लाइव टीवी

कांग्रेस की मांग- सरकार 60 रुपये करे पेट्रोल का भाव, जानें कैसे तय होती हैं तेल की कीमतें?

News18Hindi
Updated: March 11, 2020, 4:49 PM IST
कांग्रेस की मांग- सरकार 60 रुपये करे पेट्रोल का भाव, जानें कैसे तय होती हैं तेल की कीमतें?
कच्चा तेल 35% टूटा

सऊदी अरब द्वारा कीमतें घटाने के बाद अंतर्राष्ट्रीय मार्केट में कच्चा तेल 35 फीसदी तक टूट गया. आपके जेहन में यह सवाल आता होगा कि कच्चे तेल में भारी गिरावट के बाद भी आम लोगों को उतना फायदा नहीं मिला. आखिर में पेट्रोल-डीजल की कीमतें कैसे तय होती हैं?

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 11, 2020, 4:49 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को कहा कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल (Crude Oil) की कीमत में 35 फीसदी की कमी आई है. ऐसे में केंद्र सरकार को पेट्रोल का दाम 60 रुपये प्रति लीटर से कम करना चाहिए. उन्होंने कहा कि पेट्रोलियम उत्पादों की कीमत में कमी करने से सुस्त पड़ी अर्थव्यवस्था को गति देने में मदद मिलेगी. दुनिया के सबसे बड़ा तेल निर्यातक सऊदी अरब (Saudi Arabia) ने रूस को सबक सिखाने के लिए कच्चे तेल की कीमतें घटा दीं. सऊदी अरब द्वारा कीमतें घटाने के बाद अंतर्राष्ट्रीय मार्केट में कच्चा तेल 35 फीसदी तक टूट गया. आपके जेहन में यह सवाल आता होगा कि कच्चे तेल में भारी गिरावट के बाद भी आम लोगों को उतना फायदा नहीं मिला. आखिर में पेट्रोल-डीजल की कीमतें कैसे तय होती हैं? आइए जानते हैं इसके बारे में सबकुछ...

35 फीसदी टूटा कच्चा तेल
बता दें कि दुनिया के सबसे बड़ा तेल निर्यातक सऊदी अरब ने रूस के खिलाफ प्राइस वार छेड़ दिया है. रूस को शुक्रवार को पेट्रोलियम निर्यातक देशों (OPEC) के संगठन द्वारा प्रस्तावित उत्पादन में कटौती करने से मना कर दिया था. हालांकि, ओपेक और अन्य उत्पादकों ने कोरोनो वायरस प्रकोप से आर्थिक गिरावट के कारण गिरती कीमतों को स्थिर करने के लिए कटौती का समर्थन किया था. रूस को सबक सिखाने के लिए सऊदी अरब ने अप्रैल के लिए अपने आधिकारिक बिक्री कीम में कटौती करके सभी कच्चे ग्रेडों की कीमत 6 से 8 डॉलर प्रति बैरल घटा दी है. इसके बाद कच्चा तेल सोमवार को 30 फीसदी तक टूट गया था. अमेरिकी वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (WTI) क्रूड का भाव 33 डॉलर प्रति बैरल के पास आ गया, जबकि ब्रेंट क्रूड 36 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया.

ये भी पढ़ें: फ्री में बदलवाएं Aadhaar Card में अपनी जरूरी जानकारी, यहां मिल रही है सुविधा, आप भी उठा सकते हैं फायदा



क्रूड बास्केट का दाम


भारत अपनी जरूरत का 83 फीसदी कच्चा तेल आयात करता है. भारत के क्रूड बास्केट की कीमत फिलहाल 34.52 डॉलर प्रति बैरल है. (एक बैरल 159 लीटर के बराबर) है. यानी भारत को मौजूदा दाम पर एक क्रूड बास्केट के लिए 2552.56 रुपये खर्च करने होते हैं. ऐसे में क्रूड अगर 35 फीसदी सस्ता हो गया तो क्रूड बास्केट के भी जल्द 35% फीसदी तक सस्ता होने की गुंजाइश है. यानी अगला क्रूड बास्केट करीब 1,658.6 रुपये का हो सकता है. पेट्रोलियम प्लैनिंग एंड ऐनालिसस सेल के मुताबिक, दिसंबर 2019 में क्रूड बास्केट की औसत लागत 65.52 डॉलर थी.

कैसे तय होतीं हैं तेल की कीमतें?
तेल की कीमतें दो मुख्य चीजों पर निर्भर करतीं हैं. एक अंतर्राष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल की कीमत और दूसरा सरकारी टैक्स. क्रूड ऑयल के रेट पर सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है, मगर टैक्स सरकार अपने स्तर से घटा-बढ़ा सकती है. यानी जरूरत पड़ने पर सरकार टैक्स कम कर बढ़े दाम से कुछ हद तक जनता को फायदा पहुंचा सकती है. पहले देश में तेल कंपनियां खुद दाम नहीं तय करतीं थीं, इसका फैसला सरकार के स्तर से होता था. मगर जून 2017 से सरकार ने पेट्रोल के दाम को लेकर अपना नियंत्रण हटा लिया गया. कहा गया कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रतिदिन उतार-चढ़ाव के हिसाब से कीमतें तय होंगी.

ये भी पढ़ें: भारत की इन 3 गुफाओं में सरकार ने भरा हुआ है लाखों टन Crude Oil, जानें इससे जुड़ी राज़ की बातें

अमूमन जिस रेट पर हम तेल खरीदते हैं, उसमें करीब 50 फीसदी से ज्यादा टैक्स होता है. इसमें करीब 35 फीसदी एक्साइज ड्यूटी और 15 फीसदी राज्यो का वैट या सेल्स टैक्स. 2 फीसदी कस्टम ड्यूटी होती है, वहीं डीलर कमीशन भी जुड़ता है. तेल के बेस प्राइस में कच्चे तेल की कीमत, उसे शोधित करने वाली रिफाइनरीज का खर्च शामिल होता है. हर राज्य में पेट्रोल और डीजल के अलग-अलग रेट हैं, वजह कि राज्यों में बिक्री कर या वैट की दर 17 से 37 फीसदी तक है. इसके अलावा राज्य सरकारें पेट्रोल-डीजल पर सेस भी लगाती हैं.



ऐसे समझें-
सरकारी तेल कंपनी इंडियन ऑयल की वेबसाइट पर दिल्ली में 1 मार्च, 2020 को एक लीटर पेट्रोल का दाम 71.71 रुपये था. इसका बेस प्राइस 32.61 रुपये प्रति लीटर है और फ्रेट 0.32 रुपये प्रति लीटर है. इस हिसाब से तेल कंपनी डीलर को एक लीटर पेट्रोल 32.93 रुपये में बेचती है. इसमें एक्साइज ड्यूटी और वैट शामिल नहीं हैं. इसके बाद इसमें 19.98 रुपये एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन (औसत) 3.55 रुपये प्रति लीटर, वैट (डीलर कमीशन पर वैट शामिल) 15.25 रुपये जोड़कर एक लीटर पेट्रोल का दाम 71.71 रुपये बैठता है.

ये भी पढ़ें: SBI अलर्ट! बैंक ने होम लोन की ब्याज दरें घटाई, जानिए आप पर होगा क्या असर?
First published: March 11, 2020, 4:47 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading