Home /News /business /

मोदी सरकार ने दी कारोबारियों को बड़ी राहत, GST रिटर्न फाइल करने की बढ़ी डेडलाइन

मोदी सरकार ने दी कारोबारियों को बड़ी राहत, GST रिटर्न फाइल करने की बढ़ी डेडलाइन

जीएसटी (GST) के तहत रजिस्टर्ड टैक्सपेयर्स को एनुअल रिटर्न भरना होता है.

जीएसटी (GST) के तहत रजिस्टर्ड टैक्सपेयर्स को एनुअल रिटर्न भरना होता है.

GST Annual Return Filing Deadline: अब कारोबारी वित्त वर्ष 2020-21 के जीएसटी एनुअल रिटर्न को 28 फरवरी तक फाइल कर सकेंगे.

    नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने कारोबारियों को बड़ी राहत दी है. सरकार ने मार्च 2021 में समाप्त होने जा रहे वित्त वर्ष 2020-21 के लिए जीएसटी एनुअल रिटर्न (GST Annual Return) को फाइल करने की डेडलाइन दो महीने और बढ़ा दी है. अब कारोबारी 28 फरवरी, 2022 तक रिटर्न दाखिल कर सकेंगे. पहले यह डेडलाइन 31 दिसंबर 2021 थी.

    सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्ट टैक्सेज एंड कस्टम्स यानी सीबीआईसी (CBIC) ने बुधवार देर रात को ट्वीट करके यह जानकारी दी. सीबीआईसी ने कहा कि वित्त वर्ष 2020-21 के लिए फॉर्म जीएसटीआर-9 में एनुअल रिटर्न भरने और फॉर्म जीएसटीआर-9सी में सेल्फ-सर्टिफाइड रिकांसिलेशन स्टेटमेंट प्रस्तुत करने की नियत तिथि 31 दिसंबर 2021 से बढ़ाकर 28 फरवरी 2022 कर दी गई है.

    क्या है GSTR 9
    GSTR 9- जीएसटी के तहत रजिस्टर्ड टैक्सपेयर्स को एनुअल रिटर्न भरना होता है. जीएसटीआर-9 को सेंट्रल जीएसटी 2017 के सेक्शन 44(1) के तहत फाइल किया जाता है. इसमें अलग-अलग टैक्स हेड्स के तहत आउटवार्ड और इनवार्ड सप्लाई की पूरी जानकारी होती है.

    ये भी पढ़ें- Bank Holiday January 2022: जनवरी में 16 दिन बंद रहेंगे बैंक, देखें छुट्टियों की पूरी लिस्‍ट

    1 जनवरी से बदल जाएंगे GST के नियम
    गौरतलब है कि जीएसटी सिस्टम में 1 जनवरी, 2022 से कई बड़े बदलाव होने वाले हैं. इनमें ई-कॉमर्स सर्विस ऑपरेटर्स पर ट्रांसपोर्ट और रेस्टोरेंट क्षेत्र में दी जाने वाली सर्विसेज पर टैक्स देनदारी भी शामिल है. इसके अलावा फुटवियर और टेक्सटाइल सेक्टर में शुल्क ढांचे में बदलाव भी एक जनवरी 2022 से लागू होगा जिसके तहत सभी प्रकार के फुटवियर पर 12% जीएसटी लगेगा जबकि रेडीमेड कपड़ों समेत सभी टेक्साइटल प्रोडक्ट्स (कॉटन को छोड़कर) पर 12% जीएसटी लगेगा.

    नए बदलाव के बाद फूड डिलीवरी प्लेटफार्मों स्विगी और जोमैटो जैसे ई-कॉमर्स सर्विस प्रोवाइडर्स का यह उत्तरदायित्व होगा कि उनके द्वारा दी जाने वाली रेस्टोरेंट सर्विसेज के बदले वे जीएसटी कलेक्ट करें और उसे सरकार के पास जमा करवाएं.

    Tags: Gst, Gst latest news, Gst news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर