पैसे की आ गई है जरूरत, जानें शॉर्ट टर्म लोन और क्रेडिट कार्ड में कौन सा है बेहतर ऑप्शन

क्रेडिट कार्ड

मनीटैप के को-फाउंडर अनुज काकर ने कहा कि क्रेडिट कार्ड कभी-कभी खतरनाक हो सकते हैं, खासकर यदि आप समय पर अपने बिल को चुकाने में विफल रहते हैं या आप केवल न्यूनतम राशि का पेमेंट करते हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. आदमी के जीवन में आपातकालीन परिस्थितियां कभी भी घट सकती हैं. कई बार अचानक पैसों की जरूरत आ जाती है. ऐसे में कोई आदमी क्रेडिट कार्ड (Credit Card) या फिर शॉर्ट टर्म लोन (Short Term Loan) के बारे में सोचता है.

    मनीटैप के को-फाउंडर अनुज काकर ने कहा कि क्रेडिट कार्ड कभी-कभी खतरनाक हो सकते हैं, खासकर यदि आप समय पर अपने बिल को चुकाने में विफल रहते हैं या आप केवल न्यूनतम राशि का पेमेंट करते हैं, जिसके कारण अनपेड राशि अगले महीने के लिए भारी ब्याज के साथ देना पड़ा जाता है. इसके अलावा, क्रेडिट कार्ड धोखाधड़ी और चोरी का भी खतरा है. दूसरी ओर, जब शॉर्ट टर्म पर्सनल लोन की बात आती है, तो आप क्रेडिट कार्ड की तुलना में ज्यादा लोन प्राप्त कर सकते हैं. लेकिन वहां एक पेंच है. इन ऋणों पर ब्याज दरें केवल तभी कम होती हैं यदि आपने एक अच्छा क्रेडिट स्कोर बनाए रखा है. अन्य कमियां भी हैं, जैसे कि प्रीपेमेंट पेनल्टी आदि.''

    ये भी पढ़ें- Freecharge ऐप के जरिए करते हैं ज्यादा लेनदेन, इस क्रेडिट कार्ड के जरिए हर ट्रांजैक्शन पर मिलेगा 5 फीसदी कैशबैक

    क्रेडिट कार्ड के फायदे
    छोटे खर्चों के लिए बेहतर है जो ऑनलाइन लेनदेन के माध्यम से पेमेंट किया जा सकता है. आमतौर पर, अधिकांश क्रेडिट कार्ड 30-50 दिन के ब्याज-फ्री बिलिंग पीरियड के साथ आते हैं. यह एक रिवॉल्विंग लाइन है, इसलिए इसे बार-बार इस्तेमाल किया जा सकता है.  ज्यादातर क्रेडिट कार्ड लेनदेन पर रिवॉर्ड भी देते हैं, जिनका इस्तेमाल कैशबैक, गिफ्ट कूपन आदि के लिए किया जा सकता है. किसी भी अनियोजित खर्च के लिए क्रेडिट कार्ड मदद करता है. एक अच्छे रीपेमेंट ट्रैक के साथ कार्ड की लिमिट बढ़ जाती हैं जो भविष्य के लिए फायदेमंद है.

    क्रेडिट कार्ड के नुकसान
    अधिकांश क्रेडिट कार्ड कैश निकासी की अनुमति नहीं देते हैं या इसके लिए बहुत ज्यादा फीस लेते हैं. क्रेडिट कार्ड के जरिए खर्च को नियंत्रित करने में कठिनाई होती है और जिससे भविष्य में रीपेमेंट में दिक्कत  हो सकती है. क्रेडिट कार्ड पर आम तौर पर 36-42 फीसदी ब्याज दर बहुत ज्यादा है और अगर आपका बकाया समय पर पेमेंट नहीं किया जाता है, तो यह बहुत महंगा साबित हो सकता है.

    ये भी पढ़ें- EPFO: नौकरी छोड़ने के बाद PF अकाउंट पर कब तक मिलता है ब्‍याज- जानिए

    शॉर्ट टर्म लोन के फायदे
    शॉर्ट टर्म लोन उन खर्चों के लिए बेहतर है जिन्हें नकद या एकमुश्त पेमेंट करने की आवश्यकता है. उधार ली गई राशि और चुकौती की अवधि सीमित है, इसलिए यह अनियोजित खर्च को नियंत्रित करता है. आमतौर पर, आप क्रेडिट कार्ड लिमिट की तुलना में शॉर्ट टर्म लोन में एक बड़ी राशि प्राप्त कर सकते हैं. शॉर्ट टर्म लोन की रीपेमेंट पेमेंट की अवधि 3 से 12 महीने होती है. शॉर्ट टर्म लोन की तुलना में क्रेडिट कार्ड बिल में ज्यादा ब्याज लिए जाते हैं.

    शॉर्ट टर्म लोन के नुकसान
    90 दिन से कम अवधि का शॉर्ट टर्म लोन से बचना चाहिए. यह आपको कर्ज के जाल में फंसा सकता है. शॉर्ट टर्म लोन एक बार का सॉल्यूशन है यानी हर बार जब आपके पास एक नए फंड की आवश्यकता होती है, तो आपको लोन के लिए फिर से आवेदन करना होगा और फिर से अर्हता प्राप्त करनी होगी.