लाइव टीवी
Elec-widget

इंडियाबुल्स हाउसिंग पर लगे 5698 करोड़ के संदिग्ध लोन बांटने के आरोप! जानिए पूरा मामला

News18Hindi
Updated: November 29, 2019, 10:01 AM IST
इंडियाबुल्स हाउसिंग पर लगे 5698 करोड़ के संदिग्ध लोन बांटने के आरोप! जानिए पूरा मामला
सिटिजन व्हिसिल ब्लोवर फोरम ने इंडियाबुल्स (Indiabulls Housing) के यस बैंक (Yes Bank) के साथ कारोबार पर सवाल उठाए हैं.

सिटिजन व्हिसिल ब्लोवर फोरम ने यस बैंक पर लोन की हेराफेरी के गंभीर आरोप लगाते हुए दिल्ली हाईकोर्ट में 21 अक्टूबर को नई याचिका दायर की है. इसमें कहा गया है कि यस बैंक ने इंडियाबुल्स को 5698 करोड़ रुपये के संदिग्ध लोन दिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 29, 2019, 10:01 AM IST
  • Share this:
मुंबई. सिटिजन व्हिसिल ब्लोवर फोरम (Citizen Whistleblower Forum) की ओर से लगे आरोपों के मामले में आज हाईकोर्ट सुनवाई करेगा. सिटिजन व्हिसिल ब्लोवर फोरम ने इंडियाबुल्स (Indiabulls Housing) के यस बैंक (Yes Bank) के साथ कारोबार पर सवाल उठाए हैं. फोरम का आरोप है कि दोनों ने मिलकर हेराफेरी की है.याचिका में लोन के पैसे की हेराफेरी के आरोप लगाते हुए कहा गया है कि इंडियाबुल्स -यस बैंक (Indiabulls-Yes Bank) दोनों ने एक दूसरे को लोन दिए. इससे जनता के पैसे को निजी संपत्ति में बदला गया. याचिका में कहा गया है कि राणा कपूर (Rana Kapoor) परिवार से जुड़ी कंपनियों को 2034 करोड़ रुपये के लोन दिए गए. यस बैंक ने इंडियाबुल्स हाउसिंग को 5698 करोड़ के संदिग्ध लोन दिए है. राणा कपूर परिवार की करीब 7 कंपनियों को लोन दिए गए.

क्या है मामला-सिटिजन व्हिसिल ब्लोवर फोरम ने यस बैंक पर लोन की हेराफेरी के गंभीर आरोप लगाते हुए दिल्ली हाईकोर्ट में 21 अक्टूबर को नई याचिका दायर की है. इसमें कहा गया है कि यस बैंक  ने इंडियाबुल्स को 5698 करोड़ रुपये के संदिग्ध लोन दिए.

ये भी पढ़ें-अब आपका नहीं डूबेगा पैसा, चिटफंड बिल को संसद से मिली मंजूरी

>> निगेटिव नेटवर्थ वाली कंपनियों को भी लोन बांटे गये जिसमें समीर गहलोत से जुड़ी कंपनियां शामिल हैं. बता दें कि समीर गहलोत इंडियाबुल्स प्रोमोटर हैं.

>> साल 2009-10 से 2018-19 के बीच दिए गए लोन संदेह के दायरे में हैं. राणा कपूर के कार्यकाल के दौरान ही ये लोन बांटे गए.

इंडियाबुल्स ने दी सफाई- आरोपों पर जवाब देते हुए कहा है कि सिटिजन व्हिसिल ब्लोवर फोरम के सारे आरोप गुमराह करने वाले हैं. इंडियाबुल्स  के प्रोमोटरों पर YES BANK का कोई लोन बकाया नहीं है.

>> कुछ साल पहले यस बैंक को सभी लोन चुकाए जा चुके हैं. सभी लोन प्रोमोटर समीर गहलोत की पर्सनल गारंटी पर दिए गए थे. समीर गहलोत की नेटवर्थ 15000 करोड़ रुपये है.
Loading...

>> राणा कपूर की कंपनियों के लोन पर सफाई देते हुए कहा गया है कि 7 कंपनियों को दिए लोन नियमों के तहत हैं. ये सभी लोन पूरी तरह से सिक्योर्ड थे. लोन देने के समय राणा कपूर की नेटवर्थ 5000 करोड़ रुपये थी.

ये भी पढ़ें-भारतीय कंपनियों के लिये 2020 में बनी रहेगी चुनौतियां: मूडीज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 9:53 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...