Home /News /business /

महामारी में कोरोना का टीका बनाने वाली कंपनियां हुईं मालामाल, हर रोज सात अरब रुपए की कमाई

महामारी में कोरोना का टीका बनाने वाली कंपनियां हुईं मालामाल, हर रोज सात अरब रुपए की कमाई

 फार्मा कंपनियों ने नेताओं की लॉबिंग में 3 हजार 700 करोड़ रुपए से अधिक खर्च किए.

फार्मा कंपनियों ने नेताओं की लॉबिंग में 3 हजार 700 करोड़ रुपए से अधिक खर्च किए.

कोरोना ने संकट में चल रहे फार्मा सेक्टर के लिए संजीवनी का काम किया है. कोविड वैक्सीन बनाने वालीं तीन कंपनियां- फाइजर (pfizer), बायोनटेक और मॉडर्ना (moderna) हर सेकेंड 1,000 अमरीकी डॉलर यानी 75 हजार रुपए कमा रही हैं. हर रोज ये कंपनियां 9.35 करोड़ डॉलर (लगभग सात अरब रुपए) की कमाई कर रही हैं.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली . कोरोना महामारी एक तरफ जहां दुनिया के लिए विनाशकारी साबित हुई, वहीं टीका बनाने वाली कंपनियों के लिए वरदान बन गई. कोरोना ने संकट में चल रहे फार्मा सेक्टर के लिए संजीवनी का काम किया. खासतौर से कोरोना का टीका बनाने वाली कंपनियां मालामाल हो गई हैं. कोविड वैक्सीन बनाने वालीं तीन कंपनियां- फाइजर (pfizer), बायोनटेक और मॉडर्ना (moderna) हर सेकेंड 1,000 अमरीकी डॉलर यानी 75 हजार रुपए कमा रही हैं. हर रोज ये कंपनियां 9.35 करोड़ डॉलर (लगभग सात अरब रुपए) की कमाई कर रही हैं.

दुनिया में दो-तिहाई वैक्सीन इन्हीं चार कंपनियों- माडर्ना, फाइजर, बायोएनटेक और जानसन एंड जानसन ने बेची हैं. ओमिक्रॉन के नाम पर मार्डना और फाइजर ने करीब दस दिन में बूस्टर डोज से 70 हजार करोड़ कमाए. एस्ट्राजेनेका और जॉनसन एंड जॉनसन भी अब मुनाफे में वैक्सीन बेचने की योजना बना रही हैं.

घाटे वाली कंपनियां फायदे में आ गईं
कोरोना से पहले मॉडर्ना 3750 करोड़ रुपए के घाटे में चल रही थी जिसने 2021 में घाटा खत्म कर 700 करोड़ डॉलर का मुनाफा कमाया. इसी तरह बायोएनटेक जो 300 करोड़ के घाटे में थी एक साल बाद 61 हजार करोड़ के मुनाफे में आ गई. वहीं, फाइजर का मुनाफा 2020 में 800 करोड़ डॉलर था जो 2021 में 9 हजार करोड़ डॉलर हो गया. यानि मुनाफे में 124 प्रतिशत का उछाल.

यह भी पढ़ें- PM Shram Yogi MaanDhan Yojana: हर महीने मजदूरों को मिलेगी 3000 रु पेंशन, जानिए कहां और कैसे भरेंगे फॉर्म

लाइव मिंट की रिपोर्ट के अनुसार 2020-21 में सीरम इंस्टीट्यूट को 7499 रुपए के कारोबार पर 3,890 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ. चालू वित्तीय साल की पहली छमाही (सितंबर, 2021) में कंपनी की परिचालन आय उछाल के साथ 13,288 करोड़ रुपए तक पहुंच गई.

टॉप 20 कंपनियों में 18 फार्मा की
देश में 5000 करोड़ रुपए से अधिक की बिक्री कर मुनाफा कमाने वाली शीर्ष 20 कंपनियों में 18 कंपनियां फार्मा सेक्टर की हैं. सीरम के बाद मैकलेओड्स फार्मास्टूटिकल्स है, जिसका शुद्ध लाभ 28 फीसदी है. भारत की वैक्सीन कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट दुनिया की सबसे बड़ी टीका निर्माता कंपनी बन गई है, लेकिन फायदे में पीछे है.

एक वैक्सीन पर तीस गुना मुनाफा
गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार फाइजर का एक वैक्सीन में एक डॉलर खर्च होता है जबकि एक डोज 30 डॉलर में बेचती है. माडर्ना भी तीस गुने से ज्यादा में अपना टीका बेचती है. ऑक्सफेम के अनुसार दोनों कंपनियां 5 गुने से ज्यादा के मुनाफे पर अपनी वैक्सीन बेच रही हैं. अब दोनों कंपनियां टीके को 124 डॉलर में बेचने जा रही है.

यह भी पढ़ें- Post Office Scheme: डाक घर की इन योजनाओं में एफडी से ज्यादा मिलता है रिटर्न, जानें डिटेल

गरीब देशों को वैक्सीन नहीं
पीपल्स वैक्सीन अलायंस के अनुसार तीनों कंपनियां अमीर देशों को वैक्सीन बेचकर अरबों कमा रही हैं, लेकिन गरीब देशों को वैक्सीन देने में आफत आ रही है. गरीब देशों के महज दो फीसदी लोगों को ही पूरी खुराक मिली है. जबकि इन कंपनियों को अरबों डॉलर की फंडिंग, वैज्ञानिक और सरकारी लैब तक उपलब्ध कराई गई हैं.

फार्मा कंपनियों ने लॉबिंग पर अरबों रुपए खर्च किए
भारत और दक्षिण अफ्रीका समेत 100 देशों ने प्रस्ताव में कहा कि कोविड वैक्सीन को पेटेंट नियमों से मुक्त किया जाए ताकि सभी देश अपने हिसाब से वैक्सीन का उत्पादन कर सकें. जर्मनी, यूके, अमरीका समेत कई देशों की फार्मा कंपनियों ने नेताओं की लॉबिंग में 3 हजार 700 करोड़ रुपए से खर्च कर प्रस्ताव को मंजूर नहीं होने दिया.

मजबूर करने वाली शर्तों का लबादा
कंपनियों ने तमाम देशों से टीका के बदले ऐसी श्र्तें रखी जो किसी भी देश को नागवार गुजरी मगर कोई विकल्प नहीं था. पहली शर्त थी कि टीके से किसी की जान जाती है तो सरकार जिम्मेदार होगी और हर्जाना भी वही देगी. सरकारें टीका कंपनियों पर कोई कानूनी कार्यवाही नहीं कर पाएंगी. मॉडर्ना ने भारत से ऐसी ही शर्तें रखी थीं.
कोरोना वैक्सीन के बाद कंपनियों का मुनाफा

कंपनी    –       2020     –            2021
माडर्ना –         3750 करोड़        +700 करोड़ डॉलर
फाइजर-        800 करोड़           + 9000 करोड़ डॉलर
जानसन –       97000 करोड़       +120 हजार करोड़
बॉयोएनटेक – 300 करोड़           + 61 हजार करोड़
सीरम-          2251 करोड़          + 3,890 करोड़
स्रोत : पीवीए, लॉइव मिंट

Tags: Corona vaccination, COVID 19, Covid 19 vaccination, Covid Vaccination, Vaccination

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर