Home /News /business /

crude oil at 114 dollar in global market petrol diesel will go rise prdm

कच्‍चा तेल 114 डॉलर के पार, फिर बढ़ सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम, नेचुरल गैस भी 14 साल में सबसे महंगी

कंपनियों ने एक महीने में 10.20 रुपये पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाए हैं.

कंपनियों ने एक महीने में 10.20 रुपये पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाए हैं.

रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध करीब दो महीने बाद भी खत्‍म होता नहीं दिख रहा है. यूरोपीय संघ ने रूस पर नए तरीके प्रतिबंध लगा दिए जिससे सप्‍लाई पर और असर पड़ा है. तेल उत्‍पादक देश भी लक्ष्‍य के अनुरूप सप्‍लाई नहीं कर पा रहे. इससे क्रूड, गैस सहित तमाम कमोडिटी महंगी होती जा रही है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. ग्‍लोबल मार्केट में क्रूड ऑयल (कच्‍चा तेल) ने एक बार फिर छलांग मारनी शुरू कर दी है. यूरोपीय संघ ने रूस पर नए प्रतिबंध लगा दिए जिससे क्रूड की सप्‍लाई पर असर पड़ा है. दूसरी ओर, कोरोना संक्रमण कम होने से चीन के शंघाई शहर में औद्योगिक गतिविधियां दोबारा शुरू होने की उम्‍मीद है, जिससे मांग और बढ़ जाएगी. क्रूड ही नहीं नेचुरल गैस की कीमतें भी आसमान पर जा रही हैं. ग्‍लोबल मार्केट में इसका रेट अभी 14 साल में सबसे ज्‍यादा है.

OPEC के कम उत्‍पादन से बढ़ीं मुश्किलें
ब्रेंट क्रूड का दाम एक बार फिर ऊपर चढ़ना शुरू हो गया है. सोमवार को ब्रेंट क्रूड 111 डॉलर प्रति बैरल के भाव था, जो आज बढ़कर 114 डॉलर पहुंच गया. तेल उत्‍पादक देशों के संगठन OPEC ने तय लक्ष्‍य से उत्‍पादन को जारी रखा है, जबकि यूरोपीय संघ की ओर से रूस पर नए प्रतिबंध लागू करने से सप्‍लाई और बाधित हो गई. लीबिया में भी कच्‍चे तेल का उत्‍पादन घट गया है, जबकि चीन दोबारा अपने बाजार खोल रहा जिससे खपत और बढ़ने का अनुमान है. ऐसे में पूरी गुंजाइश है घरेलू बाजार में भी पेट्रोल-डीजल के दाम दोबारा बढ़ने शुरू हो सकते हैं.

यह भी पढ़ें – इस शहर में फिर बढ़े CNG के दाम, अब उपभोक्‍ताओं को 115 रुपये किलो खरीदनी होगी गैस

सीएनजी-पीएनजी भी और रुलाएगी
ग्‍लोबल मार्केट में प्राकृतिक गैस के दाम 8 डॉलर तक पहुंच गए हैं, जो 14 साल का सबसे ऊंचा भाव है. प्राकृतिक गैस की कीमतों में लगातार दूसरे महीने भी तेजी जारी है. अप्रैल में अब तक इसका भाव 38 फीसदी चढ़ा है. दूसरी ओर, भंडार में कमी आ रही. अमेरिका में नेचुरल गैस का भंडार तीन साल के निचले स्‍तर पर चला गया है, जबकि निर्यात 13 फीसदी बढ़ा है.

गेहूं सहित अन्‍य कमोडिटी में भी उछाल
एग्री कमोडिटी के भाव देखें तो गेहूं की कीमतें चार सप्‍ताह की ऊंचाई पर पहुंच गई हैं. ग्‍लोबल मार्केट में गेहूं का भाव 1,130 डॉलर प्रति टन पहुंच गया है. रूस-यूक्रेन युद्ध की वजह से अप्रैल में गेहूं 12.50 फीसदी महंगा हो चुका है. मक्‍के ने तो 10 साल की ऊंचाई छू लिया और उसका भाव 820 डॉलर के करीब पहुंच गया है.

यह भी पढ़ें – झटका! क्‍या शुरू हो गया है महंगे कर्ज का दौर? SBI-AXIS के बाद अन्‍य बैंक भी बढ़ा सकते हैं अपनी ब्‍याज दरें

युद्ध संकट की वजह से काला सागर के जरिये निर्यात पूरी तरह रुक गया है, जबकि सप्‍लाई घटने और मांग बढ़ने से कीमतें लगातार ऊपर जा रही हैं. एक्‍सपर्ट का कहना है कि इस बार उत्‍तरी अमेरिका में सूखा पड़ने की आशंका है, जिससे एग्री कमोडिटी के दाम और बढ़ रहे हैं.

Tags: Crude oil prices, Diesel price, Petrol prices to surge

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर