एक क्रेडिट कार्ड से दूसरे कार्ड का बिल भरना आपके के लिए कितना फायदेमंद, ऐसे समझें

देश के कई बैंक आजकल एक कार्ड से खर्च की गई रकम को अन्य कार्ड पर ट्रांसफर करने की अनुमति देते हैं. इसे बैंकिंग की भाषा में बैलेंस ट्रांसफर कहते हैं...

News18Hindi
Updated: August 12, 2018, 7:44 AM IST
एक क्रेडिट कार्ड से दूसरे कार्ड का बिल भरना आपके के लिए कितना फायदेमंद, ऐसे समझें
एक क्रेडिट कार्ड से दूसरे कार्ड का बिल भरना आपके के लिए कितना फायदेमंद, ऐसे समझें
News18Hindi
Updated: August 12, 2018, 7:44 AM IST
दिल्ली के पांडव नगर में रहने वाले अमित चौहान के पास एक बैंक का फोन आया. कस्टमर केयर की ओर से उन्हें बताया गया कि उनका बैंक क्रेडिट कार्ड पर फ्री बैलेंस ट्रांसफर की सुविधा दे रहा है. कार्ड ये फायदा अमित को बेहतर लगा और उन्होंने नए कार्ड के लिए हामी भर दी. ऐसे ही फोन अक्सर कई लोग के पास आते हैं, लेकिन बैलेंस ट्रांसफर की इस सुविधा के बारे में कम ही लोग जानते हैं. आइए जाने इसके बारे में...

बैलेंस ट्रांसफर क्या है- कई बैंक चुनिंदा क्रेडिट कार्ड पर बैलेंस ट्रांसफर सुविधा का ऑप्शन देते हैं. इसका मतलब है कि एक कार्ड से खर्च की गई रकम को अन्य कार्ड पर ट्रांसफर करने की अनुमति देना. इसके लिए जरूरी है कि दूसरे कार्ड की क्रेडिट लिमिट खर्च की गई राशि से अधिक हो. प्रीमियम कार्ड लेने वाले ग्राहकों को इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए किसी अतिरिक्त प्रक्रिया या डॉक्युमेंट की जरूरत नहीं होती. इस सुविधा के लिए सामान्य ग्राहकों को इन कागजात की जरूरत पड़ सकती है- क्रेडिट कार्ड की फोटोकॉपी, पिछले 3-6 महीने के क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट और पते का प्रमाण.

बैलेंस ट्रांसफर प्रोसेस- बैलेंस ट्रांसफर की यह प्रक्रिया बहुत तेज है. क्रेडिट कार्ड ग्राहक अपने बकाये का भुगतान करने के लिए पेमेंट के ड्यू डेट से दो दिन पहले बैलेंस ट्रांसफर कर सकते हैं. इस सुविधा में क्रेडिट कार्ड ग्राहकों को बकाये का भुगतान करने के लिए फिर से एक बफर पीरियड मिल जाता है जिसके लिए उन्हें कोई ब्याज नहीं चुकाना पड़ता.

कितना फायदेमंद- बैलेंस ट्रांसफर की यह सुविधा उन लोगों के लिए अच्छी है जो समय पर अपने क्रेडिट कार्ड का बिल नहीं चुका पाते और कर्ज के जाल में फंस जाते हैं. क्रेडिट कार्ड से रकम खर्च करने के बाद अगर आप समय पर उसे नहीं चुकाते तो आप ब्याज की चक्रवृद्धि दरों के चक्र में फंस जाते हैं. यह दर 3-4 फीसदी महीने तक हो सकती है. आपके क्रेडिट कार्ड के बकाये का भुगतान करने के अन्य तरीकों की तुलना में यह सुविधाजनक तरीका है.

न हों परेशान! ऐसे खरीदें सस्ते में पेट्रोल-डीजल, होगी 4800 रुपये की सालाना बचत


तीन जरूरी बातें
Loading...
(1)
 नए क्रेडिट कार्ड से उतना ही रकम बैलेंस ट्रांसफर कर सकते हैं जो उसकी क्रेडिट लिमिट के अंदर हो. बैलेंस ट्रांसफर के लिए प्रोसेसिंग फीस देनी होती हैं.

(2) कभी-कभी प्रोसेसिंग फीस अधिक हो सकती है, जिससे आपको बैलेंस ट्रांसफर और महंगा पड़ सकता है. क्रेडिट कार्ड के बकाये के भुगतान पर ब्याज दर नई खरीदारी पर लागू नहीं होते. ये लेन-देन क्रेडिट कार्ड देने वाले बैंक द्वारा घोषित ब्याज दरों के हिसाब से होते हैं.

(3) बैलेंस ट्रांसफर का विकल्प चुनने के बाद अगर आप उस रकम को चुकाने के लिए आसान मासिक किस्त (EMI) का विकल्प चुनते हैं तो ब्याज दर का ध्यान रखें. कहीं ऐसा ना हो कि आपको पहले की तुलना में अधिक ब्याज चुकाना पड़े.

ये भी पढ़ें
सैलरी नहीं पाने वाले लोग इस तरह आसानी से ले सकते हैं बैंक लोन
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर