Home /News /business /

delhivery slides below ipo price in grey market ahead of tuesday listing

Delhivery IPO: मंगलवार को होगी लिस्टिंग, मगर पहले ही मिले नेगेटिव ओपनिंग के संकेत

डेल्हीवरी का शेयर प्राइस (Delhivery Share Price) ग्रे मार्केट में अपने IPO के प्राइस से भी नीचे चला गया है.

डेल्हीवरी का शेयर प्राइस (Delhivery Share Price) ग्रे मार्केट में अपने IPO के प्राइस से भी नीचे चला गया है.

लॉजिस्टिक और सप्लाई चेन स्टार्टअप डेल्हीवरी का शेयर प्राइस (Delhivery Share Price) ग्रे मार्केट में अपने IPO के प्राइस से भी नीचे चला गया है. बुधवार को यह प्रीमियम गिरकर 3-4 रुपये रह गया और गुरुवार मतलब कल यह माइनस 3-6 रुपये तक चला गया.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. यदि आपने डेल्हीवरी के आईपीओ (Delhivery IPO) के लिए अप्लाई किया है, तो आपको मायूस होना पड़ सकता है. लॉजिस्टिक और सप्लाई चेन स्टार्टअप डेल्हीवरी का शेयर प्राइस (Delhivery Share Price) ग्रे मार्केट में अपने IPO के प्राइस से भी नीचे चला गया है. इसका मतलब ये है कि 24 मई को लिस्टिंग के दिन संभवत: यह शेयर डिस्काउंट पर अर्थात अपने आईपीओ प्राइस से नीचे खुलकर पहले ही निवेशकों को नुकसान करवा दे.

मनीकंट्रोल की एक खबर के अनुसार, एक डीलर ने बताया कि रिटेल, और हाई नेटवर्थ वाले निवेशकों द्वारा अच्छी प्रतिक्रिया न मिलने के चलते ग्रे मार्केट में बहुत कम वॉल्यूम देखी जा रही थी. 1 मई 2022 को यह स्टॉक अपनी उच्चतम ग्रे मार्केट प्रीमियम (GMP) पर था और वह था 7-8 रुपये. इसी बुधवार को यह प्रीमियम गिरकर 3-4 रुपये रह गया और गुरुवार मतलब कल यह माइनस 3-6 रुपये तक चला गया.

ये भी पढ़ें – Aether Industries IPO 24 मई को होगा लॉन्‍च, प्राइस बैंड सहित चेक करें अन्‍य डिटेल

लगातार घाटे के चलते निवेशकों ने बनाई दूरी

कंपनी ने इसके लिए प्राइस बैंड 462-487 रुपये प्रति शेयर रखा है. बताया जा रहा है कि कंपनी के कमजोर कैश फ्लो और लगातार घाटे के चलते निवेशकों ने इससे दूरी बनाई है. दिसंबर 2021 तक खत्म हुए 9 महीनों में कंपनी ने 891.14 करोड़ रुपये का लॉस किया और वित्त वर्ष 21 में इसने 416 करोड़ रुपये का नुकसान कमाया था. दिसंबर के अंत तक कंपनी की कमाई 4,911 करोड़ रुपये थे, जबकि वित्त वर्ष 21 के लिए कमाई 3,838 रुपये थी.

कंपनी ने वित्त वर्ष 2020 के 848 करोड़ रुपये के नेगेटिव कैश फ्लो की तुलना में 2021 में 246 करोड़ रुपये का नेगेटिव कैश फ्लो रिपोर्ट किया. इसी समय के दौरान, लागत में काफी बढ़ोतरी हुई. यह 2020 में 2,026 रुपये के मुकाबले 2021 में 3,480 करोड़ रुपये हो गई, जबकि वित्त वर्ष 2022 के पहले 9 महीनों में यह 4,000 करोड़ का आंकड़ा छू चुकी है.

मुनाफा बना रही हैं प्रतिस्पर्धी कंपनियां

एक एनालिस्ट ने कहा कि फर्म 5.5x प्राइस टू सेल्स की डिमांड कर रही है. बाकी लॉजिस्टिक कंपनियां प्रॉफिट बना रही हैं. ईंधन की लागत में वृद्धि, सप्लाई चेन और लॉजिस्टिक्स से जुड़े मामले, फुलफिलमेंट की लागत कंपनी को ज्यादा परेशान कर रही है. लिस्ट हो चुकी कंपनियों में कुछ ऐसी हैं जो बेहतर हैं और मुनाफा बना रही है तो ऐसे में निवेशक उनकी तरफ देख सकते हैं.

ये भी पढ़ें – शेयर बाजार, आने वाले IPOz समेत बिजनेस जगत की तमाम बड़ी खबरें

इस एनालिस्ट ने दावा किया कि टीसीआई एक्सप्रेस, ब्लू डार्ट, गति, वीआरएल लॉजिस्टिक्स, महिंद्रा लॉजिस्टिक्स का मार्केट कैपिटल डेल्हीवरी से कम है. डेल्हीवरी का मार्केट कैप 35 हजार करोड़ रुपये का है और इसकी ज्यादातर पीयर कंपनियां (इसके जैसी ही दूसरी कंपनियां) मुनाफे में है.

डेल्हीवरी के आईपीओ को रिटेल और हाई नेटवर्थ निवेशकों की तरफ से काफी हल्का रिस्पॉन्स मिला है. दोनों कैटेगरी में क्रमश: 0.57 और 0.3 फीसदी ही बोलियां आई हैं. इंस्टीट्यूशनल खरीदारों ने अपने कोटा का 2.66 फीसदी बुक किया है.

Tags: IPO, Stock market

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर