देश में कारोबार करने के लिए बेस्ट है ये शहर, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

भाषा
Updated: September 10, 2019, 5:00 PM IST
देश में कारोबार करने के लिए बेस्ट है ये शहर, रिपोर्ट में हुआ खुलासा
दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में स्टार्टअप्स (Startups) की संख्या 7,000 से अधिक है. साथ ही इस इलाके में 10 यूनीकार्न (Unicorn) भी है. इन कंपनियों का वैलुएशन 50 अरब डॉलर के करीब है.

दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में स्टार्टअप्स (Startups) की संख्या 7,000 से अधिक है. साथ ही इस इलाके में 10 यूनीकार्न (Unicorn) भी है. इन कंपनियों का वैलुएशन 50 अरब डॉलर के करीब है.

  • भाषा
  • Last Updated: September 10, 2019, 5:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में स्टार्टअप्स (Startups) की संख्या 7,000 से अधिक है. साथ ही इस इलाके में 10  यूनिकॉर्न (Unicorn) भी है. इन कंपनियों का वैलुएशन 50 अरब डॉलर के करीब है. TII-दिल्ली-एनसीआर और जिनोव (Zinnov) की एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है. रिपोर्ट में कहा गया है कि स्टार्टअप्स और यूनिकॉर्न के मामले में बेंगलुरु और मुंबई की तुलना में दिल्ली-एनसीआर कहीं आगे है.

23 फीसदी स्टार्टअप्स दिल्ली-एनसीआर में-‘टर्बोचार्जिंग दिल्ली-एनसीआर स्टार्ट-अप इकोसिस्टम’ शीर्ष वाली रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में कुल स्टार्टअप्स में 23 फीसदी दिल्ली-एनसीआर में हैं. रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली-एनसीआर में स्टार्टअप्स की संख्या 7,039 है. बेंगलुरु में इनकी संख्या 5,234, मुंबई में 3,829 और हैदराबाद में 1,940 है. इन नई कंपनियों की स्थापना 2009 से 2019 के दौरान हुई है. दिल्ली-एनसीआर की बात की जाए, तो दिल्ली में 4,491 स्टार्टअप्स हैं. गुरुग्राम में 1,544 और नोएडा में 1,004 स्टार्टअप्स हैं.

ये भी पढ़ें: बिक गई बैटरी बनाने वाली 114 साल पुरानी कंपनी एवरेडी, जानें कितने में हुआ सौदा?

दिल्ली-NCR में 10 यूनिकॉर्न कंपनियां

रिपोर्ट में इस बात का उल्लेख किया गया है कि दिल्ली-एनसीआर में 10 यूनिकॉर्न कंपनियां हैं. इन कंपनियों का मूल्यांकन एक अरब डॉलर से अधिक का होता है. बेंगलुरु में ऐसी कंपनियों की संख्या नौ है, जबकि मुंबई और पुणे में दो-दो और चेन्नई में एक ऐसी कंपनी है.

रिपोर्ट कहती है कि दिल्ली-एनसीआर वैश्विक स्तर पर पांच शीर्ष स्टार्टअप्स हब में आ सकता है. यहां सक्रिय प्रौद्योगिकी स्टार्टअप्स की संख्या को 12,000 तक पहुंचाया जा सकता है. जबकि यूनिकॉर्न की संख्या को 30 तक किया जा सकता है. ऐसा होने पर इन कंपनियों का कुल मूल्यांकन 150 अरब डॉलर से अधिक हो जाएगा.

ये भी पढ़ें: 'मंदी' की चपेट में आया जूलरी सेक्टर, खतरे में हजारों नौकरियां!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 10, 2019, 4:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...