कोरोना केस और ग्लोबल मार्केट से तय होगी बाजार की चाल, जानें कैसा रहेगा सेंसेक्स-निफ्टी का हाल

Share market

Share market

कंपनियों के तिमाही परिणाम लगभग आ जाने के बाद अब इस सप्ताह शेयर बाजार (Share Market) की चाल कोविड-19 मामलों की रिपोर्ट से तय होगी.

  • Share this:

नई दिल्ली: कंपनियों के तिमाही परिणाम लगभग आ जाने के बाद अब इस सप्ताह शेयर बाजार (Share Market) की चाल कोविड-19 मामलों की रिपोर्ट से तय होगी. इसके अलावा वैश्विक रुख का असर भी बाजार में देखने को मिलेगा. पिछले कारोबारी सप्ताह के दौरान कोविड-19 मामलों में घटने की प्रवृत्ति के साथ मानक सूचकांक मजबूती के साथ बंद हुए. हालांकि, टीकाकरण अभियान की धीमी गति चिंता का कारण बनी हुई है.

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘नये टीकों के आने के साथ आपूर्ति की स्थिति सुधरेगी. इसके साथ कोविड-19 मामलों में कमी जैसे कारकों से बाजार में निवेशकों का भरोसा बढ़ रहा है.’’

यह भी पढ़ें: दुनिया का सबसे बड़ा Cryptocurrency माइनिंग हब है चीन, फिर क्यों क्रिप्टोकरेंसी पर कस रहा शिकंजा

बाजार में रह सकता है उथार-चढ़ाव
उन्होंने कहा, ‘‘चूंकि अभी कोई महत्वपूर्ण आर्थिक आंकड़ा आना नहीं है, अत: बाजार की नजर कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या पर होगी. संक्रमितों की संख्या घटने पर निवेशकों का भरोसा बढ़ेगा.’’ वायदा एवं विकल्प खंड में बृहस्पतिवार को सौंदों के समाप्त होने के बीच शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकता है.

रेलिगेयर ब्रोकिंग लि. के उपाध्यक्ष (शोध) अजीत मिश्रा ने कहा, ‘‘हमारा मानना है कि निकट भविष्य में वैश्विक रुख बाजार को दिशा देंगे. हाल में बैंक और वित्तीय शेयरों में तेजी उत्साहजनक है और बारी-बारी से अन्य क्षेत्रों में लिवाली से पुनरूद्धार को गति मिलेगी.’’

पिछले कारोबारी सप्ताह के दौरान 30 शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 1,807.93 अंक यानी 3.70 प्रतिशत मजबूत हुआ. रिलायंस सिक्योरिटीज के रणनीति प्रमुख विनोद मोदी ने कहा, ‘‘निकट भविष्य में निवेशकों की नजर कोविड संक्रमितों की दैनिक संख्या और टीकाकरण अभियान की गति पर होगी.’’



यह भी पढ़ें: सेंसेक्स की टॉप 9 कंपनियों को हफ्तेभर में हुआ 2.41 लाख करोड़ का फायदा, RIL रही टॉप पर

इन कंपनियों के आएंगे रिजल्ट

इस सप्ताह ग्रासिम इंडस्ट्रीज, बीपीसीएल, सन फार्मास्युटिकल्स और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया समेत कुछ बड़ी कंपनियों के वित्तीय परिणाम की घोषणा होने वाली है. इसके अलावा रुपये में उतार-चढ़ाव, विदेशी संस्थागत निवेशकों की निवेश प्रवृत्ति और ब्रेंट क्रूड के भाव पर भी निवेशकों की निगाह होगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज