Exclusive: 35 साल के निश्चल ने महीने भर में बना दिया क्रिप्टो एक्सचेंज, अब है मंथली ट्रेडिंग वाॅल्यूम 35000 करोड़

क्रिप्टो एक्सचेंज WazirX के फाउंडर और सीईओ निश्चल शेट्टी (Nischal Shetty).

क्रिप्टो एक्सचेंज WazirX के फाउंडर और सीईओ निश्चल शेट्टी (Nischal Shetty).

मुंबई के रहने वाले 35 साल के निश्चल शेट्टी ने कभी नहीं सोचा था कि उनका ये क्रिप्टो स्टार्टअप (Crypto startup WazirX) इतनी तेजी से आगे बढ़ेगा. इस साल अकेले मई महीने में वजीर एक्स पर 10 लाख नए यूजर्स जुड़ गए हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज वजीर एक्स (WazirX) आज खूब चर्चा में है. करीब दो साल पहले तक इसके बारे में कोई नहीं जानता था, लेकिन आज इसका नाम भारत के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज (Crypto Exchange) में शुमार है. मुंबई के रहने वाले 35 साल के निश्चल शेट्टी ने कभी नहीं सोचा था कि उनका ये क्रिप्टो स्टार्टअप (Crypto startup WazirX) इतनी तेजी से आगे बढ़ेगा. WazirX के को-फाउंडर और सीईओ निश्चल शेट्टी (Nischal Shetty ) ने साल 2018 में इसकी शुरुआत की थी. तब से लेकर साल 2020 तक इस पर 10 लाख यूजर्स थे और अब इस साल अकेले मई महीने में 10 लाख नए यूजर्स जुड़ गए हैं. वर्तमान में वजीर एक्स पर ट्रेडिंग वाल्यूम 35,000 करोड़ प्रति महीने पर पहुंच गया है.

क्रिप्टोकरेंसी और क्रिप्टो मार्केट को लेकर WazirX के को-फाउंडर और सीईओ निश्चल शेट्टी ने News18 Hindi.com के साथ बातचीत की. तो आइए जानते हैं क्या कहते हैं निश्चल-

'Bitcoin में करना चाहता था निवेश'

WazirX की शुरुआत कैसे हुई? इस सवाल के जवाब में निश्चल शेट्टी बताते हैं, साल 2017 में मैंने बिटक्वाइन (Bitcoin) में निवेश करने का सोचा. उस वक्त मैं एक भारतीय क्रिप्टो एक्सचेंज पर गया, लेकिन वह प्लेटफाॅर्म इतना स्लो और अव्यवस्थित था कि इसमें मुझे सप्ताह भर का समय लग गया. तब तक बिटक्वाइन की काफी वैल्यू बढ़ चुकी थी और मैं निवेश नहीं कर पाया. उस वक्त मुझे एक व्यवस्थित क्रिप्टो एक्सचेंज की जरूरत महसूस हुई, जहां आसानी से क्रिप्टो में ट्रेड किया जा सके. इसके बाद मैंने अपने कुछ जानकारों को इसके बारे में बताया और इस पर काम शुरू कर दिया. मैंने 10 लोगों की एक टीम बनाई और फिर 2 महीने में वजीर एक्स को तैयार कर लिया. धीरे-धीरे हम इसे यूजर्स फ्रेंडली बनाते गए. आज की तरीख में हमारे पास 150 लोगों की टीम है. आने वाले दिनों में इसे और बढ़ाने पर विचार कर रहे हैं. क्रिप्टो स्टार्टअप से पहले मैं मुंबई से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करके एक साॅफ्टवेयर कंपनी में नौकरी करता था. इसके बाद मैंने जोमैटो जैसी एक स्टार्टअप कंपनी में काम किया. बाद में मैंने नौकरी छोड़ दी और अपना कारोबार शुरू किया. निश्चल कहते हैं, WazirX मेरी दूसरी स्टार्टअप कंपनी है.
'क्रिप्टोकरेंसी को लेकर सरकार कर रही है बातचीत'

निश्चल कहते हैं, क्रिप्टो मार्केट (Crypto Market) के लिए साल 2021 अब तक बेहद शानदार रहा है. आगे भी मार्केट तेजी से बढ़ेगा. इन दिनों क्रिप्टो को लेकर निवेशकों की रुचि बढ़ती जा रही है. WazirX पर सबसे अधिक 20-30 साल तक युवा निवेशक बढ़े हैं. खास बात यह है कि इनमें महिला निवेशक भी शामिल हैं. दूसरी ओर सरकार इस बारे में बात कर रही हैं. सरकार क्रिप्टोकरेंसी और क्रिप्टो मार्केट को लेकर स्टडी कर रही है. सरकार इसे रेगुलेट करने पर विचार कर रही है. आज के डेट में देखें तो पूरी तरह इंटरनेट भी रेगुलेट नहीं है फिर ये तो एक नई तकनीक है. इसलिए रातोंरात इस पर फैसला नहीं लिया जा सकता है. क्रिप्टो को रेगुलेट करने में काफी समय लग सकता है, लेकिन हम चाहते हैं कि सरकार एक गाइडलाइन जारी कर दें. हालांकि, इस संबंध में हमने सरकार के सामने अपनी बातें रखी हैं. दूसरी ओर, RBI के फैसलों से काफी राहत मिली है. इस फैसले के बाद अब बैंक की तरफ से राहत दी जा रही है.

ये भी पढ़ें- Cryptocurrency के निवेशकों को HDFC बैंक ने दी राहत! जानें मालामाल होने के लिए आज किस क्वाॅइन में लगाएं पैसे?



'क्रिप्टो काउंसिल का किया गया है गठन'

बकौल निश्चल, क्रिप्टोकरेंसी को लेकर भारत समेत दुनियाभर में इस वक्त काफी कंफ्यूजन है. खासकर भारत में बैन को लेकर भारतीय निवेशकों में डर है. इसके लिए हम सरकार और निवेशकों दोनों को क्रिप्टोकरेंसी और क्रिप्टो मार्केट का महत्व बता रहे हैं. निश्चल बताते हैं कि वर्तमान में क्रिप्टो को लेकर कंज्यूजन दूर करने के लिए देश के कई एक्सचेंजों ने मिलकर एक क्रिप्टो काउंसिल का गठन किया है. जहां इस काउंसिल ने क्रिप्टो की माइनिंग, ट्रांसफर और ट्रेडिंग को लेकर गाइडलाइन तैयार की और हम इसे फाॅलो कर रहे हैं. साथ ही हम डेटा सेफ्टी का पूरा ध्यान रख रहे हैं. इसको लेकर कोई गाइडलाइन नहीं है, बावजूद सुरक्षित निवेश को ध्यान में रखकर हमने अपने ऐप KYC को अनिवार्य किया हुआ है. हमने सरकार के साथ भी इसे साझा किया है.

'इंटरनेट की तरह ही क्रिप्टो मार्केट में क्रांति आएगी'

निश्चल मानते हैं कि आने वाले समय में इंटरनेट की तरह कि क्रिप्टो की दुनिया में एक क्रांति आएगी. दुनियाभर में लोग इसको लेकर जागरूक हो रहे हैं और कई तरह के प्रोग्राम चलाएं जा रहे हैं. इतना ही नहीं हम लोगों को जागरूक करने के लिए एजुकेशन इनिशिएटिव ले रहे हैं. जहां उन्हें बारिकियों से इसके बारें में बताया जाता है. हाल ही में हमने भारतीय कलाकारों को उनकी डिजिटल आर्ट को बेचने या खरीदने के लिए NFT मार्केटप्लेस को लाॅन्च किया है. इसी तरह हम आगे भी नए- नए तरीके ईजाद कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- LIC IPO: मोटी कमाई के लिए रहें तैयार! देश के सबसे बड़े आईपीओ को लेकर सरकार इसी महीने लेगी ये फैसला

'क्रिप्टो माइनिंग मार्केट रिन्यूएबल एजर्नी का करती है यूज'

क्रिप्टो करंसी ब्लॉकचेन टेक्नॉलाजी पर आधारित है. दुनियाभर में क्रिप्टो की माइनिंग को लेकर विवाद है. चीन समेत कई देशों में इस वजह से क्रिप्टो पर प्रतिबंध लगाया गया है. इस पर निश्चल कहते हैं कि क्रिप्टोकरेंसी की माइनिंग में कोई खतरा नहीं है. क्रिप्टो की माइनिंग एक साफ्टवेयर प्रोग्राम के जरिए होती है जिसे कोई भी आसानी से रन कर सकता है. इसमें एक पजल साल्व करना पड़ता है. इसके लिए दुनियाभर में कम्प्यूटर चल रहा है और बिजली की खपत हो रही है. अगर इस लिहाज से देखें तो कोई भी तकनीक बिना इलेक्ट्रिसिटी के नहीं चलती है. अच्छी बात ये है कि बिटक्वाइन माइनिंग इंडस्ट्री 30 फीसदी रिन्यूएबल एजर्नी का इस्तेमाल करता है. जो कि दूसरे इंडस्ट्री से रिन्यूएबल एनर्जी के मामले में 10% आगे है.

ये भी पढ़ें- SBI ने 44 करोड़ ग्राहकों को किया अलर्ट! 30 जून के बाद नहीं चलेगा PAN कार्ड, जानें बैंक ने क्या दी सलाह?

'क्रिप्टोकरेंसी में निवेश से पहले रखें इन बातों का ध्यान'

निश्चल कहते हैं कि क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने से पहले कुछ महत्वपूर्ण बातों का खास ध्यान रखना चाहिए. जैसे कि निवेश से पहले पूरी जांच-पड़ताल कर लें. क्रिप्टो एक्सचेंज का रजिस्टर्ड पता कहां का है और क्या वह भारतीय कानून के अधीन निगमित है या नहीं. साथ ही यह चेक करें कि क्रिप्टो एक्सचेंज में किस-किस इन्वेस्टर ने अपनी रकम लगाई है. साथ ही आप जिस क्रिप्टोकेरेंसी में निवेश करना चाहते हैं उसे किस उद्देश्य से बनाया गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज