होम /न्यूज /व्यवसाय /मंदी के बादल: क्‍या डूब जाएगा दुनिया के बड़े बैंकों में शुमार क्रेडिट सुइस? रिकॉर्ड हाई से 95% टूटा स्‍टॉक

मंदी के बादल: क्‍या डूब जाएगा दुनिया के बड़े बैंकों में शुमार क्रेडिट सुइस? रिकॉर्ड हाई से 95% टूटा स्‍टॉक

27 अक्टूबर को क्रेडिट सुइस आपातकालीन स्ट्रैटजी पर चर्चा करेगी.

27 अक्टूबर को क्रेडिट सुइस आपातकालीन स्ट्रैटजी पर चर्चा करेगी.

दुनिया में मंदी के गहराते संकट के बीच अब एक और बुरी खबर आ रही है. दुनिया के बड़े बैंकों में शुमार क्रेडिट सुइस (Credit S ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

दुनिया के बड़े बैंकों में शुमार क्रेडिट सुइस (Credit Suisse) की वित्‍तीय हालत काफी खराब है.
कंपनी का स्‍टॉक अपने रिकॉर्ड हाई से अब तक 95 फीसदी गिर चुका है.
बहुत से विश्‍लेषकों का मानना है कि क्रेडिट सुइस के डूबने की संभावना बहुत कम है.

नई दिल्‍ली. स्विटजरलैंड की दिग्गज एमएनसी फाइनेंशियल सर्विस कंपनी क्रेडिट सुइस (Credit Suisse) के शेयर सोमवार को 12 फीसदी टूटकर रिकॉर्ड निचले स्तर पर आ गए. सोशल साइट्स पर आशंकाएं जताई जा रही हैं कि दुनिया के सबसे बड़े बैंकों में शुमार क्रेडिट सुइस (Credit Suisse) डूब सकता है. कंपनी की वित्‍तीय स्थिति के बारे में चल रही नकारात्‍मक खबरों की वजह से निवेशकों के हौसले पस्‍त हो रहे हैं.

वहीं, आशंकाएं तो यह भी जताई जा रही हैं कि क्रेडिट सुइस लेमैन ब्रदर्स की राह पर है. लेमैन ब्रदर्स बैंक वर्ष 2008 में दिवालिया हो गया था. इससे पूरी दुनिया हिल गई थी. जानकारों का कहना है कि अगर क्रेडिट सुइस के साथ भी कुछ वैसा हुआ तो इसका असर दुनियाभर पर होगा. हालांकि, बहुत से विश्‍लेषकों का मानना है कि क्रेडिट सुइस के डूबने के चांस कम है. सिटी ग्रुप के एंड्रूयू कूंब्स का कहना है कि अब वैसे हालात नहीं हैं, जैसे 2008 में थे.

ये भी पढ़ें- Elon Musk की संपति में आई 122 अरब रुपये से ज्‍यादा की गिरावट, जानिए क्या रही वजह

यह है डर का कारण?
मनीकंट्रोल की एक रिपोर्ट के अनुसार, क्रेडिट सुइस ने पिछले साल Archegos Capital Management में निवेश किया था. यह निवेश ही उसके लिए जी का जंजाल बन गया है. इससे क्रेडिट सुइस को भारी घाटा हो रहा है. सीडीएस (क्रेडिट डिफॉल्ट स्वैप्स) की बढ़ती लागत के चलते सोमवार को शेयरों में भारी बिकवाली शुरू हो गई. सीडीएस के जरिए बैंकों की सेहत मापी जाती है. अगर इसकी बिक्री अधिक होती है तो इससे आशंका बनती है कि बैंक डूबने वाला है. इसकी खरीदारी बॉन्‍ड में लगी रकम के डूबने की भरपाई के लिए होती है.

ये भी पढ़ें- CNG PNG Price Hike: सीएनजी और पीएनजी के दाम बढ़े, नए रेट आज से लागू, चेक करें क्या है कीमत?

डगमगा रहा है निवेशकों का भरोसा
कंपनी लगातार निवेशकों को यह भरोसा दिलाने की कोशिश कर रही है कि उसके पास एक योजना है, जिससे वह अपनी स्थिति सुधार सकती है. लेकिन, फिलहाल निवेशक इस पर भरोसा नहीं कर रहे हैं. 27 अक्टूबर को क्रेडिट सुइस आपातकालीन स्ट्रैटजी पर चर्चा करेगी. एनालिस्ट्स के मुताबिक, इसकी लागत 400 करोड़ डॉलर हो सकती है. वहीं, निवेशकों को सबसे बड़ी शंका यह है कि बैंक रिकवरी के लिए जो योजना तैयार कर रहा है, उसके लिए फंडिंग कहां से आएगी.

दीक्षित जोशी के सामने फिर बड़ी चुनौती
क्रेडिट सुइस ग्रुप एजी के मुख्य वित्तीय अधिकारी दीक्षित जोशी के सामने काफी कठिन चुनौतियां हैं. लेकिन, ऐसा पहली बार नहीं है कि उनके सामने कठिन परिस्थितियां आई हैं. वे डॉयचे बैंक (Deutsche Bank AG) में भी ऐसी स्थिति का सामना कर चुके हैं. कुछ एनालिस्ट्स के मुताबिक, वर्ष 2016 और 2017 में जर्मनी के दिग्गज डॉयचे बैंक के सीडीएस की बिक्री में उछाल आया था. जोशी तब डॉयचे बैंक में थे और उन्‍होंने इस संकट को सफलतापूर्वक निपटाया था.

Tags: Banking Sector, Business news in hindi, Recession, Stock market

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें