Home /News /business /

Credit Card Bill: क्या होती है बिलिंग साइकल, ड्यू डेट और मिनिमम पेमेंट, यह कैसे होता है कैलकुलेट

Credit Card Bill: क्या होती है बिलिंग साइकल, ड्यू डेट और मिनिमम पेमेंट, यह कैसे होता है कैलकुलेट

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

अगर आप क्रेडिट कार्ड (Credit Card) का यूज करते हैं तो इससे जुड़ी कई बातों की जानकारी होनी चाहिए. सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण चीज जो आपको पता होनी चाहिए वह है बिलिंग साइकल (Billing Cycle). अगर आप एक से ज्यादा क्रेडिट कार्ड होल्डर्स हैं, तो बिलिंग साइकल पर अत्यधिक ध्यान देने की आवश्यकता है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. भारत में डिजिटल पेमेंट (Digital Payment) का चलन बढ़ता जा रहा है और कोरोना महामारी के समय में यह और महत्वपूर्ण हो गया है. देश के बड़े शहरों के साथ-साथ छोटे शहरों में भी क्रेडिट कार्ड (Credit Card) का चलन बढ़ा है. रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में लगभग 6.4 करोड़ क्रेडिट कार्ड प्रचलन में हैं.

    अगर आप क्रेडिट कार्ड (Credit Card) का यूज करते हैं तो इससे जुड़ी कई बातों की जानकारी होनी चाहिए. सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण चीज जो आपको पता होनी चाहिए वह है बिलिंग साइकल (Billing Cycle). अगर आप एक से ज्यादा क्रेडिट कार्ड होल्डर्स हैं, तो बिलिंग साइकल पर अत्यधिक ध्यान देने की आवश्यकता है.

    क्या होती है क्रेडिट कार्ड की बिलिंग साइकल
    क्रेडिट कार्ड बिलिंग साइकिल को स्टेटमेंट साइकिल के नाम से भी जाना जाता है. बिलिंग साइकिल उसी दिन से शुरू हो जाता है जब से क्रेडिट कार्ड एक्टिवेट होता है. बिलिंग साइकिल की अवधि 28 से 32 दिन की हो सकती है.

    ये भी पढ़ें- तेल की बढ़ती कीमतों से हैं परेशान, इस Credit Card से फ्री में मिलेगा 71 लीटर पेट्रोल-डीजल

    वहीं, क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट या बिलिंग स्टेटमेंट से इस बात की जानकारी मिलती है कि आपने बिलिंग साइकिल या बिलिंग पीरियड में क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल कैसे किया है. स्टेटमेंट में आपके बिलिंग साइकिल के दौरान किए गए ट्रांजैक्शन, मिनिमम अमाउंट ड्यू, अमाउंट ड्यू, ड्यू डेट आदि की जानकारी होती है.

    पेमेंट ड्यू डेट-
    ये क्रेडिट कार्ड बिल के पेमेंट की आखिरी तारीख होती है. इस तारीख के बाद किए गए पेमेंट पर दो तरह के चार्ज लगते हैं. पहला, आपको बकाया राशि पर ब्याज का पेमेंट करना होगा और लेट पेमेंट फीस देनी पड़ती है.

    मिनिमम अमाउंट ड्यू-
    यह बकाया राशि का प्रतिशत होता है (लगभग 5 फीसदी) या सबसे कम राशि होती है (कुछ सौ रुपये) जिसे लेट फीस को बचाने के लिए देना होता है.

    टोटल आउटस्टैंडिंग-
    आपको प्रति महीने कुल बकाया राशि का भुगतान करना चाहिए, जिससे कोई अतिरिक्त चार्ज नहीं लगे. कुल राशि में सभी ईएमआई शामिल होती है, जिसके साथ बिलिंग साइकिल में लगे चार्ज होते हैं.

    क्रेडिट लिमिट-
    क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट में आपको तीन तरह की लिमिट मिलेंगी कुल क्रेडिट लिमिट, उपलब्ध क्रेडिट लिमिट और कैश लिमिट.

    ट्रांजैक्शन डिटेल्स-
    इस सेक्शन में आपके क्रेडिट कार्ड अकाउंट में कितना पैसा आया और कितना खर्च हुआ इसकी पूरी जानकारी होती है.

    रिवॉर्ड प्वाइंट-
    क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट में आपको अब तक जमा किए गए रिवॉर्ड प्वाइंट्स के साथ उसका स्टेटस भी दिखेगा. यहां आपको एक टेबल दिखेगा जिसमें पिछली साइकिल से आए रिवॉर्ड प्वाइंट्स की संख्या, वर्तमान बिलिंग साइकिल में कमाए गए प्वाइंट्स और खत्म हो चुके प्वाइंट्स की जानकारी होती है.

    Tags: Business news in hindi, Credit card, Credit card limit

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर