Covid-19: डराने लगे कोरोना के आंकड़े, गुजरात में वेंटिलेटर विनिर्माताओं ने उत्पादन बढ़ाया

वेंटिलेटर

वेंटिलेटर

देश में कोरोना संक्रमण (Covid-19) की दूसरी लहर बढ़ने के साथ ही वेंटिलेटर की मांग फिर जोर पकड़ने लगी है और इसके चलते विनिर्माताओं ने इस जीवन रक्षक उपकरण का उत्पादन बढ़ा दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 4:00 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना संक्रमण (Covid-19) की दूसरी लहर बढ़ने के साथ ही वेंटिलेटर की मांग फिर जोर पकड़ने लगी है और इसके चलते विनिर्माताओं ने इस जीवन रक्षक उपकरण का उत्पादन बढ़ा दिया है. इस उद्योग से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि बढ़ी हुई मांग को पूरा करने के लिए गुजरात में वेंटिलेटर विनिर्माता उत्पादन में तेजी ला रहे हैं. कोरोना वायरस संक्रमण के दैनिक मामलों में बढ़ोतरी के साथ ही वेंटिलेटर की मांग जनवरी और फरवरी में तेजी से बढ़ी है.

वडोदरा स्थित मैक्स वेंटीलेटर के संस्थापक और सीईओ अशोक पटेल ने पीटीआई-भाषा को बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों की ताजा लहर के कारण वेंटिलेटर की मांग बढ़ रही है. उन्होंने कहा कि मौजूदा लहर में कुछ रोगियों पर गंभीर असर पड़ रहा है. पटेल ने कहा कि इस लहर में, मरीजों को संक्रमण होने के पांच से छह दिनों के बाद वेंटिलेटर की जरूरत पड़ रही है, जबकि पहले वेंटीलेटर की आवश्यकता 10 से 15 दिनों के बाद होती थी.

ये भी पढ़ें: Covid-19: कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच रेलवे ने इन स्टेशनों पर बंद की प्लेटफॉर्म टिकट की बिक्री, देखें लिस्ट 

उन्होंने बताया कि उनकी कंपनी ने उत्पादन को प्रति माह 400 वेंटिलेटर तक बढ़ाया है, जो इस साल के पहले दो महीनों के दौरान बहुत कम था. कंपनी की आईसीयू वेंटिलेटर बनाने की क्षमता मार्च 2020 में सिर्फ 20 यूनिट प्रति माह थी. अब इस क्षमता को बढ़ाकर 1,000 इकाई प्रति माह तक कर दिया गया है.
गुरुवार देर रात भारत में कोरोना का अब तक का सबसे बड़ा अटैक हुआ. 24 घंटे में देशभर में कुल 1 लाख 31 हजार 968 नए पॉजिटिव केस मिसे. इस दौरान 780 मरीजों की जान चली गई. हालांकि 61 हजार 899 लोग कोरोना से ठीक भी हुए. इससे एक दिन पहले 1 लाख 26 हजार 265 लोग संक्रमित हुए थे. गुरुवार तक 9 करोड़ 43 लाख 34 हजार 262 लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है.

ये भी पढ़ें: Covid-19 Vaccine: देश में वैक्सीन का स्टॉक 5.5 दिनों का, कई राज्यों में किल्लत

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक भारत में 12 ऐसे राज्य हैं, जहां कोरोना के मामले तेज़ी बढ़ रहे हैं और संक्रमण से लोगों की जान जा रही है. इन राज्य में महाराष्ट्र, पंजाब, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, गुजरात, मध्य प्रदेश, दिल्ली, तमिलनाडु, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और केरल के नाम शामिल हैं. गुरुवार को पीएम मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक ली. बैठक में पीएम मोदी ने राज्यों को कोरोना गाइडलाइन्स फॉलो करने के सख्त निर्देश दिए. साथ ही कहा कि लोगों को जागरूक करना सबसे ज्यादा जरूरी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज