ट्रंप की इस चाल से भारत में बढ़ेगी महंगाई, महंगी होंगी पेट्रोल-डीजल सहित ये चीजें

डोनाल्ड ट्रंप
डोनाल्ड ट्रंप

मई महीने में आपकी जेब पर बोझ बढ़ सकता है, क्योंकि अगले महीने से पेट्रोल महंगा हो सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 23, 2019, 12:06 PM IST
  • Share this:
ईरान से भारत समेत कई देशों को मिल रही सस्ता कच्चा तेल खरीदने की छूट जल्द खत्म हो सकती. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसे आगे बढ़ाने से इनकार कर दिया है. अगर ऐसा होता है तो भारत में पेट्रोल-डीज़ल के दाम फिर से बढ़ने लगेंगे. एक्सपर्ट्स का कहना है कि अमेरिका की ओर से छूट को आगे नहीं बढ़ाने के संकेत मिलने के बाद अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल के दाम 2 फीसदी से ज्यादा बढ़ गए है. लिहाजा अगले कुछ महीनों में पेट्रोल-डीज़ल के दाम 2-3 रुपये तक बढ़ने की आशंका लगाई जा रही है.

क्यों बढ़ेंगे पेट्रोल-डीज़ल के दाम?
देश की सरकारी ऑयल मार्केटिंग कंपनियां कच्चा तेल अंतर्राष्ट्रीय दामों पर खरीदकर लाती है. इसके बाद ये कंपनियां रिफाइनरी के जरिए पेट्रोल-डीज़ल, केरोसीन, एटीएफ निकालती है. मतलब साफ है कि अगर कच्चा तेल महंगा होगा तो देश में पेट्रोल के दाम भी बढ़ना लगभग तय है. (ये भी पढ़ें: भारत ने लगाई पाकिस्तान के साथ कारोबार करने पर रोक, इस फैसले से बौखलाया पाकिस्तान)


पेट्रोल-डीजल के रेट्स इन आधार पर होते हैं तय


एनर्जी एक्सपर्ट्स नरेंद्र तनेजा ने न्यूज18 हिंदी को बताया कि ऑयल मार्केटिंग कंपनियां तीन आधार पर पेट्रोल और डीजल के रेट्स तय करती हैं. पहला इंटरनेशनल मार्केट में क्रूड (कच्चे तेल का भाव). दूसरा देश में इंपोर्ट (आयात) करते वक्त भारतीय रुपये की डॉलर के मुकाबले कीमत. इसके अलावा तीसरा आधार इंटरनेशनल मार्केट में पेट्रोल-डीजल के क्या भाव हैं.

2 मई के बाद US बंद कर सकता है छूट
अमेरिकी अख़बार वॉशिंगटन पोस्ट में छपी ख़बर के मुताबिक अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा टीम से साफ कह दिया है कि वे ईरान से तेल आयात कर रहे देशों को दी गई छूट ख़त्म करना चाहते हैं. इसके बाद अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने आगामी योजना का ख़ाका बनाना भी शुरू कर दिया है. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो जल्द घोषणा करने वाले हैं कि ईरान से तेल आयात कर रहे किसी भी देश को आगामी दो मई से प्रतिबंधों में राहत नहीं दी जा सकेगी.

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार की सफलता: 35.39 करोड़ जनधन खाते खुले, खाताधारकों मुफ्त में मिलती हैं ये सुविधाएं

अभी भारत ईरान से सस्ते में तेल खरीदता है
अमेरिकी प्रतिबंधों के बावजूद भारत ईरान को खाद्यान्न, दवाओं और चिकित्सा उपकरणों का निर्यात करता था. इसके बदले तेल के भुगतान की आधी राशि निर्यात से मिले रुपये से की जाती थी. भारत को अमेरिका से यह छूट आयात घटाने तथा एस्क्रो भुगतान के बाद मिली है. इस साल भारत का ईरान से कच्चे तेल का औसत आयात 5,60,000 बैरल प्रतिदिन रहा है.

ट्रंप ने लगाया ईरान पर प्रतिबंध
ईरान की ओर से परमाणु कार्यक्रम जारी रखने की वज़ह से अमेरिका ने बीते साल 2015 में उसके साथ हुआ समझौता तोड़ दिया था. फिर नवंबर में उसने ईरान पर आर्थिक प्रतिबंध भी लागू कर दिए. साथ ही उसने दुनिया के सभी देशों से ईरान से कच्चे तेल का आयात बंद करने का निर्देश दिया था और धमकी दी थी कि ऐसा न करने वाले देशों को भी अमेरिकी प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है.

ये भी पढ़ें: कुछ ही घंटों में सीधे बैंक खाते में पहुंचेगा आपके PF का पैसा! जानें EPFO का नया प्लान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज