आर्टिकल 370: जम्मू-कश्मीर में ये कंपनी खोलेगी फिटनेस सेंटर

हेल्थ और फिटनेस स्टार्टअप क्योर फिट (Curefit) ने भी जम्मू-कश्मीर में अपने फिटनेस सेंटर (Fitness Center) खोलने की घोषणा की है.

News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 8:39 PM IST
आर्टिकल 370: जम्मू-कश्मीर में ये कंपनी खोलेगी फिटनेस सेंटर
जम्मू-कश्मीर में ये कंपनी खोलेगी फिटनेस सेंटर
News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 8:39 PM IST
जम्मू-कश्मीर (Jammu & Kashmir) से आर्टिकल 370 (Article 370) हटने के बाद प्राइवेट के साथ सरकारी कंपनियां यहां इंडस्ट्री लगाने की घोषणा कर चुकी है. इसी कड़ी में हेल्थ और फिटनेस स्टार्टअप क्योर फिट (Curefit) ने भी जम्मू-कश्मीर में अपने फिटनेस सेंटर (Fitness Center) खोलने की घोषणा की है. ये घोषणा करके Curefit जम्मू-कश्मीर में सार्वजनिक तौर पर कोई वेंचर शुरू करने वाली पहली प्राइवेट सेक्टर की कंपनी बन गई है.

बता दें कि मोदी सरकार की योजना राज्य में इंफ्रास्ट्रक्चरल और इकोनॉमिक डेवलपमेंट करने की है, लेकिन अभी तक किसी भी पब्लिक या प्राइवेट कंपनी ने किसी भी तरह के बिजनेस प्रोजेक्ट की योजना की घोषणा नहीं की है.

सबसे पहले पांच फिटनेस खुलेगी
CNBC की खबर के मुताबिक, Curefit के को-फाउंडर अंकित नगोरी ने एक बयान में कहा कि कंपनी जम्मू-कश्मीर में अपने Curefit फिटनेस सेंटर के जरिए नए केंद्र शासित प्रदेश बनाए गए जम्मू-कश्मीर में अपनी पारी शुरू करने को लेकर उत्साहित है. हम भारत में लोगों को हेल्दी लाइफ के लिए उत्साहित करने को लेकर प्रतिबद्ध हैं और अपनी सर्विस हर किसी की पहुंच के अंदर लाना चाहते हैं. नगोरी ने बताया कि कंपनी राज्य में सबसे पहले पांच फिटनेस खोलने से शुरुआत करेगी.

ये भी पढ़ें: एशिया की बड़ी कंपनी जम्मू-कश्मीर में लगाएगी फैक्ट्री!

बता दें कि इस कंपनी की शुरुआत 2016 में मुकेश बंसल और अंकित नगोरी ने की थी. फिलहाल देशभर में 180 Curefit सेंटर और 35 Curefit सेंटर हैं.

सरकारी कंपनी ITI की नजर जम्मू कश्मीर पर
Loading...

जम्मू कश्मीर में आर्टिकल 370 हटने का एक बड़ा फायदा ITI को मिल सकता है. सरकार कश्मीर में इंफ्रास्टक्चर को मजूबत बनाने के लिए बड़ी मात्रा में निवेश करने की तैयारी कर रही है. आईटी का श्रीनगर यूनिट 1969 से काम कर रहा है. सरकार इसके रिवाइवल और विस्तार की योजना तैयार कर रही है. इस पर दूरसंचार विभाग निवेश का प्लान तैयार कर रहा है. श्रीनगर यूनिट कई साल से घाटे में है. 90 के दशक में प्लांट मुनाफे में था. इस यूनिट में 1 लाख फोन बनाने की क्षमता है. फिलहाल छात्रों को स्किल ट्रेनिंग दी जा रही है. सरकार अब दोबारा यहां मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट लगाएगी. कंपनी को निवेश के लिए अतिरिक्त फंड मिलेगी.

ये भी पढ़ें: Article 370: इस सरकारी कंपनी की नजर जम्मू-कश्मीर पर

(मनीकंट्रोल)
First published: August 8, 2019, 8:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...