चीनी इक्विपमेंट्स का इस्तेमाल नहीं करेगी BSNL, प्राइवेट कंपनियों से भी बात करेगा टेलिकॉम डिपार्टमेंट

चीनी इक्विपमेंट्स का इस्तेमाल नहीं करेगी BSNL, प्राइवेट कंपनियों से भी बात करेगा टेलिकॉम डिपार्टमेंट
भारतीय संचार निगम लिमिटेड (BSNL)

4G अपग्रेडेशन के लिए सरकारी टेलिकॉम कंपनी भारतीय संचार निगम लिमिटेड (BSNL) चीनी कंपनियों द्वारा निर्मित इक्विपमेंट्स का इस्तेमाल नहीं करेगी. टेलिकॉम डिपार्टमेंट प्राइवेट कंपनियों से भी चीनी इक्विपमेंट्स पर निर्भरता कम करने को कहेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 17, 2020, 10:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत-चीन में झड़प (Indo China Skirmish) के बीच टेलिकॉम ​डिपार्टमेंट (Department of Telecom) सरकारी टेलिकॉम कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) से 4G अपग्रेडेशन सुविधा में चीनी इक्विमेंट्स का इस्तेमाल नहीं करने का आग्रह किया है. 4G सिस्टम में अपग्रेडेशन BSNL का पूनर्वास पैकेज का हिस्सा है. टेलिकॉम डिपार्टमेंट ने BSNL से इस संबंध में अपने टेंडर पर फिर से काम करने को कहा है.

चीनी इक्विपमेंट्स पर खड़े होते रहे हैं सुरक्षा से जुड़े सवाल
​टेलिकॉम डिपार्टमेंट (DoT) इस बात पर भी विचार कर रहा है कि देश की प्राइवेट मोबाइल सर्विस ऑपरेटर्स (Private Mobile Service Operators) भी तत्परता से चीनी कंपनियों के उत्पाद पर अपनी निर्भरता कम करें. सरकारी सूत्रों से प्राप्त जानकारी से पता चलता है कि चीनी कंपनियों द्वारा निर्मित ने​टवर्क सिक्योरिटी इक्विपमेंट्स (Network Security Equipment) को लेकर हमेशा ही सुरक्षा के सवाल खड़े होते हैं.

यह भी पढ़ें: भारत-चीन तनाव के बीच ये 3 चीनी कंपनी करेंगी भारत में 5000 करोड़ का निवेश!
सरकार के आदेश का पालन करेगी BSNL


इकोनॉमिक टाइम्स ने एक सूत्र के हवाले से अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि अगर सरकार या नोडल मंत्रालय इस संबंध में कुछ कहता है तो वो चीनी ZTE पर अपनी निर्भरता खत्म कर देगी. सूत्र के हवाले इस रिपोर्ट में लिखा गया, 'भारत-चीन के बीच झड़प एक रणनीतिक मामला है जिसमें देश की सुरक्षा भी शामिल है. ऐसे में अगर सरकार कहती है कि चीनी ZTE पर निर्भरता खत्म की जाए तो BSNL इसका पालन करेगी.'

प्राइवेट कंपनियों के साथ भी काम करती है ZTE
चीन के शेनज़ेन (Shenzen, China) शहर की यह कंपनी BSNL के 6 सर्विस क्षेत्र में मिलकर काम करती है. जबकि, एयरटेल (Bharti Airtel) के साथ 2 सेवा एरिया और वोडाफोन आइडिया (Vodafone Idea) के साथ 5 सेवा क्षेत्र में यह कंपनी काम करती है. BSNL अपने 50,000 2G और 3G साइट्स को चौथे जेनरेशन (4G) में कन्वर्ट करने के लिए ZTE के साथ काम कर रही थी. इसके लिए ZTE ने BSNL से 1,000 करोड़ रुपये के आउटस्टैंडिंग बैलेंस की मांग की है.

यह भी पढ़ें: चीन-भारत तनाव के बीच इन 3 चीनी कंपनियों ने किया भारत में 5000 करोड़ के निवेश का ऐलान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज