कस्टम विभाग ने अगरबत्ती स्मगलिंग रैकेट का ​भंडाफोड़ किया, सरकारी छूट का उठाते थे गलत फायदा

कस्टम विभाग ने अगरबत्ती स्मगलिंग रैकेट का ​भंडाफोड़ किया, सरकारी छूट का उठाते थे गलत फायदा
पिछले साल अगस्त से ही अगरबत्ती को प्रतिबंधित कैटेगरी में डाला गया है. बिना लाइसेंस के इसे कोई आयात नहीं कर सकता है.

चेन्नई बंदरगाह (Chennai Port) पर अगरबत्ती स्मगलिंग का मामला सामने आया है. कस्टम विभाग ने एक कंपनी के ​मालिकों को बड़ी मात्रा में अगरबत्ती और अगरबत्ती पाउडर के साथ गिरफ्तार किया है. अगरबत्ती प्रतिबंधित कैटैगरी का सामान है, जिसका आयात बिना लाइसेंस के नहीं किया जा सकता है.

  • Share this:
चेन्नई . वियतनाम से अगरबत्ती की स्मगलिंग (Agarbatti Smuggling) का भंडाफोड़ करते हुए बुधवार को कस्टम विभाग (Custom Department) ने भरत एच शाह और उनके बेटे श्रीरोनिक शाह को चेन्नई से गिरफ्तार कर लिया है. इसके साथ ही, कस्टम विभाग ने 161.94 मिट्रिक टन अगरबत्ती और 68.36 मिट्रिक टन अगरबत्ती बनाने वाला पाउडर भी जब्त किया है. इन दोनों सामानों को वियतनाम से आयात किए कंटेनर्स से जब्त किया गया, जिसमें 'M/s. इंडियन अगरबत्ती मैन्युफैक्चरर्स' लिखा हुआ था. हाल के दिनों में कस्टम विभाग द्वारा यह सबसे बड़ी कार्रवाई में से एक है. आयातकों ने कस्टम विभाग को बताया था कि इन कंटेनर्स में जॉस पाउडर (Joss Powder) और अगरबत्ती बनाने के लिए प्रीमिक्स पाउडर है.

फ्री ट्रेड अग्रीमेंट का फायदा उठाने के लिए की चालाकी
आमतौर पर जॉस पाउडर पर 15 फीसदी कस्टम ड्यूटी लगती है, लेकिन ASEAN देशों के साथ फ्री ट्रेड अग्रीमेंट (FTA- Free Trade Agreement) के तहत यह चार्ज Nil है. चूंकि, वियतनाम भी ASEAN देशों का ही हिस्सा है, इसीलिए यहां से जॉस पाउडर आयात करने पर कोई कस्टम ड्यूटी नहीं देनी होती है. इस प्रकार आयातक FTA का अनुचित लाभ उठाते थे. इन आइटम्स की मदद से वो प्रतिबंधित सामान यानी अगरबत्ती का आयात करते थे. बता दें कि पिछले साल अगस्त से ही अगरबत्ती को प्रतिबंधित कैटेगरी में डाला गया है. बिना लाइसेंस के इसे कोई आयात नहीं कर सकता है.

यह भी पढ़ें: Haldiram परिवार के बीच संपत्ति को लेकर छिड़ा विवाद, जानिए क्या है पूरी कहानी
कैसे हुआ भंडाफोड़?


कस्टम विभाग को इनपुट मिला था कि वियतनाम से गलत तरीके से अगरबत्ती की स्मगलिंग की जा रही है, जिसे भारत में आयात करना प्रतिबंधित है. इसके बाद ​कस्टम विभाग ने संदिग्ध आयातक को पकड़ने के लिए एनलिटिक्स की मदद ली. इसके बाद चेन्नई बंदरगाह पर इस आयातक के 6 कंटेनर्स पर कड़ी नजर रखी गई थी.

जानकारी दी गई थी कि इन कंटेनर्स में जॉस पाउडर और अगरबत्ती बनाने के लिए प्रीमिक्स पाउडर का आयात किया गया है, लेकिन जाचं करने के बाद पता चला कि इसमें बड़ी मात्रा में अगरबत्ती और अगरबत्ती पाउडर रखा गया है. इसे बेहद चालाकी से बताये गए सामानों के बीच छिपा कर रखा गया था.

यह भी पढ़ें: सिर्फ 70 हजार रुपये में 25 साल तक पाएं फ्री में बिजली, साथ में कमाएं पैसा

इस खुलासे के बाद कस्टम विभाग ​हरकत में आया और बेंगलुरु स्थित इनके आवास और ऑफिस में भी छानबीन की. इस जांच में पता चला कि उन्होंने से 2 और कंटेनर्स मंगाया है, जो​कि पाइपलाइन में है. चेन्नई पोर्ट पर जब इन दो कंटेनर्स की जांच की गई तो इनमें भी अगरबत्ती ही पाया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading