कच्चे तेल का दाम लुढ़का, अमेरिका-चीन तनाव और कोरोना के बढ़ते मामले हैं वजह

कच्चे तेल का दाम लुढ़का, अमेरिका-चीन तनाव और कोरोना के बढ़ते मामले हैं वजह
सोमवार को कच्चे तेल के दाम में गिरावट दर्ज की गई.

दुनियाभर में कोविड-19 के बढ़ते प्रकोप और अमेरिका-चीन तनाव (US-China Tension) के बीच कच्चे तेल के दाम (Crude Oil Price) में गिरावट दर्ज की जा रहा है. निवेशक आने वाले समय मेंअनिश्चितता को देखते हुए सुरक्षित निवेश विकल्प को वरीयता दे रहे हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. वैश्विक बाजार में सोमवार को कच्चे तेल (Crude Oil) की कीमतों में गिरावट देखने को मिली. दुनियाभर में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामले और अमेरिका-चीन के बीच तनाव (US-China Tension) के बीच निवेशक अब सुरक्षित निवेश विकल्प को वरीयता दे रहे है. यही कारण है कि एक बार फिर कच्चे तेल के दाम में गिरावट आने लगी है. सोमवार को ब्रेंट क्रूड (Brent Crude Oil) का भाव 0.5 फीसदी लुढ़ककर 43.15 डॉलर प्रति बैरल और अमेरिकी वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (WTI)  0.4 फीसदी लुढ़ककर 41.15 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार करते नजर आया. कच्चे तेल में इस गिरावट के बाद एशियाई फाइनेंशियल मार्केट (Asian Financial Market) में भी इसका असर देखने को मिला.

उत्पादन में कटौती के बार बढ़े थे दाम
दरअसल, दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं (Largest Economies) के बीच तनाव बढ़ गया है. बीते दिनों की ह्यूस्टन और चेंगदु में कॉसुलेट्स (Consulates) बंद किए गए है. इस बीच पूरी दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 1.6 करोड़ के पार जा चुकी है. हालांकि, ब्रेंट क्रूड के भाव में इसके पहले लगातार 4 दिनों तक तेजी रही थी. वहीं WTI के भाव में भी इजाफा देखने को मिला था. ओपेक (OPEC) व उसके सहयोगी देशों द्वारा कच्चे तेल के उत्पादन में कटौती के फैसले के बाद कीमतों में तेजी देखने को मिली थी. अमेरिका में भी क्रूड आउटपुट में गिरावट आई है.

यह भी पढ़ें: यहां पैसा लगाने पर मिलेगा FD से ज्यादा मुनाफा, रोज 100 रु बचाकर बनाएं 20 लाख
लॉकडाउन के बाद कच्चे तेल की मांग में सुधार


कोविड-19 के मद्देनजर दुनियाभर में लॉकडाउन की वजह कच्चे तेल के दाम रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गए थे. लेकिन, अब लॉकडाउन खत्म होने के बाद इंडस्ट्रीज समेत अन्य आर्थिक गतिविधियां (Economic Activities) एक बार फिर से शुरू हुई है. इसके बाद कच्चे तेल की मांग में सुधार हुआ है. हालांकि, कुछ जगहों पर एक बार फिर लॉकडाउन लगाया गया है. इस वजह से खपत कुछ खास नहीं दिखाई दे रही है.

टेक्सास में आने वाले तूफान पर भी नजर
टेक्सास हम हान्ना तूफान (Hanna Storm) पर भी निवेशकों की नजर है. क्रूड आयल प्रोड्यूसर्स और रिफाइनर्स ने बीते शुक्रवार को कहा था कि इस तूफान से उनके संचालन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. इस बीच कच्चे तेल के दाम में रिकवरी के बाद से अब शीर्ष उत्पादक देश अपना आउटपुट बढ़ाने पर भी विचार कर रहे हैं. मार्च के बाद पहली बार अमेरिका में ऑयल रिग्स (तेल का कुआं) की संख्या बढ़ा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading