की जांच और इलाज मुफ्त में किया जा रहा है. अब सरकार की इस योजना के तहत आने वाले 50 करोड़ से अधिक आबादी प्राइवेट लैब्स के जरिए भी COVID-19 की फ्री टेस्टिंग करा सकेगी. इस योजना के तहत आने वाले अस्पतालों में COVID-19 की टेस्टिंग और ट्रीटमेंट बिल्कुल मुफ्त होगी.

प्राइवेट लैब्स को करना होगा ICMR प्रोटोकॉल को फॉलो
AB_PM JAY के तहत सूचिबद्ध अस्पताल अपने स्तर पर टेस्टिंग सुविधा का लाभ दे सकते हैं. उनके पास किसी अधिकृ​त टेस्टिंग फैसिलिटी की मदद लेने का भी विकल्प होगा. COVID-19 की टेस्टिंग इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (ICMR) के तहत ही होगा.

सभी अधिकृत प्राइवेट लैब्स को ICMR के प्रोटोकॉल को फॉलो करना अनिवार्य होगा. इसी प्रकार प्राइवेट अस्पतालों में भी COVID-19 की ट्रीटमेंट भी AB-PM JAY योजना के तहत आएगा.



यह भी पढ़ें: सरकार ने राज्यों को जारी किया इमरजेंसी फंड, तेजी से बढ़ रहे संक्रमण के मामले



केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने कहा, 'इस अभूतपूर्व संकट की स्थिति में हमें तत्परता से प्राइवेट सेक्टर के प्रमुख स्टेकहोल्डर्स को COVID-19 से लड़ने के लिए एक साथ लाना होगा. आयुष्मान भारत - प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत हम जांच और इलाज को बड़े स्तर पर पहुंचा सकेंगे. इसमें प्राइवेट अस्पतालों की भी प्रमुख भूमिका होगी. इस कदम से गरीब वर्ग तक COVID-19 महामारी से लड़ने में मदद मिलेगी.'

बढ़ेगी टेस्टिंग और ट्रीटमेंट सुविधा की सप्लाई
सरकार ने यह फैसला इसलिए लिया है ताकि टेस्टिंग और ट्रीटमेंट सुविधाओं की सप्लाई को बढ़ाया जा सके. आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Scheme) के तहत प्राइवेट अस्पतालों को लाने से प्रावइेट लैब्स में भी ICMR के गाइडलाइंस के आधार पर टेस्टिंग की जा सकेगी.

यह भी पढ़ें: आपके स्मार्टफोन लोकेशन की मदद से होगी COVID-19 की रोकथाम, गूगल ने बनाया प्लान

किन प्राइवेट लैब्स में की जा सकेगी टेस्टिंग?
यह टेस्ट उन्हीं प्राइवेट लैब्स में होंगे, जिनके पास RNA वायरस के PCR जांच के लिए NABL की मान्यता है. लैब टेस्टिंग तभी की जाएगी, जब कोई क्वालिफाईड डॉक्टर ने COVID-19 टेस्टिंग की सलाह दी होगी.

प्राइवेट अस्पतालों को COVID-19 अस्पताल में तब्दील किया जाएगा
सरकार के इस फैसले अधिक संख्या में प्राइवेट कंपनियां भी कोरोना वायरस के टेस्टिंग और ट्रीटमेंट के लिए सामने आ सकेंगी. वर्तमान में, भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, ऐसे में प्राइवेट सेक्टर की भूमिका भी अहम हो जाएगी. इसके लिए राज्य सरकारें प्राइवेट सेक्टर के अस्पतालों की सूची तैयार कर रही हैं, जिन्हें केवल COVID-19 अस्पताल में तब्दील किया जा सके.

स्नेहा, CNN-News18

यह भी पढ़ें: PM CARES Fund में शामिल होंगे 13 एक्सपर्ट्स, जानिए क्या होगी इसकी रूपरेखा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 4, 2020, 5:47 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading