एक ही फ्लाईओवर पर दौड़ेगी मेट्रो और कार, दिल्ली मेट्रो ने शुरू किया काम

एक ही फ्लाईओवर पर दौड़ेगी मेट्रो और कार, दिल्ली मेट्रो ने शुरू किया काम
दिल्ली मेट्रो कर रही नया करिश्मा

DMRC ने 22 किलोमीटर लंबे एयरोसिटी-तुगलकाबाद मेट्रो कॉरिडोर (Aerocity-Tughlaqabad corridor) पर काम शुरू कर दिया है. इस कॉरिडोर की खास बात है कि यह एक डबल डेक होगा, जिस पर मेट्रो लाइन के साथ-साथ 6 लेन वाला एक फ्लाईओवर भी बनाया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 18, 2020, 2:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली में एक ही पिलर पर दौड़ेगी मेट्रो और कार. दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) ने 22 किलोमीटर लंबे एयरोसिटी-तुगलकाबाद मेट्रो कॉरिडोर (Aerocity-Tughlaqabad corridor) पर काम शुरू कर दिया है. इस कॉरिडोर की खास बात है कि यह एक डबल डेक होगा, जिस पर मेट्रो लाइन के साथ-साथ 6 लेन वाला एक फ्लाईओवर भी बनाया जाएगा. 22 किलोमीटर लंबे इस कॉरिडोर के 4.2 किलोमीटर के दायरे में संगम विहार, खानपुर-देवली, अंबेडकर नगर और साकेत-जी पर चार एलिवेटेड सहित कुल 15 मेट्रो स्टेशन होंगे.

डीएमआरसी (DMRC) ने फेस-4 के एरोसिटी-तुगलकाबाद कॉरिडोर पर यू गर्डर बनाने का काम शुरू कर दिया है. यू-गर्डर्स प्री-टेंशन वाले यू-आकार के गर्डर्स होते हैं. इसके लगाने के बाद ट्रैक बिछाने का काम त्वरित गति से किया जा सकता है. गर्डर को कास्टिंग यार्ड में तैयार कर अलग अलग साइट पर भेजा जा सकता है. दुनिया भर में मेट्रो परियोजनाएं में फिलहाल इस तकनीक का उपयोग किया जा रहा है. इसके जरिये बेहतर गुणवत्ता के साथ निर्माण में समय की भी बचत होती है.


बता दें कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने दिल्ली मेट्रो के चरण 4 परियोजना के छह प्रस्तावित गलियारों में से 3 को आरके आश्रम से जनकपुरी पश्चिम (25 स्टेशन), तुगलकाबाद से एरोसिटी (15 स्टेशन) और मौजपुर से मुकुंदपुर (6 स्टेशन) को मंजूरी दी है. वहीं, तीन प्राथमिकता वाले गलियारों में भूमिगत (22.359 किलोमीटर) और उन्नत (39.320 किलोमीटर) दोनों खंड शामिल हैं. इन तीनों गलियारों की कुल लंबाई 61.679 किलोमीटर है, इनके बनने से दिल्ली में मेट्रो यात्रा का पूरा स्वरूप ही बदल जाएगा.





टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, मेट्रो के कार्यकारी निदेशक (कॉरपोरेट कम्युनिकेशन) अनुज दयाल का कहना है कि जब यह सेक्शन बनकर पूरा हो जाएगा, तो पूरी महरौली-बदरपुर रोड (MB Road) सिग्नल फ्री हो जाएगी और संगम विहार से साकेत तक लोग बिना कहीं रुके आ-जा सकेंगे, जिससे इस इलाके में ट्रैफिक जाम की समस्या भी दूर हो जाएगी. लाल बहादुर शास्त्री मार्ग से एमबी रोड पर जाने वाले लोग रैंप का इस्तेमाल कर सकेंगे, तो वहीं अंडरपास के जरिए लोग एमबी रोड से लाल बहादुर शास्त्री मार्ग की तरफ आसानी से जा सकेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज