4.3 लाख हेक्टेयर में नियंत्रण के बावजूद अभी खत्म नहीं हुआ है नई टिड्डियों के हमले का खतरा

टिड्डियों पर नियंत्रण के लिए 104 केंद्रीय दल तैनात (सांकेतिक तस्वीर)

टिड्डियों को मारने के लिए 104 केंद्रीय नियंत्रण दल राजस्थान और गुजरात में तैनात, भारतीय वायु सेना का एमआई-17 हेलीकॉप्टर भी तैनात

  • Share this:
    नई दिल्ली. अप्रैल के बाद से अब तक 10 राज्यों के 4.3 लाख हेक्टेयर एरिया में टिड्डी नियंत्रण किया गया है. मोदी सरकार के इस दावे के बीच आई खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO) की रिपोर्ट से पता चलता है कि अभी नई टिड्डियों के हमले का खतरा टला नहीं है. कृषि मंत्रालय के मुताबिक 21 जुलाई को एफएओ द्वारा जारी टिड्डी स्टेटस अपडेट से संकेत मिलता है कि आने वाले हफ्तों में हॉर्न ऑफ अफ्रीका से टिड्डियों के झुंड के पलायन का खतरा बना हुआ है.

    सोमालिया में, टिड्डियों के झुंड उत्तर दिशा की ओर होते हुए पूर्व की ओर बढ़ रहे हैं. इस महीने के बाकी दिनों के दौरान कुछ सीमित संख्या में ये झुंड हिंद महासागर में भारत-पाकिस्तान सीमा क्षेत्र की ओर जा सकते हैं.

    इसे भी पढ़ें: कृषि राज्य मंत्री ने कहा-प्रायोजित था ट्रैक्टर आंदोलन, बहकावे में न आएं किसान

    राजस्थान, गुजरात में गुलाबी, पीली टिड्डियां सक्रिय

    26 और 27 जुलाई को भी राजस्थान और गुजरात के 10 जिलों में टिड्डी नियंत्रण अभियान चलाया गया. इनमें प्रमुख तौर पर जैसलमेर, बाड़मेर, जोधपुर, बीकानेर, चूरू, नागौर, झुंझुनू, हनुमानगढ़, श्रीगंगानगर और कच्छ शामिल है. इन क्षेत्रों में गुलाबी और पीली टिड्डियों के झुंड सक्रिय हैं.

    locust attack threat, FAO, ministry of agriculture, tiddi dal, locust control by Drone and Helicopter, टिड्डी हमले का खतरा, एफएओ, कृषि मंत्रालय, टिड्डी दल, ड्रोन और हेलीकाप्टर द्वारा टिड्डी नियंत्रण
    दोबारा बढ रहा है टिड्डियों का खतरा (Demo Pic)


    उधर, केंद्र सरकार का दावा है कि 11 अप्रैल से अब तक 10 राज्यों में लगभग 4.3 लाख हेक्टेयर एरिया में टिड्डियों पर नियंत्रण कर लिया गया है. मध्य प्रदेश, पंजाब, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, हरियाणा, उत्तराखंड और बिहार में भी ऐसा ही काम चल रहा है.

    इसे भी पढ़ें: पानी से भी कम दाम पर बिक रहा गाय का दूध

    केंद्रीय कृषि मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि अभी कीटनाशक छिड़काव वाहनों के साथ 104 केंद्रीय नियंत्रण दलों को राजस्थान और गुजरात में तैनात किया गया है. इसमें दो सौ से अधिक कर्मचारी लगे हुए हैं.

    15 ड्रोन भी तैनात

    राजस्थान में बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर, नागौर और फलोदी जिलों में ऊंचे पेड़ों और दुर्गम क्षेत्रों पर मौजूद टिड्डियों को कीटनाशकों के छिड़काव के जरिए मारने के लिए 15 ड्रोनों के साथ 5 कंपनियों को तैनात किया गया है. यहां के रेगिस्तानी क्षेत्र में एक बेल हेलीकॉप्टर तैनात किया गया है. भारतीय वायु सेना भी एमआई -17 हेलीकॉप्टर की मदद से टिड्डी विरोधी ऑपरेशन का संचालन कर रही है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.