अच्छी खबर-कोरोना वैक्सीन बनाने वाली भारतीय कंपनी Zydus ने शुरू की ह्यूमन टेस्टिंग

अच्छी खबर-कोरोना वैक्सीन बनाने वाली भारतीय कंपनी Zydus ने शुरू की ह्यूमन टेस्टिंग
Zydus ने शुरू किया वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल

भारतीय दवा कंपनी जायडस कैडिला (Zydus Cadilla) ने कहा कि ZYCoV-D, प्लास्मिड डीएनए वैक्सीन को प्री-क्लिनिकल टॉक्सिसिटी अध्ययनों में सुरक्षित माना गया है. इसके पहले इस कोरोना वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल में प्रतिरक्षा और इम्युनिटी टेस्ट के अच्छे परिणाम सामने आए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 15, 2020, 12:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय दवा कंपनी जायडस कैडिला (Zydus Cadilla) ने बुधवार को बताया कि उसने एक संभावित कोरोना वैक्सीन के लिए मानव परीक्षण (Human trials) शुरू कर दिया है. कंपनी ने कहा कि ZYCoV-D, प्लास्मिड डीएनए वैक्सीन को प्री-क्लिनिकल टॉक्सिसिटी अध्ययनों में सुरक्षित माना गया है. इसके पहले इस कोरोना वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल में प्रतिरक्षा और इम्युनिटी टेस्ट के अच्छे परिणाम सामने आए हैं. आपको बता दें कि अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना की कोरोना वायरस वैक्‍सीन अपने पहले ट्रायल में पूरी तरह से सफल रही. न्‍यू इंग्‍लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में छपे अध्‍ययन में कहा गया है कि 45 स्‍वस्‍थ लोगों पर इस वैक्‍सीन के पहले टेस्‍ट के परिणाम बहुत अच्‍छे रहे हैं. इस वैक्‍सीन ने प्रत्‍येक व्‍यक्ति के अंदर कोरोना से जंग के लिए एंटीबॉडी विकसित किया. मॉडर्ना की वैक्‍सीन की एक और अच्‍छी बात यह रही कि इसका इतना कोई खास साइड इफेक्‍ट नहीं रहा जिसकी वजह से वैक्‍सीन के ट्रायल को रोक दिया जाए.

Zydus ने इस महीने की शुरुआत में घोषणा की थी कि उसके प्लास्मिड डीएनए वैक्सीन उम्मीदवार (ZyCoV-D) को अहमदाबाद के वैक्सीन टेक्नोलॉजी सेंटर में प्रीक्लिनिकल स्टेज को सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया (DCGI) DCGI) ने जाइडस कैडिला (Zydus Cadilla) को इस वैक्‍सीन के इंसानों पर परीक्षण को मंजूरी भी दे दी है.

ये भी पढ़ें : इस भारतीय फार्मा कंपनी को मिली COVID की दवा Favipiravir बनाने की अनुमति



कई भारतीय कंपनियां कोरोना की दवा बनाने में लगी हैं. मंगलवार को बायोफोर इंडिया फार्मास्युटिकल्स ने ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से कोविड-19 की दवा फेविपिराविर (Favipiravir) के निर्माण का लाइसेंस प्राप्त किया है. इस दवा का इस्तेमाल COVID-19 हल्के से मध्यम मामलों में किया जाता है. इसके अलावा, डीसीजीआई (DCGI) की ओर से भारत में एक्टिव फार्मास्युटिकल इंग्रीडेंट्स का उत्पादन और इसके निर्यात के लिए भी मंजूरी दी गई है.
ये भी पढ़ें :- महंगा होगा अल्‍कोहल बेस्‍ड हैंड सैनिटाइजर! लगेगा 18 फीसदी जीएसटी

Biophore India ने कहा कि तुर्की में एक स्थानीय साझेदार के सहयोग से एपीआई (API) का निर्यात करने के लिए भी मंजूरी मिली और इसके अलावा, कंपनी भारत में उत्पाद का व्यवसायीकरण करने के लिए कई भारतीय भागीदारों के साथ बातचीत कर रही है. वहीं इसके निर्यात के लिए बांग्लादेश और मिस्र की कंपनियों के साथ बातचीत जारी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading